Breaking News

डीपी सुधारने चढ़े 3 कर्मचारी करंट से घायल

विद्युत विभाग की लापरवाही के कारण कर्मचारियों की जान जा रही है। इसके बावजूद विभाग की व्यवस्थाओं को सुधार पर अधिकारी ध्यान नहीं दे रहे हैं। रविवार को भी इसी तरह की घटना हुई जब शहर में एक डीपी पर काम कर रहे मंदसौर के 3 टेक्नीशियन अचानक सप्लाई शुरू होने पर घायल हो गए। जिन्हें उपचार के बाद मंदसौर रैफर कर दिया।

मूलचंद मार्ग स्थित खारी कुआं के समीप विद्युत विभाग की डीपी है। यहीं पर निजी मोबाइल कंपनी के टॉवर में बिजली सप्लाय के लिए कंपनी ने अलग से डीपी लगा रखा है। रविवार को मंदसौर से तीन कर्मचारी डीपी सुधारने के लिए आए थे। ठेकेदार प्रदीप शुक्ला ने बताया सुबह 9 से दोपहर 2 बजे तक बिजली कंपनी से सप्लाय बंद करने की अनुमति ली थी। दोपहर दो बजे तक मेंटेनेंस काम पूरा नहीं हुआ। इसी दौरान बिजली विभाग से कर्मचारी जानकारी लेने पहुंचा। जिसे काम कर रहे कर्मचारियों ने डेढ़ घंटे और समय बढ़ाने को कहा। उसके द्वारा विभाग को फोन कर बिजली सप्लाय 3.30 बजे तक बंद करने का कहा। लेकिन 10 मिनट बाद ही सप्लाय शुरू कर दिया। इससे मेंटेनेंस कर रहे श्यामलाल पिता हीरालाल गायरी (28) निवासी नालछामाता नीचे आ गिरा। उसके साथी श्यामलाल पिता रामेश्वर मालवीय निवासी शेषपुरिया और रामदयाल पिता उदयराम कुमावत निवासी शेषपुरिया जिला मंदसौर भी चपेट में आ गए। तत्काल आसपास के लोग पहुंचे और तीनों को जिला अस्पताल पहुंचाया। जहां प्राथमिक उपचार के बाद छुट्टी दे दी गई। इस मामले में सहायक यंत्री ने डीके बाल्दी से संपर्क करने की कोशिश की गई लेकिन मोबाइल नो रिप्लाय रहा।

एक महीने में दूसरी घटना : बिजली मेंटेनेंस के नाम पर कर्मचारियों को खंबो पर चढ़ा दिया जाता है। लेकिन बिजली सप्लाय पर ध्यान नहीं दिया जा रहा है। इसके कारण एक महीने में कर्मचारियों को करंट लगने की यह दूसरी घटना है। लक्ष्मीनारायण पिता कन्हैयालाल उपाध्याय (55) निवासी संडिया 6 अक्टूबर को मनासा के खजूरी में ग्रिड पर मेंटेनेंस के लिए पहुंचा। फोन पर बिजली सप्लाय बंद करने को कहा। 20 मिनट बाद ग्रिड पर चढ़ा तो बिजली सप्लाय बंद नहीं होने से उसकी करंट लगने से मौत हो गई थी। इसके बाद रविवार को खारी कुआं क्षेत्र में यह दूसरी घटना हुई।

About The Author

I am Brajesh Arya

Related posts