Breaking News

पत्रकार सुरक्षा कानून बनेगा- जनसंपर्क मंत्री शर्मा 

सभी मंत्रियों ने कहा कि पत्रकार भवन सहित सभी समस्याओं का समाधान होगा

संगठन की सभी जिला इकाईयां भंग- शलभ

मन्दसौर। मध्यप्रदेश श्रमजीवी पत्रकार संघ के कार्यसमिति सम्मेलन में जनसंपर्क एवं विधि मंत्री पी.सी.शर्मा ने कहा कि पत्रकार प्रोटेक्शन एक्ट शीघ्र लाया जाएगा। इस एक्ट के लागू होने से पत्रकार अपने कार्यक्षेत्र में सुरक्षित अनुभव कर सकेंगे। उन्होंने संघ के 14 सूत्रीय मांग पत्र पर गंभीरता से विचार कर मांगों के क्रियान्वयन का आश्वासन दिया। श्री शर्मा सहित कार्यसमिति सम्मेलन में सामाजिक न्याय मंत्री लखन घनघोरिया, लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी मंत्री सुखदेव पासे, वाणिज्यकर मंत्री ब्रजेन्द्रसिंह राठौर, आदिमजाति कल्याण मंत्री ओमकारसिंह मरकाम भी उपस्थित थे। अध्यक्षता संघ के प्रदेश अध्यक्ष शलभ भदौरिया ने की पत्रकार भवन भोपाल में आयोजित सम्मेलन का श्री शर्मा ने द्वीप प्रज्जवलन कर शुभारंभ किया।
इस अवसर पर मध्यप्रदेश श्रमजीवी पत्रकार संघ द्वारा दिए गए 14 सूत्रीय मांग पत्र में उल्लेखित मांगों को पूरा करवाने का आश्वासन दिया। उन्होंने स्वीकार किया कि पत्रकारों को वर्तमान दौर में काफी विषम परिस्थितियों का सामना करना पड़ रहा है। प्रताडऩा की घटनाएं भी निरंतर बड़ रही है। इस कारण पत्रकारों को अपने कर्तव्य निर्वहन में परेशानी का सामना करना  पड़ रहा है। हमने अपने वचन पत्र में भी पत्रकार सुरक्षा कानून बनाने की बात कही है और आप लोग भी यह मांग कर रहे है, हम शीघ्र ही इस दिशा में पहल करेंगे।
उन्होंने यह भी कहा कि पत्रकारों में सुरक्षा भाव उत्पन्न हो, प्रताड़ना खत्म हो तथा पत्रकारों और अन्य राजनैतिक लोगों पर मुकदमे लगे है उनकों हटाने का निर्णय सरकार ने लिया है। उन्होंने स्वयं को श्रमजीवी बताते हुए कहा कि वे भी आप लोगों के समान ही विगत कई वर्षों से समाजहित के लिए संघर्ष कर रहे है और प्रताड़ित लोगों की सुरक्षा के लिए वे सदैव संघर्षरत रहेंगे। सरकार द्वारा हाल ही में लिए गए निर्णयों की भी जानकारी दी और कहा कि यह सरकारअपने वचन पत्र के प्रति प्रतिबद्ध है, जिसकों शीघ्र ही पूरा किया जाएगा।
स्वतंत्रता संग्राम में पत्रकारिता का बड़ा योगदान रहा- श्री घनघोरिया
मंत्री श्री घनघोरिया ने कहा कि पत्रकार समाज को जगाने का कार्य करता है। स्वतंत्रता संग्राम में भी कलमकारों और साहित्यकारों की महत्वपूर्ण भूमिका रही है। आप लोग निर्भिक और स्वतंत्ररुप से अपने कर्तव्य का पालन करें और समाज को सही दिशा दे,यह आज की आवश्यकता है। उन्होंने कहा कि पत्रकारिता और राजनीतिक क्षेत्र एक गाड़ी के दो पहिये है जो एक-दूसरे के बिना नही चल सकते।
सरकार किसी की भी हो लेकिन लोकतंत्र का सबसे मजबूत स्तम्भ है- ब्रजेन्द्रसिंह
