Breaking News

पशुपतिनाथ मंदिर प्रबंध समिति भंग करने एवं मंदिर में आर.ओ. लगाने की मांग को लेकर रूद्र सेना ने दिया ज्ञापन

मन्दसौर। रूद्र सेना द्वारा कलेक्टर एवं अध्यक्ष पशुपतिनाथ महादेव मंदिर प्रबंध समिति के नाम एक ज्ञापन जिला प्रशासन को दिया गया। ज्ञापन में मांग की गई कि मंदिर परिसर में अभिषेक के जल हेतु आर.ओ. लगाया जाये, जलाभिषेक हेतु शुल्क नहीं लिया जाये एवं श्री पशुपतिनाथ मंदिर प्रंबंध समिति को भंग किया जाये।

रूद्र सेना जिलाध्यक्ष अंकित भैरवे ने बताया कि दिये गये ज्ञापन में मांग की गई कि श्री पशुपतिनाथ मंदिर परिसर में प्रतिमा पर अभिषेक हेतु सावन माह एवं शिवरात्री में आर.ओ. लगाया जाये जिससे श्रद्धालु शुद्ध जल से प्रतिमा का जलाभिषेक कर सके एवं प्रतिमा को किसी तरह की क्षति ना पहुंचे। और मंदिर प्रबंध समिति ने जलाभिषेक के लिये जो शुल्क 2100 एवं 500रू. निर्धारित किया है। इस शुल्क निर्धारण से केवल अमीर व्यक्ति ही भगवान का जलाभिषेक कर सकेंगे। गरीब व्यक्ति भगवान के अभिषेक से वंचित रह जायेगा। अतः शुल्क नहीं रखा जाकर सभी के लिये जलाभिषेक की अनुमति दी जाय।

ज्ञापन में कहा कि श्री पशुपतिनाथ मंदिर प्रबंध समिति द्वारा लिये जाने वाले निर्णय भक्तों के भावनाओं के विपरित लिये जा रहे है। जिससे हिन्दूओं की भावनाओं को ठेस पहुंच रही है व मंदिर के हित में भी नहीं है। इसलिये इस प्रबंध समिति को तत्काल भंग किया जाये। रूद्रसेना ने आक्रोश व्यक्त करते हुए कहा कि रूद्रसेना को 7 महिने पहले आश्वासन दिया गया था कि मंदिर में आर.ओ. लगाया जाएगा एवं श्रद्धालुओं को सावन एवं शिवरात्री में जलाभिषेक करने दिया जाएगा।

रूद्रसेना ने ज्ञापन में कहा कि हमारे द्वारा यह आखरी चेतावनी दी जा रही है। अगर 5 दिन में प्रबंध समिति भंग नहीं की गईं व जलाभिषेक की अनुमति नहीं दी गई तो रूद्रसेना द्वारा आंदोलन किया जाएगा व मंदिर परिसर में भूख हड़ताल की जायेगी। जिसकी समस्त जवाबदारी आपकी व प्रबंध समिति की होगी।

ज्ञापन का वाचन रूद्र सेना जिला प्रभारी सोनू सांखला ने किया। इस अवसर पर रूद्र सेना नगर अध्यक्ष अनिरूद्ध शर्मा, संयोजक सोनू बंधवार, रूपेश परमार, शुभम माली, नीतिन शर्मा, सुरेन्द्र कुमावत, लखन कुमावत सहित अनेक कार्यकर्ता उपस्थित थे।

About The Author

I am Brajesh Arya

Related posts