Breaking News

पत्नी की हत्या के आरोपी को आजीवन कारावास एवं पांच हजार रूपये अर्थदण्ड

मन्दसौर। पुलिस थाना नारायणगढ़ जिला मन्दसौर के एक महत्वपूर्ण प्रकरण में षष्ठम अपर सत्र न्यायाधीश एन.एस. बघेल साहब द्वारा आरोपी अशोक पिता लक्ष्मण मेघवाल निवासी कचनारा सौम्या जिला मन्दसौर को धारा 302 के तहत् आजीवन कारावास व पांच हजार रूपये अर्थदण्ड तथा अर्थदण्ड न अदा करने पर छह माह के अतिरिक्त कारावास से दण्डित किये जाने का आदेश दिया है।

अतिरिक्त लोक अभियोजक श्री विकास कुमार बोहोरा (जैन) के अनुसार दिनांक 20/05/2016 को 11.30 बजे के लगभग अभियुक्त अशोक अपनी पत्नी गीताबाई के साथ ग्राम पहेड़ा गेला कचनारा स्थित अपने खेत पर खाद बिखेर रहे थे। अभियुक्त ने अपनी पत्नी को फावड़े से गंभीर चोटें पहुँचाई और उसे बेहोश अवस्था में खेत पर छोड़कर घर आ गया और करीब 12.30 बजे चिल्ला-चिल्लाकर कहने लगा कि उसने अपनी पत्नी को फावड़े से चोंट पहुँचाई है और वह खेत पर पड़ी है। फिर अभियुक्त अशोक का भाई बलवन्त व छगनलाल खेत पर गये, वहाँ गीताबाई के सिर में खून निकल रहा था। उसे लेकर सीधे सरकारी हास्पीटल नारायणगढ़ आये, वहाँ से जिला चिकित्सालय रेफर कर दिया। जिला चिकित्सालय से उदयपुर राजस्थान रेफर किया। रास्ते में निम्बाहेड़ा के पास गीताबाई की मृत्यु हो गई। जिला चिकित्सालय मन्दसौर में मृतिका गीताबाई का पोस्टमार्टम किया गया, जिसमें सिर में आई चोंट के कारण मृत्यु होना पाया गया।

पुलिस थाना नारायणगढ़ द्वारा मर्ग क्रमांक 17/16 कायम किया गया। मर्ग जाँच में अभियुक्त के विरूद्ध धारा302 भा.द.वि. का मामला पाये जाने से अपराध क्रमांक 107/16 धारा 302 भा.द.वि. का पंजीबद्ध कर चालान न्यायालय में प्रस्तुत किया गया।

अभियोजन ने अपनी ओर से कुल बारह साक्षियों के कथन कराये। न्यायालय ने अभियोजन द्वारा प्रस्तुत साक्षियों के कथनों एवं प्रकरण में समग्र साक्ष्य के विवेचन तथा अभियोजन के तर्को से सहमत होकर यह निष्कर्ष निकाला कि घटना दिनांक को आरोपी अशोक पिता लक्ष्मण मेघवाल द्वारा अपनी पत्नी गीताबाई को फावड़े से सिर में चोंट पहुँचाकर उसकी हत्या कारित की।

प्रकरण में शासन की ओर से सफल पैरवी अतिरिक्त लोक अभियोजक श्री विकास कुमार बोहोरा (जैन) द्वारा की गई।

About The Author

I am Brajesh Arya

Related posts