मंत्री ब्रजेन्द्रसिंह ने कहा कि सरकार कोई भी हो,लेकिन सबसे मजबूत स्तम्भ पत्रकार है, जिसकी शक्ति को नकारा नहीं जा सकता। उन्होंने कहा कि सरकार के सामने अनेक चुनौतियां है। हमें विरासत में बहुत बड़ा कर्जा मिला  है उसके बाद भी हम प्रदेश की उन्नति के लिए और समाज के सभी वर्गों के कल्याण के लिए प्राथमिकता से काम करेंगे और यह  वचनपत्र में भी  हमने अपनी प्रतिबद्धता दौहराई है।
 पत्रकारों की सुरक्षा करना हमारा दायित्व- श्री मरकाम 
मंत्री श्री मरकाम ने कहा कि हमें अपनी संस्कृति और जीवन पद्धति को ऊंचा रखना होगा। नकारात्मक विचार से आपकी और हमारी लड़ाई है, जीवन में नकारात्मक भाव से हमेशा नुकसान ही होता है। उन्होंने श्प्रेम्य के अक्षर की व्याख्या करते हुए कहा कि यह अक्षर बहुत बड़ा है। यदि यह शब्द दूर होगा तो जीवन दूभर हो जाएगा। हमारी कथनी और करनी में अंतर नहीं होना चाहिए। मैं प्रोटोकाल में विश्वास नहीं करता, बल्कि जो जिम्मेदारी हमें दी है उसकी चिंता हमें करना होगी। मैं मंत्री के रुप में नहीं बल्कि एक सामान्य व्यक्ति के रुप में अपने कर्तव्य का निर्वहन करने में विश्वास रखता हूं। उन्होंने शिक्षा पर विशेष ध्यान देते हुए कहा कि शिक्षा से ही शिक्षित भारत और विकसित भारत का निर्माण होगा।
 हम वचन पत्र के के लिए प्रतिबद्ध हैं- श्री पासे
मंत्री श्री पासे ने भी श्रमजीवी पत्रकार संघ के ज्ञापन के संबंध में कहा कि हम मुख्यमंत्री से चर्चा कर आपकी मांगों का शीघ्र ही निराकरण करने का प्रयास करेंगे। उन्होंने भी अपने वचन पत्र का जिक्र किया और कहा कि हमने वादे नहीं बल्कि वचन पत्र पर कार्य करने की घोषणा की है, जिस पर हम तेजी से अमल करेंगे।
 पत्रकार भवन का हक शीघ्र प्रदान करें- श्री भदौरिया 
अध्यक्षता करते हुए श्री भदौरिया ने कहा कि विगत वर्षाे में पत्रकारों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ा है। पिछली सरकार ने हमारी कई मांगें स्वीकार की, लेकिन कुछ मांगे क्रियान्वयन के अभाव में लंबित है, उसमें पत्रकार कल्याण आयोग और पत्रकार सुरक्षा कानून जैसी मांगें शामिल है। उन्होंने पत्रकार भवन का जिक्र करते हुए कहा कि भोपाल श्रमजीवी पत्रकार संघ का पत्रकार भवन पर हक है, लेकिन कतिपय अधिकारियों ने इसे विवाद की स्थिति में ला दिया है, सरकार इस पर शीघ्र विचार कर हक प्रदान करें।
पत्रकारों की समस्याओं की ओर श्री जोशी ने ध्यान आकर्षित किया 
प्रदेश के मुख्य कार्यकारी अध्यक्ष शरद जोशी ने मंत्रियों को दिए गए ज्ञापन का विस्तार से उल्लेख करते हुए कहा कि पत्रकार सुरक्षा कानून शीघ्र बनाया जाए, राज्य,संभाग व जिला स्तर पर पत्रकारों की समस्याओं को हल करने के लिए समितियां बनाई जाए, जिसमें श्रमजीवी पत्रकारों को शामिल किया जाए, धारा 353 का दुरूपयोग रोका जाए, मजिठिया आयोग की अनुशंसा शीघ्र लागू हो, अखबारों के प्रकाशन मुख्यालयों पर कार्यरत श्रमजीवी पत्रकारों को अधिमान्यता दी जाए, श्रद्धा निधि की राशि बढ़ाकर 10 हजार रुपए की जाए, तहसील स्तर पर सूचना सहायक नियुक्ति हो, टोल नाकों पर मध्यप्रदेश श्रमजीवी पत्रकार संघ के कार्डों को मान्यता दी जाए, साथ ही राष्ट्रीय राज्यमार्ग के टोल नाकों पर भी अधिमान्य पत्रकारों को छूट दी जाए, जिला स्तर पर आवास समितियां बनाकर पत्रकारों की आवास समस्या हल की जाए तथा पत्रकार भवन के लिए शासन जमीन दे, सरकारी सलाहकार समितियों में मध्यप्रदेश श्रमजीवी पत्रकार संघ के सदस्यों को शामिल किया जाए, समान विज्ञापन नीति बनाई जाए ताकि लघु एवं मध्यम समाचार पत्रों को भी समान रुप से विज्ञापन प्राप्त हो सके।
