Breaking News

नगर पालिका ने गरीबों की निशुल्क भोजनशाला को उजाड़ा!

गरीबों को पेट भरता हुए अच्छा नहीं लगा जैन साहब को

मंदसौर। नगर के नई आबदी स्थित जैन आराधना भवन के सामने एक निशुल्क अन्नक्षेत्र संचालित किया जाता है। जहां पर प्रतिदिनि सुबह के समय 40 से 60 गरीब महिला, पुरूष व बच्चे जो अपने लिए भोजन की व्यवस्था भी नहीं जुटा पाते ऐसे व्यक्तियों के लिए विगत् 9 वर्षो से निशुल्क भोजनशाला का संचालन ट्रस्ट द्वारा आमजनों के सहयोग से किया जा रहा था। लेकिन गुरूवार 25 जुलाई को नपा ने जहां पर गरीब लोग बैठकर भोजन करते हुए उसे एक शिकायत के आधार पर ही तोड़ दिया।

प्राप्त जानकारी के अनुसार नई आबादी जैन आराधना भवन के सामने आमजनों के सहयोग से निशुल्क भोजनशाला संचालित कि जा रही थी। लेकिन भोजनशाला के सामने ही रहन वाले एक जैन साहब को गरीबों का पेट भरता हुआ अच्छा नहीं लगा और उन्होेंने सीएम हेल्पलाईन में इसकी शिकायत कर दी कि हमारे घर के सामने अतिक्रमण किया जा रहा है और झूठे बर्तन धोए जाते है। फिर क्या था सीएम हेल्पलाईन के आधार पर नपा का अमला गुरूवार को संसाधनों के साथ मौके पर पंहुचा और भोजनशाला के स्थान और प्लेटफॉर्म को तोड़ दिया।

नौ वर्षो से भर रहे गरीबों को पेट

ऐसे गरीब व्यक्ति जो अपने लिए भोजन की व्यवस्था भी नहीं कर सकते उनके लिए यह निशुल्क भोजनशाला भगवान मिल जाने के बराबर है। लेकिन कुछ लोगोे को यह भी अच्छा नहीं लगा। निःशुल्क भोजनशाला को कैलाश कर्नावट द्वारा लगातार 9 वर्षो से सेवा के भाव से संचालित किया जा रहा है।

शासन की योजनाएं हो गई बंद, पर नहीं बंद होने दी निशुल्क भोजनशाला

गरीबों को सस्ता भोजन दिलाने के वादे के अनुरूप मप्र शासन ने 5 रूपये में भरपेट भोजन देने के लिए हर जिला स्तर में केन्द्र खोले गए। लेकिन 5 रूपये में भरपेट भोजन देने की योजना सरकार की 6 माह में ही दमतोड़ गई। लेकिन जिस निशुल्क भोजनशाला को गुरूवार को ध्वस्त कर दिया गया वह लगातार 9 वर्षो से गरीबों का पेट भर रही है।

नहीं दिखता शहर का अतिक्रमण

नपा के अधिकारियों को शहर का और अतिक्रमण नजर नहीं आता उन्होनें एक शिकायत के आधार पर गरीबों की भोजनशाला तो तोड़ दी पर क्या नपा ने आज तक कोई अवैध निर्माण या अतिक्रमण तोड़ने के लिए इतनी फुर्ती दिखाई है।

About The Author

I am Brajesh Arya

Related posts