Breaking News

नगरपालिका की मिलीभगत से हो रहा है अवैध निर्माण-विजय गुर्जर

Story Highlights

  • निर्माण स्थल पर लगा नगरपालिका स्वामित्व का बोर्ड भी हटाया

मन्दसौर। रेल्वे स्टेशन के पास भाजपा के नपा सभापति श्रवण रजवानिया की भूमि व आशीर्वाद गार्डन की भूमि के बीच में क्षेत्र की गली चिन्हित है। पूर्व में जब वर्तमान विधायक यशपालसिंह सिसौदिया नगरपालिका अध्यक्ष थे तो उन्होंने उस समय में इस भूमि को चिन्हित कर नगरपालिका के स्वामित्व का बोर्ड लगाया था। वर्तमान में इस गली में अवैध निर्माण शुरू होने पर बजट बैठक में अवैध निर्माण पर कार्यवाही की मांग किये जाने के बाद मीडिया की उपस्थिति में नगरपालिका के जिम्मेदार अधिकारियों द्वारा चल रहे अवैध निर्माण के कार्य को रोकने की दिखावटी कार्यवाही भी उस समय पर की थी, मगर राजनीतिक दबाव व नगरपालिका के जिम्मेदारों की मिलीभगत के चलते इस गली पर अवैध दिवाल का निर्माण कर लिया गया है। जो कि शासन-प्रशासन के लिये चिंता जनक है व मंदसौर शहर के लिये दुर्भाग्यपूर्ण है। यह जानकारी पार्षद विजय गुर्जर ने दी है।
आगे विजय गुर्जर ने बताया कि स्टेशन रोड़ पर जिस स्थान पर यह गली है, दोनों भूमि स्वामित्व के नक्षे व नामांतरण में प्लाॅटों के बीच में तीन-तीन फीट की गली दर्शायी गई है जो कि कुल 6 फीट की गली होती है। इसी आधार पर पूर्व में नगरपालिका द्वारा नगरपालिका स्वामित्व का बोर्ड भी इस स्थान पर लगाया था जो कि कई वर्षों तक लगा रहा मगर नगरपालिका के जिम्मेदारों की उदासिनता व मिलीभगत के चलते इस बोर्ड को वर्तमान में इस स्थान से हटा दिया गया और धीरे-धीरे निर्माण कार्य शुरू कर बिना अनुमति के अवैध दिवाल का निर्माण कर लिया गया है। इस संबंध में नगरपालिका अध्यक्ष प्रहलाद बंधवार, मुख्य नगरपालिका अधिकारी व जिम्मेदार अधिकारियों को लगातार अवगत कराने के बाद भी कोई ठोस कार्यवाही इस कार्य को रोकने के लिये नहीं की गई। जिसके परिणाम स्वरूप इतनी बड़ी दिवाल का निर्माण जिम्मेदारों के देखते-देखते हो गया है।
अंत में विजय गुर्जर ने प्रमुख सचिव नगरीय प्रशासन विभाग भोपाल, आयुक्त नगरीय प्रशासन भोपाल, कमिश्नर उज्जैन, उपसंचालक उज्जैन, कलेक्टर मंदसौर से मांग की है कि इस तरह शासकीय भूमियों पर अवैध निर्माण व कब्जे लगातार होने से भूमाफियाओं और अवैध निर्माण कर्ताओं के हौंसले बुलन्द होते जा रहे है। कानून का डर ऐसे लोगों में बिल्कुल समाप्त हो गया है। जिससे मंदसौर शहर में अवैध निर्माणोें की बाढ़ सी आ गई है। अतः निर्माण की गई इस दिवाल को शीघ्र तोड़ने की कार्यवाही की जावे।

About The Author

I am Brajesh Arya

Related posts