Breaking News

नपाध्यक्ष की हत्या में छुपा है रहस्य!

मंदसौर। नीमच जाते समय पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजयसिंह बुधवार शाम करीब आधे घंटे मंदसौर रुके। यहां गौशाला अध्यक्ष अनिल संचेती के निवास पर कांग्रेस नेताओं व कार्यकर्ताओं से मुलाकात की। नपाध्यक्ष पद पर मनोनीत होने के लिए कई पार्षदों ने भी उनसे मुलाकात कर अपना शक्ति प्रदर्शन किया। वहीं पत्रकारों से चर्चा में सिंह ने भी मंदसौर नपाध्यक्ष प्रहलाद बंधवार की हत्या में बड़ा रहस्य छुपा होने और इसमें पुलिस द्वारा गहराई से जांच करने की बात भी कही।

सिंह बुधवार शाम लगभग पांच बजे केशव कुंज स्थित संचेती के निवास पहुंचे। यहां जिलेभर के कांग्रेसी नेताओं ने उनसे मुलाकात की और स्वागत किया। पूर्व मंत्री सुभाष सोजतिया भी उनके साथ ही आए थे। यहां लगभग आधे घंटे से भी ज्यादा समय तक सिंह ने अपने चिर-परिचित अंदाज में सभी से चर्चा की और ठहाके भी लगाए।

आखिर क्यों हत्या हुई। कोई 25 हजार के लिए हत्या नहीं करता। इसके साथ उन्होंने यह भी कहा कि भाजपा के लोगों को भाजपा के लोग ही सुपारी देकर मरवा रहे है। उन्होंने आरोप लगाते हुए यह भी कहा कि 15 साल से भाजपा की सरकार थी तो इन्होंने अवैध ठेके लिए जमीनों पर कब्जे किए और कई अवैघ काम किए। अब सरकार बदल गईहै तो हिसाब-किताब में दिक्कत आ रही है।उसी का यह परिणाम है। सरकार बंधवार हत्याकांड के पूरे मामले की जांच करवा रही है।

विरोधियों को परेशान कर रही सरकार
पश्चिम बंगाल में सीबीआई अफसरों के साथ हुए घटनाक्रम को लेकर सिंह ने कहा कि सीबीआई डायरेक्टर चार्जलेने वाले थे। इसका इंतजार किया जा सकता था, लेकिन ऐसा नहीं किया है। सेंट्रल एजेंसी चाहे सीबीआई हो या ईडी या अन्य कोई यह उन लोगों के यहां छापे मारकर उन्हें परेशान करने का काम कर रही जो भाजपा के नहीं है। सीबीआई के पास भाजपा के लोगों के भी भ्रष्टाचार के प्रमाण पर्याप्त है पर वहां छापे नहीं मार रही है। विरोधियों को परेशान करने का माध्यम बना लिया है।

जो पार्टी तय करेगी वह करुंगा 
खंडवा में गोहत्या के मामले को लेकर कहा कि मामला नेशनल सुरक्षा का मुद्दा है। कानूनी की धाराओं में काम होना चाहिए। लोकसभा चुनाव लडऩे के मुद्दें पर कहा कि पार्टी जो तय करेगी वह करुंगा। चुनाव की तैयारियों के मुद्दें पर कहा कि यह सब तैयारियां ही है।गुटबाजी के मुद्दें पर कहा कि सब जगह होती है।

राम मंदिर के मुद्दें पर स्पष्ट नहीं स्टैंड 
अमित शाह के राम मंदिर के बयान पर कहा कि उनका राम मंदिर के मुद्दे पर स्टैंडही साफ नहीं है।कोई स्टैंड साफ नहीं है। साढ़े 4 साल सरकार के बीतने के बाद अब कह रहे है। जो भूमि का अधिग्रहण किया हैउनसे राम जन्मभूमि न्यास को देने की कह रहे है।मंदसौर जिले में विधानसभा चुनाव में हार के मुद्दें पर कहा कि इससे हमें निराश हैपार्टीपता लगा रही हैकारणों का। इस दौरान उनके साथ राजस्थान सरकार के मंत्री उदयलाल आंजना, विधायक हरदीपसिंह डंग, पूर्व मंत्री सुभाष सोजतिया सहित दलोदा सरपंच विपीन जैन व स्थानीय कांग्रेस नेता मौजूद थे। कांग्रेस कार्यकर्ताओं व पदाधिकारियों ने सिंह का स्वागत किया।

कईवरिष्ठ नेता रहे नदारद
शहर व जिले में कांग्रेस से जुड़े कई बड़े नेता व पदाधिकारी सिंह के मंदसौर दौर के यहां यहां दिखाईनहीं दिए। जो यहा चर्चा का विषय बना रहा है। पूर्व मंत्री नरेंद्र नाहटा सहित प्रदेश उपाध्यक्ष राजेंद्रसिंह गोतम व अन्य कईनेताओं के यहां नहीं होने के कारण कार्यक्रम स्थल पर अलग-अलग चर्चाओं का दौर चलता रहा।

भाजपा और उनकी आईटी सेल काफी निचले स्तर पर पहुंची
पत्रकारों से चर्चा में सिंह ने प्रियंका गांधी व ममता बनर्जी को लेकर सोशल मीडिया पर चल रही पोस्टों पर कहा कि भाजपा, उनका आईटी सेल और उनकी ट्रोल आर्मी इतने निचले स्तर पर राजनीति करती है कि उस पर चर्चा करना भी उचित नहीं मानता हूं। जहां तक ममता बनर्जी का प्रश्न है सीबीआई की इन्क्वायरी काफी दिनों से चल रही है। उनके जो खास मुकुल राय थे जो कि इस चिटफंड में प्रमुख व्यक्ति थे वे अब भाजपा में जा चुके हैं तो वे पाक साफ हो गए। भाजपा प्रतिशोध की भावना से काम कर रही है। उन्हें दूसरी पार्टी में ही भ्रष्टाचार नजर आता है और सारी कार्रवाई दूसरे दलों के नेताओं पर ही हो रही है। राफेल पर कोई एक शब्द भी नहीं बोलता। केंद्र सरकार सीबीआई, ईडी, आयकर विभाग सहित हर एजेंसी का राजनीतिक दुरुपयोग कर रही है। मंदसौर नपाध्यक्ष की हत्या में एक रहस्य छुपा हुआ है। कोई 25 हजार रुपए के लिए हत्या नहीं करेगा। यह राजनीतिक हत्या भी हो सकती है और इसमें कोई न कोई ऐसा गहरा रहस्य है जिसकी जांच पुलिस को रसातल में जाकर करना चाहिए। सवर्णों को 10 प्रश आरक्षण प्रदेश में लागू करने संबंधी प्रश्न पर उन्होंने कहा कि जब सभी की सहमति से कानून बना है तो लागू भी हो ही जाएगा। मंदसौर जिले में विधानसभा चुनावों में कांग्रेस की करारी हार पर उन्होंने कहा कि निश्चित ही यह हमारे लिए जांच का विषय है कि यहां ऐसा क्यों हुआ है। अब लोकसभा चुनाव में ऐसा नहीं हो, इसके लिए नई रणनीति पर कार्य करेंगे।

About The Author

I am Brajesh Arya

Related posts