Breaking News

नल उगल रहें है सांप के बच्चे, मिल रहा है किचड़युक्त पेयजल

सीतामऊ निप्र। गुरूवार को नलो में पानी के साथ सांप के तीन बच्चे आ जाने से नगर में हडकम्प मच गया। कीचड व मटमेला पानी की आपुर्ति होने से पेयजल के लिए यहां त्राही मची हुई है हेडपम्पो व ट्युबवेलो पर भीड का दबाब बढने से नगर वासियो को घंटो परेशान होना पड रहा है।

उल्लेखनीय है कि नप द्वारा नगर में एकदिन छोडकर नलो के माध्यम से पेयजल सप्लाई की जा रही है इसी तारकम्य में गुरूवार को एक हिस्से में पेयजल सप्लाई हो रही थी स्थानीय निवासी शिवसिंह राठौर ने प्रातः 8 बजे दुरभाष पर सुचना की आज प्रातः सवा सात बजे नलो में पानी के साथ सांप के तीन बच्चे भी निकले। जिन्हे उन्होने एक बाल्टी में केद किया। इसकी सुचना फैलते ही आसपास के रहवासी एकत्र हो गए तथा नगर में हडकम्प मच गया।

कीचड युक्त पानी
इन दिनो नगर में पेयजल संकट गहराता जा रहा है नलो में अत्यन्त कम प्रेशर से पानी की आपुर्ति हो पा रही है। नागरिको ने बताया है कि कीचड व मटमेला पानी की आपुर्ति होने से पानी पीने योग्य नही है क्योकि इससे स्वास्थ्य पर प्रतिकुल असर हो सकता है। पानी की आपुर्ति भी सीमित मात्रा में हो पा रही है। भीषण गर्मी के दोर में पेयजल संकट दिनोदिन गहरा रहा है। नागरिको को पेयजल आपुर्ति के लिए हेडपम्पो व ट््युबवेलो का आश्रय लेना पड रहा है जहां भीड का दबाब बढने से घण्टो परेशान होना पड रहा है इस वजह से छुटपुट विवाद व बोलचाल आम बात होती जा रही है खाली बर्तनो की कतारे प्रातः से लेकर देर रात तक लगी रहती है।

विद्युत मोटरो का दुरूपयोग
नगर में नल प्रदाय के दौरान अधिकांश नागरिक अवैद्यानिक तरिके से नलो में विद्युत मोटरो के पाईप जोडकर पानी खिच रहे है। फलस्वरूप गरीब मजदुर व मध्यम वर्गीय परिजनो जिनके पास विद्युत मोटरे नही है उन्हे अत्यन्त कम प्रेशर से पेयजल आपुर्ति हो रही है तथा पेयजल आपुर्ति के लिए इधर उधर भटक रहे है इस संबध में नगर परिषद के जुम्मेदार जनप्रतिनिधि एवं अधिकारी मुकदर्शक बने हुए है नागरिको को कहना है कि प्रचंड गर्मी के इन दिनो में इस अवैद्यानिक दोहरण पर सख्ती से अंकुश लगाया जाना चाहिए ताकि सभी लोगो को पेयजल आपुर्ति का लाभ मिल सके।

About The Author

I am Brajesh Arya

Related posts