Breaking News

देश के जाने-माने शायरों ने नाहर सय्यद मेले में भाग लिया

मंदसौर। मुस्लिम एकता का प्रतीक हजरत नाहर सय्यद की दरगाह पर तीन दिवसीय कौमी एकता उर्स व राष्टिय एकता मेला का आयोजन दरगाह कमेटी द्वारा किया जा रहा है। मंगलवार की रात्रि को दरगाह कमेटी द्वारा ऑल इंडिया मुशायरा का आयोजन किया गया। रात 8 बजे से रात्रि 10 बजे तक आयोजित हुए इस ऑल इडिया मुशायरा में देश व प्रदेश के जाने माने शायरो ने सहभागीता की और ***** मुस्लिम एकता की कई पंक्तिया पडी।

पहले की चादर पेश बाद में मुशायरा
इस मुशायरे के पहले सभी शायरों ने हजरत नाहर सय्यद बाबा की दरगाह पर चादर पेश कर जियारत की। इस मुशायरा का संचालन करते हुए देवास से आए जाने-माने शायर इस्माईल नजर ने ***** मुस्लिम भाईचारे को मजबुत करने वाली पंक्तिया पडी और सभी का मन मोह लिया। उत्तरप्रदेश के आए शायर नदीम अनवर ने नाते पाक के साथ मुशायरे ने थे पंिक्तया पडी। मंदसौर के शायर सुरेंद्र पहलवान ने दरगाह की जियारत पर पंक्तियां पड़ी। बासवाडा से आए शायर जाज अकमल ने मुझे भी लीजिये अपनी पनाहों में उलझ गया हू गुनाहों में भोपाल की साबिया असर ने यह पंक्तियां पड़ी। अंजुम जौहरी ने मक्का मदिना के महत्व पंक्तियों में बताया। जहाज देबवंदी ने हास्य व्यंग की कई पंक्तियां पढ़ी। भोपाल की साबिया असर ने श्रृंगार रस की कवितांए पढ़ी। इस अवसर पर नागौरी ने शायरों का अच्छी शायरी पडने पर कई बार इस्तकबाल भी किया। इस अवसर पर समाजसेवी राजु चावला, शेहजाद पटेल, शेर मो खान सहित कई गणमान्य नागरिक भी उपस्थित थे। मुशायरे में नाहर सय्यद मस्जिद के पेश इमाम ने भी सहभागीता की। इस अवसर पर सभी शायरों का स्वागत हजरत नाहर सय्यद दरगाह कमेटी के पूर्व सदर भूरेखां मेव, सदर इमरान खा मेव, नायब सदर निसार खां मेव, सेकेट्री इस्माईल चौधरी, खंजाची न्याय अहमद सेठ, कानुनी सलाहकार अमजद खान, सदस्य अनिस खान, नाहरू खां मेव, सईद खान, अहमद खान, हबीब लाला, असलम खा ने किया।

 

उर्स का आयोजन हुआ

हर साल की तरह इस साल भी हिन्दू-मुस्लिम कौमी एकता की मिसाल पेश करते हुए बाबा साहेब का सालाना जश्ने सैलानी उर्स का मुबारक आयोजन हुआ। कार्यक्रम की शुरूआत कुर्रान पढक़र शुरू किया। बैंड बाजे से चादर बस स्टैंड से घंटाघर, सदर बाजार, मंडी गेट होते हुए छील्ला शरीफ पर पेश की। विशेष रूप से सैलानी अब्दुल रशीद मंसूरी, अब्दुल कादर मंसूरी, बाबा आगर वाले, सुनिल सांखला, विजय सांखला, रवि राठौर, रफीक, अजय सरताज, विजय सरताज, यशवंत गोयल, गोपाल माली, टीकम सांखला जायरीन हाजीर थे।

श्रद्धांजलि दी गई
भारत के पुलवामा में शहीद हुए जवानों एवं न्यूजीलैंड मस्जिद पर हुए आतंकवादी हमले में मार गये लोगों को श्रद्धांजलि दी गई और दुनिया में अमन-चैन कायम रहने की दुआ की गईं। इसके बाद नमाज हुई और सभी की दस्तार बंदी कर आए हुए लोगों का स्वागत किया गया। फिर कव्वाल पार्टी ने देर रात कलाम पेश किया गया। सैलानी का लंगर शाम 5 बजे से रात्रि 12 बजे तक चला।

About The Author

I am Brajesh Arya

Related posts