Breaking News

नपा में अभी तक नहीं बदले गये सभापति : पुराने सभापतियों के बदलेगे विभाग, किसे कौन सा विभाग मिलेगा यह अभी तय नहीं

राम कोटवानी ने स्वयं के खर्च पर लगवाया एसी दिया नपा को

मंदसौर। नगर पालिका में पीआईसी के सदस्यों को लेकर विवाद 15 दिनों से ज्यादा चला था और अंत में संगठन ने यह तय किया था कि पुरानी पीआईसी को ही यथावत रखा जाएगा। संगठन के फैसले के बाद 6 मई को नई पीआईसी के चारों सदस्यों ने अपने इस्तीफे नपाध्यक्ष को सौंप दिये थे। लेकिन पॉच दिन हो जाने के बावजूद भी नपा में पूरी पीआईसी कार्य नहीं कर पा रही हैं क्योंकि जहॉ तीन सभापति तो पुराने ही थे वे तो यथावत कार्य कर रहे है और जिन चार सभापतियों ने इस्तीफे दिये थे उनके स्थान पर पुराने चार सभापतियों को आज तक कार्यभार नहीं सौंपा गया है जिससे नपा में आधी पीआईसी ही कार्य कर रही है। ऐसा इसलिए होना बताया जा रहा है क्यों कि आज तक नपाध्यक्ष ने पुरानी पीआईसी को लेकर कोई नया आदेश जारी नहीं किया है। नपा के सभापति कक्षों में भी जो नए सभापति बनाए गए थे उनकी ही नेम प्लेट लगी है।

विभागों को लेकर उलझन
प्राप्त जानकारी के अनुसार यह तो तय हो गया कि नपा में जो पुरानी पीआईसी थी वही कार्य करेगी लेकिन सभी सातों सभापतियों का विभाग बदलने की बात कही जा रही है। इसी को लेकर संगठन के आदेश के बाद भी नगर पालिका में पीआईसी को लेकर अभी कोई फेरबदल नहीं किया गया है।

अध्यक्ष का कहना है कि एक दो दिन में हो जाएगी पीआईसी व्यस्थित
इस मामले में नपाध्यक्ष प्रहलाद बंधवार ने बताया कि संगठन मंत्री प्रदीप जोशी से चर्चा चल रही है। पीआईसी पुराने सभापतियों को ही रखा जाएगा। बस विभाग को लेकर विचार विमर्श हो रहा है जिसे एक दो दिन में सुलझा दिया जाएगा।

नई पीआईसी सदस्य रहें कोटवानी ने स्वयं के खर्च पर लगावाया एसी दिया नपा को
जब 18 अप्रैल को नपा में नई पीआईसी की घोषणा कि गई थी जिसमें वार्ड कं 11 के पार्षद राम कोटवानी को राजस्व विभाग का सभापति नियुक्त किया गया था। उसके बाद श्री कोटवानी ने अपने स्वयं के खर्च पर राजस्व सभापति को अलॉट होने वाले कक्ष में रिनोवेशन करवाकर उसमें एयर कंडीशनर लगवाया था। अब जब श्री कोटवानी सभापति पद से इस्तीफा दे चुके है तो उनका कहना है कि मैं नगर पालिका के स्वामीत्व में उसे दे चुका हो। मैं सभापति रहा ना रहूॅ पार्षद भी ना रहूॅ तब भी मेरे द्वारा जो नगर पालिका को दिया गया है वह में वापस नहीं लूंगा। मैने जो भी कक्ष में खर्च किया है वह सब एक नम्बर में है मैं इनकम टैक्स पेड हूॅ। मेरा काम तो सिर्फ जनता का सेवा करना है जो मैं सभापति या पार्षद नहीं रहते हुए भी करूंगा।

About The Author

I am Brajesh Arya

Related posts