Breaking News

दरअसल दोष हमीद अंसारी का नहीं कांग्रेसी कलचर का है…… 

यह एक विडंबना है की कांग्रेस, हमेशा से ही, मुसलमानों को अपने दामाद की तरह समझती चली आ रही है, और भारतीय जनता पार्टी, मुसलमानों को, अपना छोटा भाई, हम अपने दामाद की गलतियों को तो नजरअंदाज कर सकते हैं लेकिन छोटे भाइयों की, गलतियों को कभी माफ़ नहीं करते, कांग्रेस ने ऐसा ही किया उसे अपने दामाद की तरह ट्रीट किया, और हमीद अंसारी मनमाने वक्तव्य देता रहा, उपराष्ट्र पति पद पर रहते हुए भी उसने कई बार ऐसे वक्तव्य दिए हैं, जो उसकी अलगाववादी सोच को प्रकट करते हैं.. अगर समय रहते कांग्रेस ने या हाईकमान ने, अंसारी को रोका होता तो वह इस प्रकार का बयान नहीं देते, लेकिन उन्होंने सोचा कि हम तो इस देश के दामाद हैं हम जो कहेंगे वही होगा तो यह उनकी मूर्खता है…. राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी ने भी अभी राष्ट्रपति पद से विदाई ली है, और एक गरिमापूर्ण तरीके से वह विदा हुए हैं लेकिन हामिद अंसारी अपने मुख पर कालिख पोत कर विदा हुए हैं…. अंसारी ने जीवन में चाहे कितने ही अच्छे कार्य किए हो लेकिन यह विदाई इतिहास के काले पन्नों में घृणित रुप से लिखी जाएगी, भविष्य जब भी इसका अवलोकन करेगा.. हमीद अंसारी को अच्छा नहीं कहेगा!

 

Post source : अशोक संचेती

About The Author

I am Brajesh Arya

Related posts