Breaking News

डॉ. अम्बेडकर जागृति मंच ने आरक्षण बचाने व एट्रोसिटी एक्ट को 9 अनुसूची में डालने की मांग लेकर किया विशाल प्रदर्शन

सभा आयोजित हुई, रैली निकली, दिया ज्ञापन

मन्दसौर। डॉ. अम्बेडकर जागृति मंच द्वारा रविवार 23 सितम्बर को आरक्षण बचाने, एसएसटी एट्रोसिटी एक्ट को 9वीं अनुसूची में डालने एवं ओबीसी को जनसंख्या के अनुपात में लोकप्रशासनिक सेवाओं में आराण देने व संविधान का अपमान करने वालों के विरूद्ध कार्यवाही आदि मांगों को लेकर संजय गांधी उद्यान में सभा आयोजित की तथा वहां से रैली के रूप में बीपीएल चौराहा, गांधी चौराहा, उधमसिंह चौराहा होते हुए अम्बेडकर चौराहा पहुंचे जहां महामहिम राष्ट्रपति एवं प्रदश के राज्यपाल के नाम एक ज्ञापन एसडीएम एस.एल. शाक्य एवं सीपीएस राकेश मोहन शुक्ल को प्रदान किया गया। रैली में उपस्थित हजारों लोगों ने आरक्षण बचाने के  संबंध में नारे लगाये।
संजय गांधी उद्यान में सभा को मुख्य अतिथि दलित पिछड़ा अधिकार मोर्चे के प्रदेश अध्यक्ष हुकुमचंद गेहलोत ने संबोधित करते हुए कहा कि हमारे किसी वर्ग विशेष से विरोध नहीं होकर विचारधारा से विरोध है। हमारे वर्ग के विरोध में विचारधारा रखने वाले लोगों से हमे सावधान रहना है। डॉ. अम्बेडकर जागृति मंच के प्रदेश संयोजक रामलाल लोदवार ने कहा कि आरक्षण सरकार द्वारा अ.जा./अजजा वर्ग के लिये चलाये जाने वाला गरीबी उन्मूलन कार्यक्रम नहीं है बल्कि यह समाज के शासन और प्रशासन में भागीदारी को निश्चित कर निरंतर जारी रखने का एक कानूनी प्रावधान है। इस अवसर पर मंच के संस्थापक पृथ्वीराज परमार, पी.सी. चौहान, अपाक्स जिलाध्यक्ष चेतनदास गन्छेड़, अजाक जिलाध्यक्ष रूघनाथ पोखरवाल, गुर्जर गायरी समाज प्रमुख श्री कचरूलाल चड़ावत, मेघवाज समाज के प्रदेश अध्यक्ष रामेश्वर राठौर, सकल जटिया समाज के राष्ट्रीय अध्यक्ष बालचंद वर्मा, वरिष्ठ समाजसेवी जंगीबाबू तंवर, अ.भा. वाल्मिकी महासभा के राष्ट्रीय सचिव जीवन गौसर, मालवीय बलाई समाज जिलाध्यक्ष भागीरथ मालवीय, मंच के गरोठ तह. अध्यक्ष मनोज सोनगरा उधमसिंह जनमंच अध्यक्ष नागेश्वर सूर्यवंशी, शोभाराम सूर्यवंशी, पीटर भूरिया, हेमन्त रांगोठा, ब्रदीलाल धनगर, अर्जुनसिंह मेहर, डॉ. राजेश सकवार, मोहन रैदास, मारवाड़ी जीनगर समाज प्रमुख वर्षा सांखला भी मंचासीन थे।
संजय गांधी उद्यान से हजारों की संख्या में नागरिक पैदल रैली के रूप में निकले। विभिन्न मार्गों से होते हुए डॉ. अम्बेडकर चौराहा पहुंचे। उधमसिंहसिंह एवं डॉ. अम्बेडकर की प्रतिमा पर माल्यार्पण करने के पश्चात् राष्ट्रपति के नाम ज्ञापन दिया गया। ज्ञापन में प्रमुख रूप से कहा गया की गई कि आरक्षण आर्थिक नहीं जाति आधार पर ही होना चाहिए क्योंकि भेदभाव जाति आधार पर होता है आर्थिक आधार पर नहीं। ओबीसी को जनसंख्या अनुपात में आरक्षण दिया जावे। ओबीसी क्रिमीलेयर समाप्त किया जावे। ओबीसी को देश की सभी विधानसभा व राज्यसभा एवं लोकसभा में जनसंख्या आधार पर आरक्षण लागू करे। एससीएसटी एट्रोसिटी एक्ट को 9वीं अनुसूची में डाला जावे। वर्तमान में जो आरक्षित वर्ग को भयभीत किया जा रहा है उनके विरूद्ध संवैधानिक र्कावाही एट्रोसिटी एक्ट के तहत की जावे। एकल पद भर्ती प्रक्रिया बंद की जावे। म.प्र सहित पूरे देश में खाली बेकलाग पदों की पूर्ति ईमानदारी से से की जावे। हाईकोर्ट, सुप्रीम कोर्ट में आरक्षण लागु किया जावे। एससीएसटी अभिभाषकों को अधिनस्थ न्यायालय एवं जिला व विशेष न्यायालय जीपी एजीपी पैनल लॉयर में नियुक्त किया जावे नोटरी व शपथ आयुक्त नियुक्त किया जावे।  जाति धर्म के नाम पर उपद्रव करने वाले पर कठोर कार्यवाही हो। आउट सोर्सिंग नियुक्तियां बंद हो और सरकार पदों पर पूर्तिया करे। एससीएसटी के लोगांे पर सामान्य वर्ग के लोगों द्वारा किये जा रहे दुर्व्यवहार, अत्याचार, अमानवीय व्यवहार आदि पर एट्रोसिटी एक्ट के तहत कार्यवाही हो सहित आदि मांगे रखी।
ज्ञापन का वाचन पृथ्वीराज परमार ने किया। संचालन के.सी. सौलंकी एवं सुखलाल चरेड़ ने किया। आभार डॉ. अम्बेडकर जागृति मंच अध्यक्ष गणपत तेलीवार एड. ने माना। इस अवसर पर रघुनंदन श्रीमाल, नरेन्द्र बुज, शंकरलाल बामनिया, गोपाल जाटव, बंशीलाल बसेर, केशरीमल जटिया, धर्मेन्द्र जटिया, शाही कुमार बोध, इंदरमल जाटव, कैलाश मिमरोट, दिनेश जाटव, विनोद जाटव, डॉ. आर.पी. वर्मा सहित हजारों की संख्या में नागरिक उपस्थित थे।

चढ़ गया नीला रंग : मंदसौर आरक्षण के समर्थन में आयोजित रैली

Posted by Brajesh Arya on Sunday, 23 September 2018

About The Author

I am Brajesh Arya

Related posts