Breaking News

पूरे जिले में झमाझम, नाले उफान पर

मंदसौर का ड्रेनेज सिस्टम फिर हुआ फैल – किसान खेतों में

मंदसौर। रविवार को दोपहर लगभग 2 बजे आकाश में काले बादलों ने डेरा डालना प्रारंभ किया और कुछ ही देर में तेज हवाओं को के साथ मूसलाधार बारिश मंदसौर नगर सहित अंचले में हुई। यह मानूसन की दूसरी बारिश है। लगातार बढ़ रही उमस और गर्मी से शनिवार से ही लोगों को अच्छी बारिश का इंतजार था लेकिन शनिवार को बादल नहीं बरसे और लोगों का इंतजार लम्बा हो गया। रविवार को दोपहर में ही मूसलाधार बारिश से जहां आमजन को उमस से राहत मिली और मौसम में ठंडक घुल गई वहीं क्षेत्र के किसान भी  अब बोवनी में लग गए है।

रविवार को हुई बारिश जिला मुख्यालय सहित सीतामउ, सुवासरा, शामगढ, दलौदा, पिपलियामंडी, गरोठ, भानपुरा, नाहरगढ सभी स्थानों पर थी और लगभग सभी स्थानों पर ही तेज वर्षा हुई जिससे कई स्थानों पर नाले उफान पर आ गए और कई जगह खेतों में पानी भर गया।

विद्युत व्यवस्था नहीं सुधर पाई 
थोड़ी सी बारिश आते ही सबसे पहले बिजली चली जाने वाली समस्या इस बार भी जस की तस बनी हुई है। बारिश पूर्व विद्युत कम्पनी द्वारा रखरखाव के नाम बिजली बंद की जाती है और कहा जाता हैं कि मेंटनेंस चल रहा है। लेकिन बारिश के समय वह मेंनटेंस कही नजर नहीं आता है। रविवार को भी जैसे ही बारिश प्रारंभ हुई पूरे शहर लाईटे बंद हो गई जो एक घंटे तक बंद रही।

किसान पहंुचे खेतों में, अब बोवनी होगी शुरू

मानसून की दूसरी तेज वर्षा के साथ किसान अब संतुष्ट हो चुके है और खेतों में बोवनी के लिए पहंुच गए है। हालांकि क्षेत्र के कुछ किसानों ने प्री मानसून की वर्षा के समय ही बोवनी कर दी थी लेकिन उस समय कृषि के जानकारोें का कहना था कि मूल मानसून की दो या तीन बारिश के बाद ही किसानों को बोवनी करनी चाहिए। ताकि फसल पर कोई संकट नहीं आ पाए।

सीतामऊ- रविवार को मानसून के प्रभावी आगाज हुआ। जिसके चलते दोपहर 2 बजे से तेज बारिश का दौर देर शाम तक रिमझीम बारिश के रूप में चलता रहा। क्षेत्र में लगभग 50 से 60 प्रतिशत   बोवनी होने  के साथ ही कृषि कार्यों की हलचल बढ़ गई है।खरीफ बोवनी के साथ ही किसानों की व्यस्तता के साथ मार्केट में रौनक दिखाई भी दिखाई देने लग गई है। नगर सहित अंचल में  रविवार को मानसून का जोरदार आगाज हुआ है जो दोपहर 2 बजे से शाम 4 बजे तक तक झमाझम बारिश हुई। इसके बाद रिमझिम बारिश देर रात तक बजे तक जारी रहा।  मानसून की पहली बारिश धमाकेदार होने से किसानों के चेहरे खिल उठे।

About The Author

I am Brajesh Arya

Related posts