Breaking News

पशुपतिनाथ मेला के सांस्कृतिक रंगमंच पर अभा कवि सम्मेलन का हुआ आयोजन

देश के ख्याति प्राप्त कवियों ने दी श्रेष्ठ रचनाओं की प्रस्तुती

मंदसौर। पशुपतिनाथ महादेव मेला के सांस्कृतिक रंगमंच पर शनिवार की रात्रि को अखिल भारतीय कवि सम्मेलन का आयोजन देश के ख्याति प्राप्त कवियों ने इस कवि सम्मेलन का आयोजन हुआ। नपा परिषद मंदसौर व पशुपतिनाथ मेला समिति के आमंत्रण पर अपनी अपनी श्रेष्ठ रचनाओं प्रस्तुत की। रात्रि 10.20 बजे अतिथियों के स्वागत के उपरांत प्रारंभ हुआ कवि सम्मेलन देर रात्रि तक चला। इस कवि सम्मेलन में श्री सत्यनारायण सत्तन, श्री राहत इंदौरी, प्रताप फौजदार, कुंवर जावेद, डॉ मदन मोहन समर, जानी बैरागी, सुदीप भौला, मुमताज नसीम, अर्जुन अल्हेड, भुवन मोहिनी, मुन्ना बेटरी, विजय विद्रोही कवि सम्मेेलन  के सुत्रधार मंदसौर की माटी के सुपुत्र मुन्ना बैटरी व बालक कवि केे रूप में पहचान बनाने वाले धु्रव जैन ने अपनी श्रेष्ठ रचनाओं की प्रस्तुति दी। कोटा के जाने माने कवि कुंवर जावेद ने ये पक्तिया पडी जो उग्रवाद को जेहाद कहते है वे कुछ भी हो लेकिन मुसलमान हो नही सकते….। पढकर आंतकवाद पर खुब व्यंग किया जिसे सभी ने सराहा…। डॉ सत्यनारायण सत्तन जो कि इंदौर के जाने माने कवि है उन्होने पुरे कवि सम्मेलन का अपने चिर परिचित अदांज में संचालन किया और श्रोताओं की खुब दाद बटोरी। उन्होने मंच संचालन की शुरूआत की शुरूआत से ही व्यंगो की ऐसी शुरूआत की कि श्रोताओं हसंी से लोटा पोट हो गये । उन्होने चंदन व सांप को एक दूसरे का प्रर्याय बताते हुए कहा कि यदि तुम चंदन हो जाओगे तो सांप तो लिपटेगे। अच्छा तो यह है कि गांजा भाग का पोधा बनो तो सभी जानवर दूर रहेगे। उन्होने कवित्री से जो सवांद किया उससे पुरा सांस्कृतिक रंगमंच व उसके सामने बैइे श्रोता आनंदित हो उठे।

कवि सम्मेलन की शुरूआत इंदौर की जानी मानी कवित्री भुवन मोहिनी  ने मॉ सरस्वती  की वंदना की । प्रतापगढ के कवि विजय विद्रोही ने मंदसौर में आयी बाढ व किसान गोलीकाण्ड जैसे विषयों पर भी व्यंग किया। आपने गा्रमीण क्षैत्रो व छोटे कस्बों में ओटली पर होने वाली चर्चाओं पर व्यंग किया। आपने देश के सैनिकों का कितना सम्मान है इसे लेकर भी ये पक्तियां पडी सरहद के सैनिक के सम्मान में देश की 80 साल की मुस्लिम बुजुर्ग महिला भी सीट टेªेन में छोंड देती है और कहती है कि देश को मेरी नही तुम्हारी जरूरत है। हास्य कवि अर्जुन अल्हड ने फर्जी ढोगी बाबाओं पर अपनी कविताओं में खुब व्यंग किया जिसे सभी ने सराहा।

मंदसौर की माटी के सुपुत्र कवि मुन्ना बेटरी ने अपने व्यंग से कवि सम्मेलन में श्रोताओं को खुब गुदगुदाया। आपने कहा कि मंदसौर में टेªनों तो बहुत चली लेकिन बैठते डेमों में ही है। उन्होने नपाध्यक्ष मो हनीफ शेख व उपाध्यक्ष सुनील जैन सहित पुरी नपा परिषद व मेला समिति का कवि सम्मेलन की जिम्मेदारी सौपने पर आभार व्यक्त किया। आपने मंदसोर वासियों को खुशनसीब बताते हुए कि यहा पशुपतिनाथ के चरण पखारने शिवना खुद आती है इस बार वह भक्तो से मिलने उनके घर तक भी आ गयी।

कार्यक्रम के प्रांरीा में नपा परिषद के आमंत्रण पर अतिथि के रूप में पधारे सुवासरा विधायक हरदीपसिंह डंग, पूर्व विधायक व जिला योजना समिति सदस्य नवकृष्ण पाटिल, पूर्व जिला पंचायत अध्यक्ष राजेन्द्रसिंह गौतम, पूर्व भाजपा जिलाध्यक्ष मानसिंह मच्छोपुरिया, समाजसेवी श्री नरेन्द्र बंधवार जिला लोक अभियोजक कांतिलाल राठौर ने  सरस्वती एवं पशुपतिनाथ के चित्र पर माल्यार्पण किया।

About The Author

I am Brajesh Arya

Related posts