Breaking News

बच्चों को सादा पानी, अतिथियों का बिसलरी

राष्ट्रीय दिवस पर बच्चों के साथ मध्यान्ह भोजन की परंपरा है। पर पहले यह था कि अतिथि किसी भी स्कूल में पहुंच जाते थे, ताकि इस दिन के भोजन की गुणवत्ता सभी स्कूलों में ठीक-ठाक रहे। इस बार प्रशासन ने एक दिन पहले से ही ग्राम सिंदपन के शासकीय प्राथमिक व मावि में अतिथि का बच्चों के साथ मध्यान्ह भोजन तय कर दिया। इससे गुरुवार को वहां सामान्य दिनों की अपेक्षा अच्छी व्यवस्थाएं मिली। जिपं अध्यक्ष प्रियंका गोस्वामी, विधायक यशपालसिंह सिसौदिया, जिपं सीईओ रानी बाटड़ व एसएसपी अजय प्रतापसिंह के पीने के लिए तो बिसलरी की बोतल रखी गई। वहीं बच्चों के लिए सादा पानी ही रखा गया। जबकि बच्चे अतिथियों के साथ ही बैठे थे। गणतंत्र दिवस पर झंडे को सलाम करते नेता व अधिकारी कभी कभी उनके क्रिया कलापों से अनचाहे ही सोचने को मजबूर कर देते है। मामला यूँ है कि मध्यान्ह भोजन कार्यक्रम के अंतर्गत गणतंत्र दिवस के पावन पर्व पर जिले की सभी शासकीय प्राथमिक व माध्यमिक शालाओं में अध्ययनरत विद्यार्थियों के लिए विशेष भोज का आयोजन किया गया था । उसी के तहत जिला पंचायत अध्यक्षा श्रीमती प्रियंका मुकेश गोस्वामी, मंदसौर विधायक यशपालसिंह सिसौदिया, जनपद अध्यक्ष मंदसौर शांतिलाल मालवीय, अपर कलेक्टर अर्जुनसिंह डाबर, मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत श्रीमती रानी बाटड, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक एपी सिंह ने अन्य जनप्रतिनिधियों एवं अधिकारियों साथ मंदसौर जनपद क्षेत्र के ग्राम सिंदपन की शासकीय प्राथमिक एवं माध्यमिक शाला में छात्रो के साथ विशेष मध्यान्ह भोजन किया और बच्चों के लिए अपने आर्शीवचन भी व्यक्त किये। राज्य शासन द्वारा निधारित मेनू के अनुसार पुड़ी, सब्जी ,खीर तथा लड्डू के अलावा विद्यालय में उपलब्ध पानी खाने के साथ मिलता है। लेकिन जहां जिले के खासमखास लोग सरकारी बच्चो के साथ भोजन कर रहे हो भोजन तो स्वादिष्ट होगा ही भोजन के साथ पानी भी पैक्ड बोतल का ही मिलेगा आखिरकार जिस जनता के पैसो पर राजसी अनुभव इन जनप्रतिनिधियों और शासकीय अधिकारियों को होता है उस आनंद की अनुभूति ही अलग है । बस यही से एक बड़ी लकीर गरीब जनता और उस जनता की खून पसीने की कमाई पर राज करते ये खास लोगो के बीच खींचती जाती है । अब यहाँ प्रश्न यह उठता है कि खुद की सरकार में स्वयं के मार्गदर्शन में कार्य करते तंत्र के स्कूल की पानी की टंकी का पानी जब वहां पढ़ने वाला गरीब छात्र पी सकता है तो पैक्ड बाटल से पानी पीकर अपनी सरकार व प्रशासन की पोल क्यों खोली जा रही है?

About The Author

I am Brajesh Arya

Related posts