Breaking News

पटवारी के बयान पर सख्त हुए पटवारी किया अनिश्चितकालीन हड़ताल का ऐलान

मंदसौर/सीतामऊ। जिले में मानसून की मार झेल रहे किसान सरकार की ओर मुआवजे के लिए टिकटिकी लगाए बैठा है। फसल प्रभावित क्षेत्रों का सर्वे कार्य बाकी है। लेकिन मंत्री और नेताओं की बयान बाजी के कारण अब फसल का सर्वे पर ब्रेक लगता दिख रहा है। मप्र पटवारी संघ ने अनिश्चितकालीन हड़ताल पर जाने का फैसला लिया है। संघ की ओर से जारी बयान में कहा गया है कि मंत्री जीतू पटवारी ने पटावरियो को सौ फीसदी रिश्वत खोर बताया था इसी रिश्वत वाले बयान को लेकर पटवारी संघ द्वारा मंत्री जीतू पटावरी द्वारा सार्वजनिक रूप से पटवारी संघ से माफी नहीं मांगने को लेकर गुरूवार से अनिश्चितकालीन हड़ताल का ऐलान कर दिया है वही पटवारी संघ का तहसीलदार संघ ने काली पट्टी बाँध कर समर्थन किया है। मंदसौर में पटवारियों ने एक ज्ञापन तहसीलदार नारायण नांदेड को सौंपा और अनिश्चिितकालिन हड़ताल पर जाने की बात कही। उसी प्रकार सीतामउ में भी पटवारी संघ ने गुरुवार को तहसील परिसर में तहसीदार प्रीति बीसे को ज्ञापन भेटकर अनिश्चितकालीन हड़ताल पर जाने का फैसला लिया है।

इस सबंध में पटवारी संघ की तहसील अध्यक्ष अंतिमबाला भार्गव का कहना है कि मप्र शासन के मंत्री जीतू पटावरी द्वारा पटवारियों को सौ फीसदी भ्रष्ट एवं रिश्वतखोर बताया गया है जिस पटवारी संघ अनिश्चितकालीन हड़ताल पर जाने का फैसला लिया है।

पटवारी संघ ने किया समर्थन- इस सबंध में नायब तहसीलदार संजय मालवीया ने बताया कि उच्यशिक्षा एवं खेल कल्याण मंत्री जीतू पटावरी द्वारा पटवारियों को भ्रष्ट एवं रिश्वतखोर वाला बताकर बयान दिया था जिस पर पटवारी संघ द्वारा अनिश्चितकालीन हड़ताल पर जाने का फैसला लिया है जिनका तहसीलदार संघ द्वारा समर्थन कर गुरुवार को अपने हाथों पर काली पट्टी बांधकर कार्य किया गया है।

राहत कार्य अधर मेंदृ जिले में बाढ़ ने भारी तबाही मचाई थी किसानों व आमजन का सब कुछ तबाह कर दिया है आमजन व किसान प्रशासन की ओर राहत के लिए तब तक की निगाह लगाए बैठे थे लेकिन संकट की घड़ी में शासन व प्रशासन के बीच बने मतभेद में आमजन वा किसान की राहत एवं मुवावजा राशि पहुचने में समय लग सकता है। वही एक बार फिर किसान व आमजन शासन प्रशासन के बिच पिसता नजर आ रहा है।

About The Author

I am Brajesh Arya

Related posts