Breaking News

नगर पालिका 75 लाख के मेले मेें क्यों नहीं कर पाई शिवना शुद्धीकरण,मेले के अंदर एक और मेले की स्थिति को स्पष्ट करें नपा – श्री कुमावत

मंदसौर। किसी भी नगर को सुन्दर व व्यवस्थित बनाने के लिये उस नगर की नगर पालिका का या नगर निगम की जिम्मेदारी होती है। लेकिन यदि नगर पालिकाएॅ मंदसौर नगर पालिका की तरह भ्रष्ट हो जायें तो फिर उस नगर का बंटाढार होना निश्चित है।

उक्त बात कहते हुए युवा इंटक के जिलाध्यक्ष एवं कांग्रेस नेता सुरेन्द्र कुमावत ने एक प्रेस नोट में बताया कि नगर पालिका द्वारा वर्तमान में चल रहे भगवान पशुपतिनाथ मेले में भारी भ्रष्टाचार किया जा रहा है। मेले के लिये 60 लाख रूपये नगर पालिका ने बजट बनाया है तो वहीं मेला प्राधिकरण से मेले के लिये 15 लाख रूपये अतिरिक्त नपा मंदसौर को प्राप्त हुए 75 लाख के मेले में आधे से ज्यादा बजट तो कलाकरों पर ही खर्च कर दिया गया है जो भी गलत है।

श्री कुमावत ने कहा कि पहले मेले में धार्मिक आयोजन भी होते है जिनमें सुबह के समय मेला प्रांगण में भागवत्गीता ,शिवपुराण होती थी जिसका श्रवण करने सम्पूर्ण जिले से श्रद्धालु आते थे लेकिन विगत् के वर्षो इस तरह के धार्मिक आयोजन पूर्णतः बंद कर अश्लील कार्यक्रमों को बढ़ाया जा रहा हैं श्री कुमावत ने कहा कि पशुपतिनाथ मेले में अन्दर एक और मेला अलग से लगा है जिसमें जमकर भ्रष्टाचार हुआ है नगर पालिका को इस मेले से कितनी आय हो हुई है यह भी नपा के जिम्मेदारों को बताना चाहिए। श्री कुमावत ने कहा कि वाकई में भाजपा हिन्दूओं की शुभचिंतक है तो 75 लाख के बजट में से 1 लाख रूपये भी शिवना के लिये क्यों नहीं निकाले आज पशुपतिनाथ मंदिर पहुॅचने वाले मार्ग वाली छोटी पुलिया के समीप शिवना अत्यंत गंदी हो रही है और पानी की दुर्गध से श्रद्धालु परेशान हो रहे है। श्री कुमावत ने मांग कि है नपा मेले के अंदर चल रहे निजि मेले की स्थिति और आय स्पष्ट कर एवं शिवना नदी की भी जल्द से जल्द सुध लें।

About The Author

I am Brajesh Arya

Related posts