श्री जोशी ने बसों में पत्रकारों को रियायत देने के शासन के विचार का स्वागत किया और कहा कि संघ वर्षों से यह मांग कर रहा है कि शासन द्वारा अनुबंधित बसों में पत्रकारों को रियायत दे। यदि यह मांग स्वीकार होती है तो इससे आंचलिक क्षेत्र के पत्रकारों को भी काफी मदद मिलेगी।
 प्रांतीय सम्मेलन बांधवगढ़ में 
उमरिया जिले इकाई के आमंत्रण पर 31 मार्च और 1 अप्रैल को दो दिवसीय प्रांतीय सम्मेलन बांधवगढ़ में आयोजित करने का निर्णय लिया गया। बैठक में प्रदेश अध्यक्ष शलभ भदौरिया ने प्रदेश की सभी जिला इकाईयों को भंग करते हुए वर्तमान जिलाध्यक्ष एवं महामंत्री को आगामी व्यवस्था तक पद पर बने रहने की घोषणा की। सर्वाधिक सदस्यता के लिए रतलाम जिले को प्रथम तथा नीमच जिले को द्वितीय पुरस्कार दिया गया तथा दोनों जिला इकाईयों के अध्यक्षों का सम्मान किया गया।
मृतक पत्रकार की पत्नी भी हो लाभांवित 
बैठक में  श्रद्धा निधि की राशि प्राप्त पत्रकार की मृत्यु पर उसकी पत्नी को यह राशि जीवन पर्यन्त प्रदान करने तथा रेलवे यात्रा में अधिमान्य पत्रकार की पत्नी को भी यात्रा में समान रुप से सुविधा देने का प्रस्ताव पारित कर शासन से मांग करने का निर्णय लिया गया।
प्रदेश महासचिव दिलीपसिंह भदौरिया ने तीन वर्षीय कार्यकाल का प्रतिवेदन प्रस्तुत करते हुए प्रदेशभर में संगठन की गतिविधियों पर प्रकाश डाला। कोषाध्यक्ष शिशुपालसिंह तोमर ने तीन साल का लेखा-जोखा प्रस्तुत किया, जिसकी स्वीकृत सदन द्वारा प्रदान की गई। इस अवसर पर प्रांतीय अधिवेशन में होने वाले चुनाव के लिए राजेन्द्र श्रीवास्तव को मुख्य निर्वाचन अधिकारी एवं सुरेन्द्र राजपूत को सहायक निर्वाचन अधिकारी बनाए जाने की स्वीकृति प्रदान की गई।
बैठक में प्रदेश कार्यकारी अध्यक्ष मो. अली, सुरेश शर्मा, उपाध्यक्ष अमित द्विवेदी, राजनारायण मिश्रा सहित पदाधिकारियों ने संबोधित किया और सुझाव प्रस्तुत किए। अध्यक्ष श्री भदौरिया, मुख्य कार्यकारी अध्यक्ष शरद जोशी, उपाध्यक्ष के.के.अग्निहोत्री, कैलाश देवलिया, राजकुमार दुबे, राजेन्द्र पुरोहित, राजेश द्विवेदी, मनोज द्विवेदी, अमित द्विवेदी, मंदसौर जिले से जिलाध्यक्ष डॉ प्रितिपालसिह राणा, महासचिव प्रकाश बंसल,दलौदाब्लॉक अध्यक्ष वीरेन्द्रसिंह राठौड़ सहित प्रदेश  पदाधिकारियों, संभागीय अध्यक्षों, महासचिव, जिलाध्यक्ष महासचिवों सहित अन्य पदाधिकारियों ने अतिथियों का स्वागत किया।
संचालन सचिव रिजवान सिद्धीकी ने किया तथा आभार प्रदेश कार्यकारी अध्यक्ष मो. अली ने माना। कार्यक्रम के अंत में दिवंगत फोज के जवानों  एवं दुनिया भर में शहीद   हुए पत्रकारों के निधन पर दो मिनिट का मौन रख कर श्रद्धांजलि अर्पित की गई।

About The Author

I am Brajesh Arya

Related posts