Breaking News

पूर्व मंत्री के बयान पर पलटवार किया भाजपा पार्षदों ने

नाहटा पार्षदों का विशेलष करने के बजाय आत्ममंथन करे की उन्होंने शहर को क्या दिया

मंदसौर। नगर पालिका के पार्षदों का बजाय पूरी तरह से साफ है। उनका एकमात्र लक्ष्य एकमात्र लक्ष्य शहर का समुचित विकास करना ही है जिसके कारण मंदसौर शहर आज विकास के नए-नए सोपान चल रहा है महानगरों की तर्ज पर मंदसौर शहर में उत्कृष्ट सडकें बनी है, ओवरब्रीज बने सोपान चल रहा है। महानगरों की तर्ज पर मंदसौर शहर में उत्कृष्ट सडके बनी है ओवरब्रीजज बने है पेयजल समस्या का समाधान करने की कोशिश हुई है। नगर पालिका सभी पार्षदों ने सदैव जनता के हितों का ही ध्यान रखा है, उन्होनें कभी भी इस बात पर ध्यान नहीं लगाया कि किसी सरकारी संपति को अपना बनाया जाए बल्कि उन्होने सदैव जनप्रतिनिधी होने के कर्तव्यों को निभाया और शहर के विकास में योगदान दिया है।
यह बात भाजपा के पार्षदगण विनोद डगवार, पुलकित पटवा, निरांत बग्गा, यशंवत भावसार, मुकेश खमेसरा, अनिता भांभी ने एक प्रेस वक्तव्य के माध्यम से कहते हुए बताया कि मंदसौर शहर में भारतीय जनता पार्टी की परिषद ने सदैव शहर के विकास को प्राथमिकता के साथ मंदसौर शहर में भारतीय जनता पार्टी की परिषद ने सदैव शहर के विकास को प्राथमिकता के साथ पूरा किया है, भाजपा और कांग्रेस के पार्षदों ने मिलकर विकास को प्राथमिकता के साथ पूरा किया है, भाजपा और कांग्रेस के पार्षदों ने मिलकर विकास के सपने को पूरा किया है मंदसौर शहर में सबसे पहली कॉलोनी शुक्ला कॉलोनी बनी थी, इसके बाद नगर पालिका के ही प्रयास रहे  कि आज शहर नई आबादी से लेकर चारों दिशाओं में विकास कर रहा है। नई – नई कॉलोनी बस रही है, पूरा शहर चारों दिशाएं में एक योजनाबद्ध तरीके से विकास की ऊंचाइयां को स्पर्श कर रहा है पार्षदों ने कहां की यह पार्षदों का विजन था की मंदसौर शहर मैं एक के बाद उत्कृष्ट सड़कों का निर्माण हुआ है।

मंदसौर शहर को पेयजल संकट नहीं भोगना पड़े इसके लिए काला भाटा बांध का निर्माण किया गया जिसके कारण मन्दसौर शहर जून माह तक बिना किसी दिक्कत के पेयजल प्राप्त कर रहा है जबकि जिस तेजी से शहर बड़ रहा है उसी के साथ नल कनेक्शन की संख्या भी बढ़ रही है ऐसे में यदि काला भांटा नहीं बना होता तो दिसंबर में ही पेयजल संकट खड़ा हो जाता है यह नगरपालिका के ही प्रयास हैं की मंदसौर शहर महानगरो की तर्ज पर विकसित हो रहा है। उत्कृष्ट सड़कों के साथ साथ ओवर ब्रिज के निर्माण इस शहर के विकास की कहानी को और पार्षदों के विजन को बयां कर रहा है। शहरवासियों को शुद्ध पेयजल उपलब्ध कराना भी पार्षदों का विजन रहा है और उन्होंने पूरा करके भी दिखाया है आज मन्दसौर शहर में आधुनिक तकनीकी  से सुसज्जित वाटर फिल्टर प्लांट उपलब्ध है।

एक के बाद एक शहर में निरंतर विकास के काम हो रहे है महानगरों की बराबरी पर मंदसौर शहर आकर खडा हो रहा है तो यह पार्षदोंका ही विजन है पार्षदो का ही मेहनत है। उन्होंने पूर्व मंत्री नरेन्द्र  नाहटा के बयान को भी आडे हाथो लेते हुए कहा कि नाहटा जी आप 10-15 कॉलेज चलाकर कुलाधिपति बन सकते है,  वर्षो पूर्व आप भी जनप्रतिनिधी थे प्रदेश की सरकार में मंत्री थे लेकिन आपका विजन क्या था ? आपने इस शहर को कौनसा विकास दिया ? सिवाय इसके कि तकनीकी शिक्षा विभाग द्वारा संचालित कॉलेज को आपने अपना निजी कॉलेज बना लिया। लॉ  कॉलेज पर भी कब्जा करने की कोशिश ने आपने कोई कमी नहीं रखी जबकि यह जनता का कॉलेज था जिसे नगर पालिका ने लड़ाई लड़ कर इसे जनता का बनाए रखा है क्या यही आपका विजन था आप के कार्यकाल में इस शहर को कोई बड़ी उपलब्धि नहीं मिल पाई जनता के हितों के बजाय स्व हित के विजन ने ही जनता ने आपको जनप्रतिनिधि नहीं रहने दिया भाजपा और उसके जनप्रतिनिधियो ने सदैव शहर के विकास के लिए प्रयास किए हैं जबकि आपके कार्यकाल में विकास की कोई कल्पना ही नहीं थी अतिक्रमण की आप बात कर रहे हैं महाराणा प्रताप बस स्टैंड की भूमि से भूमि हो जब अतिक्रमण से भाजपा मुक्त कर रही थी तब नाहटा जी आप ही थे जो प्रतिनिधि मंडल लेकर केवल एक समुदाय विशेष की बात को लेकर आगे आए थे।

पार्षदों ने कहां है कि नगर पालिका के अध्यक्ष श्री बंधवार की हत्या के बाद अध्यक्ष मनोनीत करने की जिम्मेदारी कांग्रेस सरकार की थी लेकिन गुटीय लड़ाई के चलते कांग्रेसी अब तक पर निर्णय नहीं कर पा रही है यदि कांग्रेस से समय पर अध्यक्ष मनोनीत कर दिया होता तो इस शहर में और तेजी से विकास के काम होते शहर अधिक गति के साथ उन्नति और विकास कर पाता पार्षदों ने कहां की नाहटा जी को बजाएं नगर पालिका के पार्षदों के कार्यों का विश्लेषण करने के बजाय आत्ममंथन करना चाहिए की उन्हें जब अवसर मिला था तब उन्होंने जनता के लिए क्या किया।

About The Author

I am Brajesh Arya

Related posts