Breaking News

नई आबादी पुलिस ने डोडाचूरा तो पकड़ा पर आरोपी फिर हुए फरार : पुलिस की कार्यप्रणाली शंकास्पद

मंदसौर। मादक पदार्थ तस्करी की धड़पकड के अभियान के दौरान 22. नवम्बर .2017 को थाना नईआबादी पर पदस्थ सउनि साजिद मंसूरी को जरीये मुखबिर द्वारा अवैध मादक पदार्थ डोडाचूरा की तस्करी के संबंध में सूचना प्राप्त होने पर, उक्त सूचना पर विष्वास कर सूचना की तस्दीक हेतु सउनि साजिद मंसूरी मय फोर्स एवं पंचान को तलब कर एन.डी.पी.एस. एक्ट के समस्त प्रावधानों का विधिवत् पालन कर सूचना की तस्दीक हेतु बल,पंचान, अनुसंधान सामग्री के घटना स्थल, साबाखेड़ा रोड़ पलेवना तिराहा पर कार्यवाही करते मौके से दो अज्ञात आरोपी फरार हो गए एवं वाहन क्रमांक आर.जे.-35-जीए-1289 से कुल 02 क्विंटल 79 किलोग्राम डोड़ाचूरा जप्त किया जाकर अप0क्र0 8/15 एनडीपीएस एक्ट का अज्ञात आरोपियों के विरूद्ध पंजीबद्ध किया गया।

उपरोक्त कार्यवाही में उनि जया भारद्वाज, सउनि साजिद मंसूरी, प्रआर 266 सुनिल तोमर, प्रआर चालक 254 अषोक उईके, आर0 322 मोहनलाल, आर0 225 सम्मत सिंह, आर0 149 साजिद मंसूरी का सराहनिय योगदान रहा है।

विगत् दिनों पुलिस लगातार अवैध डोडाचूरी को मय वाहन सहित पकड़ रही है। लेकिन अधिकांश मामलों में आरोपी या तो अंधेरा का लाभ उठाकर भागने की बात पुलिस द्वारा कही जाती है या फिर दिन दहाड़े आरोपी फरार हो जाते है। ऐसे मामलों में पुलिस की कार्यप्रणाली पर प्रश्नचिन्ह् लगना स्वाभाविक भी हैै। दबिश के दौरान कम से कम चार,पॉच जवान रहते ही होगे और ऐसे में एक या दो आरोपी घटनास्थल से फरार होने में सफल होते है। यह किसी के गले नहीं उतरती पुलिस प्रशासन के आला अधिकारियों को यह व्यवस्था करना चाहिए कि आरोपी को अंधेरे का लाभ न मिलें।

About The Author

I am Brajesh Arya

Related posts