Breaking News

नपा परिषद की बैठक स्थगित, आज होगी बैठक

भाजपा के पार्षदो ने जनहित के मुद् दो पर की राजनीति – शेख

मंदसौर। नपा परिषद की बैठक सोमवार को नपा सभाग्रह में जो आयोजित हुई लेकिन कोरम के अभाव में नपाध्यक्ष के द्वारा स्थगित की गई। नगर पालिका अध्यक्ष हनीफ शेख की अध्यक्षता में आयोजित इस बैठक में नपा के सभी सभापति सहित कुल 13 पार्षद उपस्थित रहे। नगर पालिका अधिनियम के अंतर्गत कोरम के अभाव में यह बैठक नपाध्यक्ष ने स्थगित की और आज दिनांक 20 अगस्त मंगलवार को प्रातः 11.30 बजे नगर पालिका सभागृह में पुनः यह बैठक बुलाई गई है। बैठक की कार्यसूची (प्रकरण) पूर्व में जारी ऐजेन्डे के अनुसार रहेगी। नगर पालिका अधिनियम के अन्तर्गत यदि अगले दिवस बैठक आयोजित होती है तो उसमे कोरम की पूर्ति आवश्यक नही है।

नपा परिषद की बैठक में राष्ट्रगान के उपरांत उपस्थित नपाध्यक्ष शेख व नपा सभापतिगणो, पार्षदगणो ने दिवंगत नपाध्यक्ष प्रहलाद बंधवार को श्रद्धांजलि दी और उनके असामायिक निधन पर दो मिनिट को मोन रखा और उनकी आत्मा की शांति के लिये प्रभु से प्रार्थना की।

नपाध्यक्ष शेख ने मिडिया से चर्चा करते हुए कहा कि आज की इस नपा बैठक में जनहित के प्रकरण परिषद में रखे गये थे। इस परिषद की बैठक में कुल 122 प्रकरण रखे गये थे जिसमें 100 प्रकरण नामांतरण, विभिन्न वार्डो के 16 प्रकरण निर्माण कार्य के व 4 प्रकरण लीज अवधि बढाने के थे। एक प्रकरण जिला पुलिस अधिक्षक के द्वारा बीपीएल चौराहा पर पुलिस चौकी हेतु मांगी जा रही भूमि के संबंध में विचार विमर्श हेतु रखा गया था। भाजपा के पार्षदों को जनहित से जुडे विषय व नामातरण प्रकरण परिषद में रखना रास नही आ रहा है। पूर्व की नपा परिषदों में आरोप लगाते रहे है कि नपा की पीआईसी में विवादित कई नामांतरण प्रकरणो को मंजुरी देती रही है और परिषद में केवल पुष्टि कराती आ रही है। नामांतरण प्रकरणो की जानकारी परिषद के पाषर्दो से छिपाई जाती रही है।पहली बार हमारी नपा परिषद ने नामांतरण के प्रकरणो के मामले में पारदर्शिता की निती अपनाई है। भाजपा के पार्षदों को यह पारदर्शिता की नीति पंसद नही आई है इसी कारण उन्होने परिषद की बैठक का बहिष्कार किया है और बैठक में नपा परिसर में उपस्थित रहते हुये सभागार में  अनुपस्थित रहे है।  कुछ भाजपा के नेता व संगठन पदाधिकारी भी नपा परिसर में उपस्थित थे। भाजपा पार्षद नगर हित के मामलो में सदैव ही राजनीति से प्रेरित होकर निर्णय लेते रहे है उन्हे जनहीत की कोई चिंता नही रही है। कांग्रेस के पार्षदों ने सदैव ही जनहित के मामले में भाजपा की सभी परिषदो को सहयोग दिया है और बैठक का कभी भी बहिष्कार नही किया। कांग्रेस के सभी पार्षदो ने नगर के विकास के मामले में कभी भी राजनीति नही की ऐसा लगता है कि भाजपा के पार्षदों व उनके वरिष्ठ नेताओ को जनहित से कोई सरोकार नही रह गया है। इसी कारण वे आठ माह बाद बुलाई गई इस बैठक में भी अनुउपस्थित रहे है।

नपाध्यक्ष शेख ने कहा कि मंदसौर नगर पालिका में लगभग 700 से अधिक नामांतरण के प्रकरण परिषद की मजुंरी के अभाव में पेडिग पडे है जिसके कारण आम जनता परेशान हो रही है तथा उनके लोन प्रकरण भी बैको में नामातरण के अभाव में नही हो रहे है। हमने पहली बार नामातरण प्रकरणो को परिषद की मंजुरी के लिये रखा यही बात विपक्ष का रास नही आ रही है। जब से मै नपाध्यक्ष पद पर नियुक्त हुआ है तब से परिषद के सभी सदस्यों को पुरा सम्मान देने का प्रयास किया है। जिन पार्षदो ने जनहित की परवाह किये बिना अनावश्यक रूप से परिषद की बेठक नही हो इसके लिये राजनिती की है वह निंदनीय है। हमारे पक्ष के जो पार्षद अनुउपस्थित रहे है उनके संबंध में निर्णय संगठन को करना है। इस संबंध में हमने जिलाध्यक्ष को अवगत कराया है वे इस मामले संज्ञान लेगे।

About The Author

I am Brajesh Arya

Related posts