Breaking News

जिले की प्राथमिक कृषि साख सहकारी समितियों में कोई फर्जी ऋण नहीं- राठौर 

मंदसौर। जिला सहकारी केंद्रीय बैंक मर्यादित मंदसौर की 104 एवं जिला नीमच की 68 इस प्रकार कुल 172 प्राथमिक कृषि सहकारी समितियों के माध्यम से वितरित अल्पकालीन कृषि ऋणों में कोई फर्जीवाड़ा नहीं हैं। बैंक अध्यक्ष मदनलाल राठौर के द्वारा एक प्रेस नोट में दी गई जानकारी में बताया कि मध्यप्रदेश शासन की जय किसान फसल ऋण माफी योजना में प्रदेश स्तर से जो समाचार प्र्रकाशित हो रहे हैं, उनसे जिला मंदसौर के अल्पकालीन कृषि ऋणों का कोई संबंध नहीं हैं। फर्जी ऋण के संबंध में जो समाचार प्रकाशित हुए हैं, वे बैंक के पूर्व कार्यकाल के दौरान जिला नीमच की शाखाओं नीमच शहर, जीरन और सावन की ब्रांचों में वेयर हाऊस की पर्चियों के तारण ऋण में हुए फर्जीवाडे़ से संबंधित हैं। इस फर्जी ऋण का किसानों के अल्पकालीन फसल ऋण से कोई संबंध नहीं हैं। वेयर हाऊस की पर्चियों पर फर्जी ऋण प्रकरण में संलिप्त संबंधित शाखाओं के शाखा प्रबंधकों एवं वेयर हाऊस मालिकों के खिलाफ पुलिस कार्यवाही मेरे कार्यकाल के दौरान करवाई गई हैं और वे प्रकरण पुलिस थाना नीमच और बघाना में दर्ज होकर गिरफ्तारियां हुई हैं व प्रकरण न्यायालय में विचाराधीन हैं। साथ ही श्री राठौर ने आगे बताया कि बैंक अध्यक्ष के नाते जिला कलेक्टर नीमच की अध्यक्षता में गठित गबन/धोखाधड़ी की बैठक में उक्त प्रकरण को समय-समय पर सम्मिलित करवाया जाकर यथा-योग्य निर्णय पारित करवाए गए हैं, तथा वर्तमान बैंक संचालक मंडल के द्वारा भी उक्त प्रकरण में आगामी कार्यवाही किए जानें हेतु प्रस्ताव पारित कर अपेक्स बैंक एवं आयुक्त सहकारिता एवं पंजीयक मध्यप्रदेश शासन भोपाल को भेजे गए हैं, जिसकी कार्यवाही शीर्ष स्तर पर अपेक्षित हैं।

श्री राठौर ने आगे जानकारी देते हुए यह भी बताया कि मध्यप्रदेश शासन की जय किसान फसल ऋण माफी योजना के अंतर्गत बैंक से संम्बद्ध प्राथमिक कृषि साख सहकारी समितियों के पात्र कृषकों की सूचियां जिला मंदसौर एवं नीमच में ग्राम पंचायत स्तर पर प्रदर्शित हो चुकी हैं और दोनों जिलों के कुल पात्र दो लाख सात हजार कृषकों में से अभी तक एक लाख बहत्तर हजार के लगभग ऋण माफी के फॉर्म कृषकों द्वारा पंचायतों में जमा करवा दिए गए हैं। अभी तक किसी भी कृषक के द्वारा फर्जी ऋण संबंधी कोई शिकायत बैंक को प्राप्त नहीं हुई हैं। प्रदेश स्तरीय समाचार पत्रों में भी जिला मंदसौर के फर्जी ऋण संबंधी जो समाचार प्रकाशित हुए हैं, वे फसल ऋण के नहीं होकर वेयर हाऊस की पर्चियों पर हुए फर्जी ऋण से संबंधित प्रकरण हैं, जिसका मध्यप्रदेश शासन की अल्पकालीन फसलीय ऋण योजना से कोई संबंध नहीं हैं। श्री राठौर ने आगे यह भी कहा कि जिला सहकारी बैंक मंदसौर प्रदेश का सर्वाेत्कृष्ट सहकारी बैंक हैं, और हमारे कार्यकाल में बैंक ने लगातार उपलब्धियां अर्जित कर बैंक को लगातार लाभान्वित किया हैं। श्री राठौर ने आगे यह भी बताया कि संस्था स्तर या शाखा स्तर पर कोई गबन या धोखाधडी के प्रकरण प्रकाश में आए हैं, तो बैंक की ओर से तत्काल यथा योग्य कार्यवाही की गई हैं व दोषियों के विरूद्ध दंडात्मक कार्यवाही संपादित की गई हैं।

About The Author

I am Brajesh Arya

Related posts