Breaking News

पर्यटन राज्य मंत्री श्री पटवा ने झील महोत्सव 2018 का किया औपचारिक शुभारंभ

Hello MDS Android App

प्रदेश सरकार ने वन्य पर्यटन को बढावा देने के लिए केन्द्र सरकार से बजट में 99 करोड रू. स्वीकृत करायें है – श्री पटवा

मंदसौर। मंदसौर जिले के पर्यटन स्थल गांधी सागर में 17 से 26 फरवरी को झील महोत्सव आयोजित किया जा रहा हैं। पर्यटन राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) सुरेन्द्र पटवा ने कन्यापाद पूजन के पश्चात महोत्सव का औपचारिक शुभारंभ किया साथ ही झील महोत्सव फोल्डर एवं सीडी का विमोचन किया। शुभारंभ अवसर पर सासद सुधीर गुप्ता, जिला पंचायत अध्यक्षा, जिला पंचायत नीमच अध्यक्षा श्रीमती अवंतिका, गरोठ विधायक चन्द्रर सिंह सिसौदिया, मनासा विधायक कैलाश चावला, जिला सहकारी केन्द्रीय बैंक के अध्यक्ष मदनलाल राठौर, जिला भाजपाध्यक्ष देवीलाल धाकड, पूर्व विधायक राधेश्याम मांदलिया, गांधीसागर की सरपंच श्रीमती कविता, कलेक्टर ओमप्रकाश श्रीवास्तव, पुलिस अधीक्षक मनोज सिंह, झील महोत्सव से जुडे सभी अधिकारीगण एवं बडी संख्या में ग्रामीणजन सहित अन्य पर्यटक भी मौजूद थें।

कार्यक्रम को संबोधित करते हुये पर्यटन मंत्री श्री पटवा ने कहा कि मध्यप्रदेश में तीन ऐसे धरोहर है जो विश्व धरोहर में शामिल है। धरोहर होने का कारण प्रदेश में पर्यटन का अच्छा आकर्षण एवं वातावरण हैं। प्रदेश सरकार ने पिछले 10 वर्षो में पर्यटन के क्षेत्र में बहुत अच्छे कार्य किये हैं। पर्यटन एक ऐसा क्षेत्र है जिसमें कम खर्चे में अधिक आया प्राप्त होती है। रोजगार को बढावा देने के लिए सबसे अच्छा माध्यम हैं। उन्होने कहा कि पर्यटन को बढावा देने के लिए प्रदेश सरकार ने एमपी टूरिज्म होटलों का निर्माण किया है, ताकि प्रदेश में आने वाले पर्यटको को अच्छी सुविधा मिल सके और किसी प्रकार की समस्या का सामना न करना पडें। प्रदेश सरकार ने वन्य पर्यटन को बढावा देने के लिए केन्द्र सरकार से बजट में 99 करोड रू. स्वीकृत करायें है। प्राप्त बजट से गांधीसागर में पर्यटन के विकास में प्राथमिकता दी जायेगी। प्रदेश में क्रूज गांधीसागर के साथ भोपाल व तवा में पर्यटको को भी आकर्षित कर रहा है। उन्होने कहा कि मालवा से लेकर मेवाड तक स्थानीय जनप्रतिनिधि एवं क्षेत्रीय विधायक मिलकर इस क्षेत्र में पर्यटन को बढावा देने के लिए प्रयास करेंगे। वर्तमान में मध्यप्रदेश में 3 लाख से भी अधिक पर्यटक आते है। पर्यटन के क्षेत्र में किये गये सराहनीय कार्यो के लिए मध्यप्रदेश को पिछले वर्षो में देश का बेस्ट स्टेट टूरिज्म अवार्ड मिला हैं। जिले में पर्यटन को बढावा देने के लिए जिला परमोशन काउन्सिल एक्टिव है जो कि पर्यटन को बढावा दे रही है। इसी काउन्सिल के द्वारा ही गांधीसागर में झील महोत्व का आयोजन को लेकर सभी तैयारियां की गई। उन्होने कहा कि मेरे पास पर्यटन एवं संस्कृति विभाग होने के नाते प्रदेश में आयोजित होने वाले सांस्कृतिक कार्यक्रम जैसे कालीदास समारोह, तानसेन समारोह, खजूराह समारोह, मेहर में अल्लाउद्दीन का समारोह आदि की तरह मंदसौर जिले में पशुपतिनाथ मंदिर पर सांस्कृतिक प्रोगा्रम हो इसके लिए प्रयास किये जायेंगे। आने वाले वर्ष में झील

महोत्सव के दौरान विशेष तौर पर तीन दिवसीय सांस्कृतिक कार्यक्रम आयोजित होगे। जिसमें कैलाश खैर जैसी फिल्मी हस्तिायों को आमंत्रित किया जायेगा।

उन्होने बताया कि महोत्सव का प्रमुख आकर्षण एडवेंचर एक्टिविटीज (रोमांचक गतिविधियाँ) होंगी। इसमें एरियल (हवाई) एडवेंचर एक्टिविटीज में हॉट एअर बैलून, पैरामोटर्स, पैराग्लाइडिंग, वाल क्लाइम्बिंग, कमांडो नेट एवं रोप ड्रिल की गतिविधियों का पर्यटको द्वारा आनंद लिया जा रहा है। पर्यटन विकास परिषद मंदसौर द्वारा आयोजित होने वाले इस महोत्सव में काइट फेस्टिवल कार्निवाल, क्राफ्ट बाजार, फूड बाजार, इवनिंग क्रूज, इवनिंग एन्टरटेन्मेंट में म्यूजिक बैण्ड, लोक संगीत और बैण्ड के साथ-साथ कवि सम्मेलन जैसी प्रमुख गतिविधियाँ भी पर्यटको को आकृषित करने के लिए होगी। इस अवसर पर नोका दौर प्रतियोगिता का भी आयोजन किया गया तथा नोकादौड के पश्चात पर्यटको के ठहरने के लिए मोडीमाता मंदीर पर निर्मित कोटेज का अवलोकन किया।

झील महोत्सव में आने वाले पर्यटकों को मंदसौर जिले में स्थित पशुपतिनाथ मंदिर, सम्राट यशोवर्धन संग्रहालय, श्री नटनागर शोध संस्थान, सौंधनी, सेवा कुंज, लदूना, खेजडि़या भोप की गुफाएँ, दूधाखेड़ी, धर्मराजेश्वर मंदिर, पोला डुंगर (गरोठ) एवं हिंगलाजगढ़ का किला पर्यटन के महत्वपूर्ण केन्द्र है। कार्यक्रम का संचालन श्री भट्ट एवं सुदीपदास ने किया एवं आभारएसडीएम श्री वर्मा ने माना।

About The Author

I am Brajesh Arya

Related posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *