Breaking News

बच्ची की वजह से टली मां अनामिका की दीक्षा, पिता सुमित की हुई

नीमच। नीमच के दंपती सुमित राठौर और उनकी पत्नी अनामिका शनिवार सुबह सूरत में दीक्षा लेने वाले थे। लेकिन देर रात मानव अधिकार आयोग की टीम वहां पहुंची और अनामिका से उनकी ढाई साल की बेटी इभ्या को लेकर बात की। इस पर उन्होंने टीम अपने भाई द्वारा इभ्या को गोद लेने वाले दस्तावेज टीम को दिखाए, लेकिन वो नहीं माने। इस वजह से अनामिका की दीक्षा रोक दी गई और सुबह सुमित को दीक्षा दी गई। सुमित राठौर बेहद सामान्य तरीके से दीक्षा ली, इस दौरान 13 जैन मुनि और 41 सतियां वहां मौजूद रहे। राठौर परिवार के सदस्य और रिश्तेदार भी वहां मौजूद थे। नीमच सिटी उप नगर के वरिष्ठ नागरिक व करोड़ों की संपत्ति के मालिक नाहरसिंह राठौर के पौत्र सुमित और उनकी पत्नी अनामिका की दीक्षा विरोध हो रहा था। करोड़ों की संपत्ति की साथ 2 साल 10 माह की बेटी इभ्या के त्याग के कारण उनकी दीक्षा को लेकर देशभर में चर्चा हो रही थी। कई लोग दीक्षा का प्रतिकार कर रहे थे। बेटी की परवरिश का हवाला देकर सोशल मीडिया और कानूनी तौर पर विरोध हो रहा था। शनिवार सुबह करीब 7.15 बजे दीक्षा की शुरुआत हुई। बेहद सामान्य और गरीमापूर्ण तरीके से सुबह करीब 8.30 बजे जैन भगवती दीक्षा पूर्ण हुई।
16 राज्यों के सदस्य पहुंचे – सूरत श्रीसंघ के अनुसार दीक्षा के साक्षी बनने के लिए शुक्रवार तक करीब 16 राज्यों के करीब 4 हजार से ज्यादा लोग पहुंचे। वहीं राठौर परिवार के सदस्यों के अतिरिक्त नीमच से भी 200 से ज्यादा लोग सूरत पहुंचे।
इभ्या की कानूनी जिम्मेदारी ली – सुमित व अनामिका की दीक्षा के पूर्व ननिहाल पक्ष ने बेटी इभ्या की जिम्मेदारी कानूनी तौर पर संभाल ली। अनामिका के पिता अशोक कुमार चंडालिया और पत्नी लाड़ देवी सहित अन्य परिजनों ने वैधानिक रूप से गोद लेने की प्रक्रिया पूर्ण की है।

About The Author

I am Brajesh Arya

Related posts