Breaking News
श्री तीन छत्री बालाजी मंदिर – मंदसौर

श्री तीन छत्री बालाजी मंदिर - मंदसौर

मंदसौर शहर के खानपुरा क्षेत्र में माँ शिवना के पावन तट पर सुरम्य वातावरण में नागारूण्डी पर स्थित अति प्राचीन तीन छत्री श्री बालाजी धाम रावण की प्रतिमा के निकट स्थित है। इस मंदिर में दक्षिण मुखी बालाजी विराजित है। जिनके सामने की और राम जानकी मंदिर में राम जी लक्ष्मण जी व माँ सीता भी विराजित है। मंदिर परिसर में बालाजी मंदिर के पीछे की और भैरवनाथ भी विराजित है। रावण की प्रतिमा के पास ही मंदिर में प्रवेश के लिए एक भव्य मुख्य द्वार बना हुआ है। एक रेखा में  मंदिर की तीनों छत्रीयां स्थापित है इसलिए इसे तीन छत्री बालाजी के नाम से जाना जाता है।

मंदिर का मुख्य द्वार मंदिर से कुछ ही दूरी पर रावण की प्रतिमा के निकट स्थित है मंदिर के मुख्य द्वार से मंदिर परिसर शुरू होता है जो मंदिर के चारो और फैला हुआ है परिसर में तीनों मंदिर राम जानकी मंदिर, बालाजी मंदिर और भैरवनाथ मंदिर एक ही सीध में एक सीधी रेखा में विराजित है और यह तीनो मंदिर एक छत्रीनुमा सरंचना में बने हुए है मान्यता है की यह तीनो छत्री किसी सिद्ध ऋषि द्वारा स्थापित की गई थी जिसमे मध्य की छत्री में दक्षिण मुखी बालाजी विराजित थे इसलिए इस मंदिर को तीन छत्री बालाजी के नाम से जाना जाने लगा। मंदिर परिसर में एक और बालाजी का मंदिर है जो नागा रूंडी वाले बालाजी के नाम से विख्यात है। नागा रूंडी वाले बालाजी के निकट एक शिवलिंग भी स्थापित है। मंदिर की देखरेख वर्तमान परमपूज्यनीय गुरुजी श्री श्री 108 श्री रामकिशोर दास जी महाराज द्वारा की जा रही है।

परमपूज्यनीय गुरुजी श्री श्री 108 श्री रामकिशोर दास जी महाराज
परमपूज्यनीय गुरुजी श्री श्री 108 श्री रामकिशोर दास जी महाराज

परमपूज्यनीय गुरुजी श्री श्री 108 श्री रामकिशोर दास जी महाराज