Breaking News

पत्रकार की अज्ञात हमलावरों ने गोली मारकर की हत्या

मंदसौर। पिपलिया मंडी के नईदुनिया प्रतिनिधि कमलेश जैन को अज्ञात हमलावरों ने गोली मार दी । जिसके बाद उन्हें मन्दसौर जिला चिकित्सालय लाया गया वहां डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया। बताया गया कि हमलावर बाइक पर सवार होकर आए थे हत्या के कारणों का अभी पूरी तरह से खुलासा नहीं हुआ है। पत्रकार कमलेश जैन एक सुलझा हुआ पत्रकार होने के साथ-साथ जिम्मेदार सामाजिक कार्यकर्ता थे।

प्रारंभिक जांच में जैन का एक माह पहले किसी से विवाद का मामला सामने आ रहा है। घटना बुधवार रात 8 बजे के लगभग हुई।
कमलेश जैन (43) पिपलियामंडी में अन्नापूर्णा टॉकिज रोड स्थित लवली चौराहे पर अपने कार्यालय पर थे। टीआई अनिलसिंह ठाकुर ने बताया कि बाइक से दो बदमाश आए और कार्यालय में जाकर जैन पर गोली चला दी। गोली उनके सीने में लगी।
हमले के बाद दोनों बदमाश बाइक से खात्याखेड़ी की तरफ भाग गए। घायल हालत में जैन को जिला अस्पताल लाया जा रहा था, रास्ते में ही उनकी मौत हो गई। घटना के बाद क्षेत्र में सनसनी फैल गई। पिपलियामंडी में व्यवसायियों ने अपनी दुकानें बंद कर लीं।
जिला अस्पताल में एडीशनल एसपी अजयप्रतापसिंह, शहर थाना प्रभारी विनोदसिंह कुशवाह सहित पुलिस बल भी पहुंचा। पिपलियामंडी और आसपास क्षेत्र में पुलिस ने नाकाबंदी की। कमलेश गत 12 सालों से नईदुनिया वितरक के रूप में जुड़े हुए थे।
कुछ दिन पहले हुआ था विवाद
पिपलियामंडी टीआई ठाकुर ने बताया कि करीब एक माह पहले एनडीपीएस एक्ट के मामले में जेल से छूटकर आए एक बदमाश से जैन का कुछ विवाद हुआ था। हत्या में उसका भी हाथ हो सकता है। यह बदमाश नाहरगढ़ क्षेत्र का है। इस विवाद के आधार पर भी जांच की जा रही है।

कमलेश जैन की हत्या से पिपलिया मंडी में इस खबर से शोक की लहर छा गई। मंदसौर जिला पत्रकार जगत भी इस घटना को लेकर भरी रोष है। जिले में पत्रकार की हत्या का कदाचित यह पहला मामला है। प्रदेश में पत्रकारों की हत्या का सिलसिला अनवरत जारी है। कुल मिलाकर पत्रकारों की जान की सुरक्षा के लिए सरकार ने अभी तक कोई विशेष कदम नहीं उठाया है यदि इस प्रकार से लोकतंत्र के चौथे स्तम्भ के पहरेदारों की हत्या कर उनको हतोत्साहित क्या जाएगा तो आप सोचिये आम आदमी इन अपराधियो से किस कदर प्रताड़ित हो रहा होगा? अस्पताल में कमलेश जैन के परिजनों और उनके मित्रों का रो रो कर बुरा हाल है। पूरा पत्रकार समाज शोक में डूबा हुआ है।

About The Author

I am Brajesh Arya

Related posts