Breaking News

पीजी कॉलेज में अब डॉ. आंबेडकर सामाजिक विवि के कोर्स भी हो सकेंगे

मंदसौर के पीजी कॉलेज को विक्रम यूनिवर्सिटी, भोजमुक्त और इग्नू के बाद अब चौथी यूनिवर्सिटी के रूप में महू स्थित डॉ. आंबेडकर सामाजिक विश्वविद्यालय से भी संबद्धता मिल गई है। मौजूदा सत्र के जून से एडमिशन होंगे। पहले साल में बीएसडब्ल्यू, एमएसडब्ल्यू और एमए कोर्स की पढ़ाई होगी। 30-30 सीटें प्रत्येक कक्षा में रखना तय हुआ है। कॉलेज प्रबंधन ने प्लान पर अमल शुरू कर दिया है।

शिक्षण सत्र 2018-19 को लेकर पीजी कॉलेज में जून से सभी कक्षाओं में एडमिशन की प्रक्रिया शुरू हो जाएगी। खासकर विक्रम यूनिवर्सिटी से वर्तमान में प्रतिवर्ष स्नातक-स्नातकोत्तर में 4000 नए एडमिशन होतेे हैं। भोजमुक्त विवि से जुड़े विद्यार्थियों की संख्या 1200 से 1500 तक हर साल रहती। इग्नू में भी 1000 छात्र-छात्राएं रहते हैं। अब चौथी यूनिवर्सिटी के रूप में महू स्थित डॉ. आंबेडकर यूनिवर्सिटी के कोर्स संचालन की मंजूरी भी मिल गई है। प्रथम ‌वर्ष की शुुरुआत 30-30 सीटों पर एडमिशन के साथ की जाना तय हुआ है, हर साल 10-10 सीटों का इजाफा करने का लक्ष्य है। चूंकि लीड कॉलेज परिसर में 100 से अधिक नए-पुराने कक्ष हैं और बड़ा कैंपस है, ऐसे में डॉ. आंबेडकर विवि के दल ने निरीक्षण के बाद उक्त स्थल पर केंद्र संचालन को मंजूरी दे दी है।

सिलेबस भी मिलेगा, परीक्षा केंद्र का दर्जा भी होगा


एनजीओ क्षेत्र में कार्य करने वालों के लिए फायदेमंद

डॉ. आंबेडकर सामाजिक विज्ञान शोध केंद्र की मंजूरी के बाद अब प्रथम वर्ष का सिलेबस भी जल्द कॉलेज स्तर पर उपलब्ध हो जाएगा। एडमिशन प्रक्रिया जून से शुरू होगी। खासकर सामाजिक क्षेत्र, कार्यों को लेकर रुझान रखने वाले विद्यार्थी को बेहतर अध्यापन व्यवस्था उपलब्ध हो सकेगी। कॉलेज प्रबंधन केंद्र के लिए जल्द ही स्टाफ को लेकर नियुक्ति करने जा रहा है। चूंकि यह जिले का एकमात्र कॉलेज है, जहां 4 प्रकार की यूनिवर्सिटी के कोर्स संचालित होंगे। ऐसे में बीएसडब्ल्यू व एमएसडब्ल्यू कोर्स के मद्देनजर मंदसौर, दलौदा, सुवासरा, सीतामऊ, मल्हारगढ़, गरोठ, भानपुरा और शामगढ़ तक के छात्र-छात्राएं यहां अध्यापन को आ सकेंगे।

आंबेडकर विवि द्वारा संचालित कोर्सेस खासकर एनजीओ के क्षेत्र में कार्य करने वालों के लिए फायदेमंद हैं। प्राचार्य डॉ. सोहोनी ने बताया तीनों ही पाठ्यक्रम नियमित होंगे। तीनों ही कोर्स में उच्च शिक्षा विभाग के निर्देश के तहत ऑनलाइन प्रवेश पोर्टल पर होंगे। प्रारंभिक तौर पर 4 कक्ष उपलब्ध कराए हैं। जल्द ही फेकल्टी, स्टडी मटेरियल व अन्य सुविधाएं भी मिलेंगी। डॉ. हेमा यादव को समन्वयक नियुक्त किया है।

अध्यापन के बेहतर विकल्प मिलेंगे

कॉलेज में विद्यार्थियों को अध्यापन के बेहतर विकल्प मिल सकेंगे। सामाजिक विज्ञान शोध केंद्र विवि की संबद्धता को लेकर मंजूरी मिल गई है। प्रारंभिक वर्ष में 30-30 सीटों पर एडमिशन दिए जाएंगे। आवश्यक रूपरेखा तय कर ली गई है। डॉ. आरके सोहोनी, प्राचार्य लीड काॅलेज मंदसौर

About The Author

I am Brajesh Arya

Related posts