Breaking News

प्रशासन ने बरसात पूर्व शिवना में गंदा पानी मिलने से रोकने की कोई ठोस योजना नहीं बनाई-श्री कोठारी

मन्दसौर। सामाजिक कार्यकर्ता कमल कोठारी ने कहा कि पिछले 2 माह से जन अभियान परिषद के सक्रिय सार्थक प्रयास से श्री पशुपतिनाथ मंदिर स्थित शिवना शुद्धिकरण का जन अभियान चलाकर 6000 से अधिक ट्राली व 1500 से अधिक डम्पर मिट्टी व कचरा शिवना नदी से निकालकर एक अद्धभुत साहसिक कार्य करने का जो बीड़ा जन अभियान परिषद के कार्यकर्ता ने उठाया हैं वह प्रशंसनीय तो हैं ही अपितु अनुकरणीय भी हैं। इस अभियान में मंदसौर के विभिन्न समाज के सामाजिक राजनीतिज्ञ लोगो ने अपनी उपस्थिति  दर्ज करवाकर शिवना शुद्धिकरण में श्रमदान  किया एवं आर्थिक सहयोग भी प्रदान किया ताकि शिवना मया को स्वच्छ-स्वस्थ प्रदूषित होने से बचाया जा सके। जन अभियान परिषद के सभी कार्यकर्ता पदाधिकारीगण इस पुनीत कार्य के लिए साधुवाद के पात्र है जिनके अथक प्रयासों से दृढ़ इच्छा शक्ति संकल्प से शिवना शुद्धिकरण के प्रयास को सफलता मिली लेकिन प्रशासनिक अधिकारियों द्वारा शिवना शुद्धिकरण अभियान को मात्र औपचारिकता प्रदर्शित कर कार्य की बरसात पूर्व कोई ठोस योजना की आधारशिला नहीं रख पाए जिससे पुनः शहर का गंदा पानी व कचरा शिवना में सम्मिलित होने का अंदेशा रहेगा। जो मिट्टी, कचरा शिवना से निकाला गया है वह पुनः शिवना नदी के किनारों पर एकत्रित कर दिया गया शायद मंदसौर कलेक्टर भूतभावन भगवान पशुपतिनाथजी की लीला से अनभिज्ञ है या वे इस कार्य को महज औपचारिक अमलीजामा पहनाने की रीति नीति अपनाये हुए हैं।
श्री कोठारी ने कहा कि यह सर्वविदित हैं कि वर्षाकाल के समय स्वयं शिवना मैय्या भूत भावन भगवान पशुपतिनाथ जी के चरण प्रखारने गर्भग्रह में समाहित हो जाती हैं प्रतिमा को जलमग्न कर देती हैं। इस स्थिति मे जो हज़ारों ट्राली व डम्पर कचरा व मिट्टी निकाली हैं क्या वह पुनः शिवना किनारे डालने पर शिवना नदी में समाविष्ट नही हो जाएगी? लाखों रुपये व्यय करने के बाद नतीजा वही ढाक के तीन पात। प्रशासन ने अभी तक कोई उपयुक्त योजना नही बनाई जिससे शिवना में मिलने वाले गंदे नदी नाले के पानी का निष्कासन शहर से बाहर हो और उसे शिवना में मिलने से रोका जा सके।
श्री कोठारी ने कहा कि शिवना को प्रदूषण मुक्त-स्वच्छ साफ सुधरी रखने के लिए कोई ठोस योजना बनानी होगी। शिवना किनारे को सुसज्जीत रखने के प्रयासों पर ध्यान देना होगा। छोटी पुलिया की उचाई बढ़ाना होगी। किनारों पर पत्थर की वाल बनानी होगी जिससे मिट्टी व कचरा शिवना में सम्मलित नही हो पायेगा। इन सब उपायों से ही हम शिवना शुद्धिकरण अभियान को सार्थकता प्रदान कर पाएंगे। जन अभियान परिषद के सदस्यों के महहत्वपूर्ण  सक्रिय योगदान  को कलेक्टर नजर अंदाज ना करते हुए शिवना शुद्धिकरण के इस व्यापक जन अभियान को सार्थकता प्रदान करे।

About The Author

I am Brajesh Arya

Related posts