Breaking News

पुलिसकर्मी की चुक : शिवना में युवक की ने की खुदकुशी

सोमवार शाम को भी की थी कोशिश तब पुलिसकर्मी ने पकड़कर मोबाइल छीन लिया, रात में कू द गया युवक

युवक को ढूंढने के बजाय चार घंटे तक पुलिस ने परिजनों को थाने पर ही बिठाए रखा

मंदसौर। मंगलवार सुबह पशुपतिनाथ मंदिर तट के समीप शिवना नदी में एक युवक की लाश मिली। मृतक सोमवार शाम से ही घर से गायब था। परिजनों ने गुमशुदगी भी रात में ही दर्ज करवाई दी थी लेकि न शहर कोतवाली पुलिस ने उसे ढूंढने की बजाय परिजनों को ही चार घंटे थाने पर ही बिठाए रखा, पुलिस आधार कार्ड व फोटो ही मंगवाती रही। जबकि मृतक शाम बाद से ही नदी के आसपास ही घूम रहा था। सोमवार शाम को युवक नदी में कू दा था तब वहां मौजूद एक कास्टेबल ने नदी से बाहर निकालकर मोबाइल छिन लिया था। मंगलवार सुबह युवक की लाश नदी में दिखते ही बहन बेहोश हो गई। मृतक अपने माता-पिता का इकलौता लड़का था। पुलिस समय रहते खोजबीन शुरू करती तो युवक की जान बच सकती थी।

शहर कोतवाली पुलिस ने बताया कि मंगलवार सुबह 8 बजे शिवना नदी में मंदिर तट के समीप एक युवक की लाश मिली। पुलिस ने लाश को नदी से बाहर निकलवाया। मृतक की पहचान पशुपतिनाथ मंदिर के समीप ही स्थित शिवदर्शन कॉलोनी निवासी मोहित पिता राजू उर्फ राजेश तिवारी 27 के रूप में हुई। मृतक अविवाहित था। वह जिला सहकारी बैंक की डिगांव शाखा में सिक्यूरिटी गार्ड की नौकरी करता था। सोमवार शाम को वह घर से निकला था देर शाम तक मोहित घर नहीं पहुंचा। तब बहन आकांक्षा तिवारी जो भाजपा दक्षिण मंडल में उपाध्यक्ष है व पिता रात 8 बजे शहर कोतवाली पहुंचे और गुमशुदगी दर्ज करवाई। लेकि न पुलिस ने तत्काल प्रयास नहीं कि ए। थाने पर मौजूद एएसआई भानूप्रतापसिंह ने कहा कि गुमशुदा के आधार कार्ड व फोटो लेकर आओ तभी शिकायत दर्ज होगी। बरसते पानी में पिता फोटो व आधार कार्ड लेने पहुंचा तब तक आकांक्षा को थाने पर ही बिठाए रखा।

 

कास्टेबल ने मोबाइल छिनकर छोड़ दिया था युवक को

परिजनों के अनुसार मोहित तिवारी ने सोमवार शाम 7.30 बजे शिवना नदी में कू दकर आत्महत्या की कोशिश की थी। इस दौरान वहां मौजूद कांस्टेबल रमेश वास्कले ने उसे बाहर निकलवाया और फिर मोबाइल लेकर छोड़ दिया। रात 8 बजे तक मोहित घर नहीं पहुंचा तब पिता राजेश तिवारी ने उसके मोबाइल पर फोन कि या तब फोन रमेश ने उठाया और पूरी घटना के बारे में परिजनों को बताया।

 

चार घंटे तक बिठाए रखा परिजनों को थाने पर

परिजनों ने अपने स्तर पर तलाश करने के बाद बहन आकांक्षा तिवारी एवं पिता राजेश तिवारी शहर कोतवाली पहुंचे। यहां पर एएसआई भानुप्रतापसिंह राजावत ने युवक को ढूंढने से पहले गुमशुदगी दर्ज करने के लिए परिजनों से फोटो व आधार कार्ड मांगे। इस दौरान आकांक्षा ने मंडल अध्यक्ष संजय मुरडिय़ा को फोन पर पूरी घटना बताई। मुरडिय़ा ने बताया कि मैने जब फोन कर कहा कि फोटो आधार बाद में ले लेना पहले युवक की तलाश कर लो, कोई अनहोनी न हो जाए। इस पर राजावत ने कहा कि मेरा काम नहीं है ढूंढने का मैं तो फोटो डाल दूंगा। मुरडिय़ा ने बताया कि इस दौरान टीआई को भी फोन कि या, लेकि न पुलिस ने कु छ नहीं कि या और परिजनों को रात 12 बजे तक थाने पर ही बिठाए रखा। इस संबंध में मुरडिया द्वारा एसपी से भी शिकायत की गई है। हालांकि जांचकर्ता एएसआई पीएस हटिला ने बताया कि सूचना मिलते ही हमने तलाश की थी। मृतक के पास से सुसाइड नोट नहीं मिला है। उसने आत्महत्या क्यों की है, कारण पता नहीं चल पाए है। गुमशुदगी दर्ज करने के लिए आधार नम्बर व फोटो की जरूरत रहती है।

About The Author

I am Brajesh Arya

Related posts