Breaking News

टायर फैक्ट्री में फिर लगी आग, उत्तेजित नागरिकों ने किया हंगामा

मंदसौर। मुल्तानपुरा में स्थित टायर फैक्ट्री में आग लगने से भारी नुकसान होने की आशंका व्यक्त की जा रही है। वायडी नगर पुलिस के अनुसार टायर फैक्ट्री के बॉयलर में गुरूवार की प्रातः 10.30 बजे अचानक आग लगने से फैक्टरी में अफरा तफरी का महौल निर्मित हो गया। हालांकि तत्काल दमकलों ने पहंुचकर आग पर काबू पा लिया था। आगजनी में किसी भी प्रकार की जनहानि नहीं हुई है।

घटना के बाद आक्रोशित नागरिकों ने फैक्टरी परिसर में जाकर हंगामा करते हुए कहा कि इस फैक्टरी के कारण हमें हमेशा भय के माहौल में जीना पड़ रहा है। यही नहीं फैक्टरी के कारण मुल्तानपुरा में प्रदूषण की मार भी ग्रामीणों पर पड़ रही है। बार – बार आगजनी की घटना के बाद जिम्मेदार वर्ग इस ओर ध्यान देने को तैयार नहीं है।

तमाम अनियमितताओं के साथ मुल्तानपुरा क्षेत्र में संचालिक भाजपा जिला महामंत्री महेंद्र चौरड़िया के पुत्र की पुराने टायर से ऑइल निकालने की फैक्टरी में गुरुवार सुबह फिर आग लग गई। पहले बायलर के यहां जोरदार धमाका हुआ और फिर आग फैल गई। यहां रखे पुराने टायरों के चलते आग तेजी से फैली। वहां काम कर रहे मजदूर भी बाल-बाल बच गए। फैक्टरी में फायर सेफ्टी नहीं होने से आग काफी बढ़ गई। इसे बुझाने में पांच फायर ब्रिगेड लग गई। आठ माह पहले जनवरी में भी इस फैक्टरी में आग लग गई थी। तब पांच मजदूर जल गए थे जिनमें से दो की मौत हो गई थी। बार-बार फैक्टरी में आग लगने से नाराज ग्रामीणों ने वहां रखे वाहनों और फैक्टरी के ऑफिस में तोड़फोड़ कर दी। बाद में सभी को समझाइश देकर हटाया गया।

जानकारी अनुसार गुरुवार सुबह लगभग 10.30 बजे मुल्तानपुरा-रलायता मार्ग पर स्थित भाजपा जिला महामंत्री महेंद्र चौरड़िया के पुत्र की फैक्टरी में लगे बायलर में जोरदार धमाके के बाद आग लग गई। धमाके की आवाज से मुल्तानपुरा गांव में अफरातफरी मच गई। फैक्टरी में पुराने टायर और अन्य ज्वलनशील पदार्थ होने के कारण आग ने विकराल रुप ले लिया। सीएसपी नरेंद्र सोलंकी, वायडी नगर टीआई सहित पुलिस बल मौके पर पहुंचा। मंदसौर नगर पालिका सहित आस-पास की नगर परिषद की दमकलों को बुलाया गया। डेढ़ घंटे की मशक्कत के बाद पांच दमकलों की मदद से आग पर काबू पाया गया। इस दौरान ग्रामीण आक्रोशित हो गए। और उन्होंने वहां खड़े वाहनों के कांच फोड़ दिए। साथ ही ऑफिस में भी तोड़फोड़ कर दी। आगजनी का कारण बायलर फटना बताया जा रहा है।

मुल्तानपुरा में अफरा-तफरी

वायडी नगर थाना प्रभारी एसएल बौरासी ने बताया कि टायर से आइल बनाने की फैक्टरी में आग लगने से मुल्तानपुरा में अफरा-तफरी मच गई। आक्रोशित ग्रामीणों ने फैक्टरी के पास खड़ी जेसीबी और कार के कांच तोड़ने के बाद फैक्टरी के ऑफिस पर भी तोड़फोड़ कर दी। बाद में सीएसपी नरेंद्रसिंह सोलंकी ने मौके पर पहुंचकर मामला शांत किया।

विस्फोट की आवाज आई थी

ग्रामीणों ने बताया कि फैक्टरी में विस्फोट, टंकी फटने की आवाज आई थी उसके बाद देखते ही देखते आग लग गई। धुएं के गुबार दिखने लगे। आग पर काबू पाने के लिए मंदसौर, पिपलियामंडी, नारायणगढ़, मल्हारगढ़, दलौदा आदि स्थानों से दमकलों को बुलाया गया, तब जाकर डेढ़ घंटे की मशक्कत के बाद आग पर काबू पाया गया।

जनवरी में भी लगी थी भीषण आग

जिला महामंत्री महेंद्र चौरड़िया की फैक्टरी में इसी साल 20 जनवरी को भी आग 3लग गई थी। जो 72 घंटे बाद बुझी थी। इस अग्निकांड में पांच मजदूर गंभीर रूप से झुलस गए थे। जिला चिकित्सालय से प्राथमिक उपचार के बाद उन्हें इंदौर रेफर किया गया था। वहां उपचार के दौरान राजू और नरेंद्र की मौत हो गई थी। दो मजदूरों की मौत के बाद वायडी नगर पुलिस ने इस मामले में फैक्टरी मालिक के खिलाफ भादसं की धारा 304 ए के तहत मुकदमा भी दर्ज किया था। पर उस मामले में अभी तक कोई कार्रवाई नहीं हुई है।

एसडीएम, सीएसपी ने भी की थी खानापूर्ति

तत्कालीन कलेक्टर धनराजू एस ने एक जांच समिति बनाई थी। जिसमें तत्कालीन एसडीएम एसएल शाक्य, सीएसपी राकेश मोहन शुक्ला व अन्य अधिकारियों को रखा था। पर सभी ने जांच रिपोर्ट में भी पूरी तरह खानापूर्ति करते हुए फैक्टरी प्रबंधन को पाक साफ करार दिया था। जबकि फैक्टरी प्रबंधन पर भी सरकारी जमीन पर अतिक्रमण करने का आरोप लगाया था।

कार्रवाई की जाएगी

– महेंद्र चौरड़िया के पुत्र की फैक्टरी में आग लगी है। यहां पुराने टायरों से ऑइल निकाला जाता है। आग पर नियंत्रण कर लिया है। शुरूआती तौर पर कुछ लोगों ने तोड़-फोड़ की थी उनके खिलाफ वैधानिक कार्रवाई की जाएगी। ग्रामीणों का कहना है कि पहले भी इसी फैक्टरी में आग लगी थी। इस संबंध में जिला प्रशासन से समन्यव करके कार्रवाई की जाएगी।-नरेंद्रसिंह सोलंकी, सीएसपी।

 

About The Author

I am Brajesh Arya

Related posts