Breaking News

नाले के खेल मे फिर नगरपालिका

मंदसौर। नगर पालिका छोटी गुमटियों व हाथ ठेलों को हटाने के लिए अपनी पूरी ताकत लगा देती है, पर जैसे ही मामला थोड़े से रसूखदारों का आता है घुटने टेक देती है। ताजा मामला महू-नीमच राजमार्ग पर रामटेकरी कार्नर का है। जहां हाल ही में बनी दो बिल्डिंगों का अतिक्रमण नहीं हटाना पड़े इसलिए नपा के अधिकारियों ने खुदे हुए नाले को पक्का बनाने के बजाय मिट्टी भरकर बंद कर दिया। बस कर्तव्य पालन के लिए एक-एक नोटिस जारी किया। तीन माह बाद भी न तो अतिक्रमण हटा और न ही नपा ने आगे कोई कार्रवाई की है। इधर कांग्रेस पार्षद ने सीधे आरोप लगाया है कि नपा के अधिकारियों व कर्मचारियों ने धंधा बना लिया है नोटिस देते हैं और फिर अवैध वसूली करते हैं, पर कार्रवाई कहीं नहीं करते हैं।

महू-नीमच राजमार्ग पर रामटेकरी कार्नर के आस-पास बरसात के पानी की निकासी की बड़ी समस्या है। सारा पानी सड़कों पर बहता हुआ पीछे मोतियाखाई में घरों के आगे जमा होता है और तेज बारिश होने से घरों में भी घुसता है। इसीलिए नपा ने रामटेकरी कार्नर से मोतियाखाई नाले तक नाला बनाने का टेंडर निकालकर ठेकेदार को वर्क ऑर्डर भी दे दिया। ठेकेदार ने अगस्त में ही खुदाई शुरु कर दी। इस दौरान रामटेकरी कार्नर के पास ही बनी दो नई बिल्डिंगों का अतिक्रमण शासकीय जमीन पर मिला। पहले तो नपा के इंजीनियरों विरल जैन व गिरधारीलाल गुप्ता ने दोनों बिल्डिंगों को अतिक्रमण हटाने के बाद ही नाला निर्माण करने को कहा। इसी बीच दोनों भवन के मालिकों को नोटिस भी दिए गए, पर वह नोटिस का जवाब देने के बाद नपा के जनप्रतिनिधियों के चक्कर लगाने लगे। आखिरकार दबाव काम आया और अतिक्रमण हटने से बच गया। नपा के इंजीनियरों से भी कहा गया कि अतिक्रमण छोड़कर नाला बना दिया जाए, पर सीएमओ व इंजीनियरों में कुछ मंत्रणा हुई और ठेकेदार से कह दिया गया कि अभी नाला नहीं बनाया जाए। इसके कुछ दिन बाद ही खुदी जगह को भी वापस मिट्टी से भर दिया गया। तब से तीन माह हो गए है अभी तक न तो अतिक्रमण हटा है और न ही नाला बन पाया है। केवल दो प्रभावशालियों के चक्कर में मोतियाखाई क्षेत्र के सैकड़ों लोगों को परेशानी भुगतने के लिए छोड़ दिया गया है।

वसूली करने के लिए जारी करते हैं नोटिस

वार्ड 38 के कांग्रेस पार्षद डिकपालसिंह भाटी भी अपने वार्ड में नाला नहीं बनने से नाराज है। उन्होंने तो सीधा आरोप लगाया है कि नपा के इंजीनियर व कर्मचारी पहले तो लोगों को एमओएस का उल्लंघन करने देते हैं और फिर नोटिस देकर अवैध वसूली करते हैं। एक भी मामले में शहर में नगर पालिका ने एमओएस के मामले में व अतिक्रमण को लेकर कार्रवाई नहीं की है। नोटिस देकर वसूली करते हैं और फिर चुप बैठ जाते हैं। रामटेकरी कार्नर भी पर भी दो प्लाट पर भवन बन गए। एमओएस का उल्लंघन भी हुआ तो नपा कार्रवाई करें। तीन माह से नोटिस देकर काम को अटका रखा है। पूरे मंदसौर में ऐसा ही चल रहा है। नपा जवाब दे कि एक साल में कितने नोटिस दिए है और इनका निराकरण क्या हुआ है। जवाब भी आते हैं और बात में फालोअप भी नहीं होता है। मोतियाखाई रोड पर भी एक बहुमंजिला भवन बना हुआ है।

पहले अतिक्रमण हटाएंगे

नाला बनाने वाली जगह पर दोनों बिल्डिंग वालों का अतिक्रमण है। इसलिए पहले अतिक्रमण हटाएंगे और फिर नाला बनाएंगे इसीलिए फिलहाल नाले के लिए की गई खुदाई को बंद कर दिया गया हैं। संबंधितों ने नोटिस का क्या जवाब दिया है यह अभी पता नहीं हैं। पार्षदों का आरोप क्या है उस बारे में कुछ कह नहीं सकते हैं। – गिरधारीलाल गुप्ता, सहायक यंत्री, नपा

About The Author

I am Brajesh Arya

Related posts