Breaking News

नगर के 15 से अधिक श्रम संगठनों का जंगी प्रदर्शन व आम सभा

मजदूर विरोधी कानून नहीं चलेंगे-नहीं चलेंगे ठेकेदारी (आउटसोर्सिंग) प्रथा बंद करो

मन्दसौर। सिटी ट्रेड यूनियन काउंसिल मंदसौर के तत्वावधान में सायंकाल गांधीचौराहा पर बैंक, बीमा, पोस्ट आफीस, बीएसएनएल, क्षेत्रीय ग्रामीण बैंक, इंटक, सीटू, तृतीय वर्ग शास. कर्मचारी संघ, म.प्र. इलेक्ट्रीसिटी बोर्ड, आशा-उषा, आंगनवाड़ी, दैनिक वेतन भोगी कर्मचारी, स्टार्च फेक्ट्री यूनियन, मेडिकल रिप्रेजेंटेटीव यूनियन, प्रगतिशील लेखक संघ, इप्टा, डिपाजिट कलेक्टर एसोसिऐशन, बैंक रिटायर्ड कर्मचारी संघ से जुड़े यूनियन के कर्मचारियो व पदाधिकारियों ने जंगी प्रदर्शन कर सभा की।

जिसमें मजदूरों के अधिकारों को मौजूदा हुकुमत द्वारा संकुचित किया जा रहा है जबकि यह कानून अंग्रेजों के जमाने में मजदूरों ने लड़कर प्राप्त किये थे। ठेकेदारी प्रथा बंद करने, कलेक्टर रेट पर निर्धारित न्यूनतम वेतन नहीं देने, संयुक्त संविदा नियुक्ति बंद करने, समान कार्य के लिये समान वेतन, सेवानिवृत्त कर्मचारियों को मिलने वाली पेंशन को आयकर से मुक्त एवं वृद्धावस्था में गंभीर बिमारियों में मेडिकल सहायता मुफ्त प्रदान करने की मांग के उद्गार निम्नलिखित पदाधिकारियों द्वारा संबोधित करते हुए की गई। व सरकार को चेतावनी दी कि यदि मजदूरों के हितों के खिलाफ कानून बनाने पर कर्मचारी उनका विरोध करने में पीछे नहीं हटेंगे। सर्व श्री महेश मिश्रा, मुन्नालाल चंदेल, एहमद हुसैन, सतीश नागर, डी.एस. चन्द्रावत, विक्रम विद्यार्थी, रेखा बैरागी, दिनेश चंदवानी, श्रीनिवास मोड़, संगीता जैन, रमेशचन्द्र जैन, नंदकिशोर शर्मा, वर्षा, माधवी सौलंकी, सूर्यप्रकाश सालगिया, अनिल जैन, रमेश देवड़ा, बी.एल. भट्ट, कमल जैन, सौभाग्यमल जैन व अन्य कई वक्ताओं ने संबोधित किया। सभा का संचालन सिटी ट्रेड यूनियन काउंसिल के सचिव महेश मिश्रा तथा आभार जिनेन्द्र राठौर ने माना।

About The Author

I am Brajesh Arya

Related posts