Breaking News

पंजाब का एक बाल विवाह मंदसौर से रुकवाया गया

मंदसौर के एक अधिकारी ने 11 घंटे की मशक्कत के बाद नगर से करीब 800 किलोमीटर दूर पंजाब में हो रहा बाल विवाह रुकवा दिया। इसके लिए उन्हें 25 से अधिक अधिकारियों- कर्मचारियों को फोन करना पड़े। काम होता नजर नहीं आया तो वाट्सएप ग्रुप का सहारा लिया और मैसेज किया। आखिरकार शनिवार रात 11 बजे प्रशासन की टीम मौके पर पहुंची और बाल विवाह रुकवाया। रात 11.45 बजे वाट्सएप पर ही मौके पर मौजूद अधिकारियों ने मंदसौर के अधिकारी को सूचित किया।

मंदसौर के महिला सशक्तिकरण विभाग में पदस्थ बाल संरक्षण अधिकारी राघवेंद्र शर्मा को शुक्रवार को पंजाब से एक कॉल आया। यह वहां के मानसा जिले की बुढ़लाडा के बहादुरपुर गांव की 17 वर्षीय जसमीत पिता गुरमीतसिंह कौर ने किया था। बताया घरवाले उसका विवाह कर रहे हैं। शर्मा ने किशोरी से आयु संबंधी दस्तावेज भेजने का कहा। शनिवार को किशोरी ने सहेली के वाट्सएप नंबर से दस्तावेज भेजे। शर्मा ने चाइल्ड लाइन को सूचित किया। वहां से बताया मानसा में चाइल्ड लाइन की टीम नहीं है। इससे शर्मा ने अधिकारियों के ऑनलाइन नंबर तलाशे और उन्हें सूचित किया। यही नहीं वे मंदसौर दौरे पर आईं प्रभारी मंत्री अर्चना चिटनीस के पास भी पहुंच गए। उधर पंजाब में मानसा जिले के अधिकारियों ने शिकायत को गंभीरता से नहीं लिया।

शाम को किशोरी ने शर्मा को फिर कॉल किया। बताया अब तक कोई अधिकारी नहीं आया है। शाम 6 बजे शर्मा ने जानकारी बाल संरक्षण अधिकारियों के वाट्सएप ग्रुप में पोस्ट कर दी। ग्रुप में देशभर के अधिकारी जुड़े हैं। पोस्ट पंजाब राज्य दत्तक ग्रहण अभिकरण महाप्रबंधक शैली मित्तल ने पढ़ी और किशोरी की जानकारी ली। रात को एक टीम किशोरी के घर पहुंची। सरपंच व पूर्व सरपंच की उपस्थिति में किशोरी के परिजन को समझाइश दी। अधिकारियों ने किशोरी के बालिग होने तक विवाह नहीं करने की लिखित में सहमति ली। इसके बाद रात 11.45 बजे बाल सरंक्षण अधिकारी शर्मा को पंजाब के अधिकारियों ने बाल विवाह रुकवाने की जानकारी दी।

About The Author

I am Brajesh Arya

Related posts