Breaking News

डोड़ाचूरा और मार्फिन नीति को सरकार को पुनः विचार करने की आवश्यकता

क्यों क्षेत्रिय जनप्रतिनिधि किसानों की बात नहीं पहुॅचपायें सरकार तक – सौमिल नाहटा

मन्दसौर। विगत् दिनों जहाॅ पूरा देश दीपावली का त्यौहार मना रहा था वहीं क्षेत्र के कई किसान नई अफीम नीति को लेकर शोक में बैठे थे। नई अफीम नीति से हजारों की संख्या में किसानों के पट्टे कटेगे। जिससे पहले से ही पीडित और शोषित किसान और परेशानी में आ जायेगा।

उक्त बात कहते हुए युवा कांग्रेस के लोकसभा अध्यक्ष सौमिल नाहटा ने बताया कि नई अफीम नीति से क्षेत्र के किसानों में मायूस व आक्रोशित है। श्री नाहटा ने कहा कि पहले सरकार के आदेश के बाद ही किसानों ने औसत आधार पर अफीम वर्तमान वर्ष में तुलवाई थी परन्तु किसानों के साथ नई अफीम नीति में घोर अन्याय हुआ है। श्री नाहटा ने कहाा कि नई अफीम नीति के अनुसार  जिन किसानों ने अच्छी औसत के आधार पर अफीम विभाग को दी थी उनके पट्टे कम मार्फिन के आधार पर काट दिये गये है या काट दिये जायेगे जो कि किसानों के साथ अन्याय है। श्री नाहटा ने कहा कि पहले से ही क्षेत्र का किसान बहुत परेशान है और अब नई अफीम नीति ने उसे और परेशानी में डाल दिया है। क्षेत्र के भाजपा के जनप्रतिनिधि एक बार फिर किसानों की आवाज उठाने में फेल हुए है। क्यों क्षेत्र के जनप्रतिनिधि किसानों की बात सरकार तक नहीं पहुॅचा पा रहे है यक एक बड़ा प्रश्न है। आज हजारों की संख्या में किसानों के पट्टे कट रहे है यह क्षेत्र के जनप्रतिनिधियों की निष्क्रियता का ही कारण है।

सौमिल ने कहा कि नई अफीम नीति पर सरकार को पुनः विचार करना चाहिए। और ज्ञापन देकर इतिश्री करने से कुछ नहीं होगा। श्री नाहटा ने कहा कि यदि सरकार ने नई अफीम नीति में संसोधन नहीं किया तो युवा कांग्रेस द्वारा आंदोलन किया जायेगा।

About The Author

I am Brajesh Arya

Related posts