Breaking News

तीन लुटेरों को चार-चार वर्श का सश्रम कारावास व एक-एक हजार रूपये का अर्थदण्ड

मन्दसौर। पुलिस थाना व्हाय.डी.नगर जिला मन्दसौर के एक प्रकरण में अपर सत्र न्यायाधीष श्री ए.आर.एल.यादव द्वारा लूट के एक प्रकरण में आरोपी रईस पिता रूस्तम मेवाती, इकबाल पिता चाँदखाँ मेवाती निवासी बुलगढ़ी तथा साजिद पिता अनवर खाँ मेवाती निवासी दौलतपुरा को दिनांक 24.05.2015 को उनके द्वारा की गई हाई-वे पर लूट के प्रकरण में चार-चार वर्श का सश्रम कारावास तथा एक-एक हजार रूपये अर्थदण्ड की सजा से दण्डित किया है।

लोक अभियोजक श्री प्रफुल्ल यजुर्वेदी ने जानकारी देते हुए बताया कि दिनांक 24.05.2015 को रात्री 8.00 बजे के लगभग ग्राम पलथान जिला प्रतापगढ़ राजस्थान निवासी गणपत पिता कँवरलाल जाट, उसकी पत्नि ललिता जाट के साथ अपने मामा के यहाँ ग्राम रलायता से मिलकर उनके गाँव पलथान जा रहे थें, कि तीन नकाबपोष बदमाषों ने हाईवे पर फैक्ट्री व दरगाह के सामने उनकी मोटरसायकिल को लात मारकर गिरा दिया तथा लूटेरों ने उसके पास रखे 70,000/- रूपये नगद तथा उसकी पत्नि ललिता के गले में पहना हुआ मंगलसूत्र व 400/- रूपये लूट लिये व धमकी दी कि पुलिस में रिपोर्ट की तो जान से खत्म कर देगें।

गणपतलाल द्वारा घटना की रिपोर्ट दिनांक 27.05.2015 को पुलिस थाना व्हाय.डी.नगर पर की, पुलिस द्वारा आरोपी रईस से मंगलसूत्र एवं 2,100/- रूपये तथा आरोपी इकबाल से 53,000/- रूपये व आरोपी साजिद से 10,300/- रूपये तथा महिला का पर्स जप्त किया गया। प्रकरण में गणपतलाल द्वारा लूटेरों की पहिचान की गई, जबकि महिला ललिता जिसका मंगलसूत्र व पर्स छीना गया था व मंगलसूत्र व पर्स की पहिचान की कार्यवाही में भाग लिया गया था, के पुलिस व अभियोजन अधिकारियों द्वारा धारा 161 दण्ड प्रक्रिया संहिता के अन्तर्गत न तो कथन लिये गये, न ही उसके कथन न्यायालय में प्रस्तुत किये गये।

लोक अभियोजन श्री प्रफुल्ल यजुर्वेदी द्वारा उक्त महिला को प्रकरण की साक्ष्य सूची में सम्मिलित करने तथा न्यायालय में कथन करवानें हेतु आवेदनपत्र प्रस्तुत किया गया। प्रकरण में महिला ललिता एवं गणपतलाल सहित 10 साक्षीगण के कथन कराये गये। अभियोजन साक्षीगण के साक्ष्य के आधार पर माननीय विद्वान न्यायाधीष महोदय द्वारा आरोपीगण के विरूद्ध धारा 394 भा.द.वि. के अपराध में तीनों आरोपीगणों के विरूद्ध अपराध को प्रमाणित मानते हुए आरोपीगण को दोशसिद्ध माना।

प्रकरण में अभियोजन की ओर से सफल पक्ष समर्थन लोक अभियोजक श्री प्रफुल्ल यजुर्वेदी द्वारा किया गया।

About The Author

I am Brajesh Arya

Related posts