Breaking News

बाउंड्रीवाल विहीन विद्यालय में असुरक्षित छात्राए

Hello MDS Android App

सीतामऊ। मंदसौर में हुई घटना ने नगर में संचालित हो रहे स्कूलो की सुरक्षा पर प्रश्नचिन्ह लगा दिया हैं छोटी काशी में 1960 से छात्राओं के लिए शासकीय सरस कुँवर उच्चतर माध्यमिक विद्यालय प्रारंभ हुआ जिसमे वर्तमान में एक हजार से भी अधिक छात्राएं अध्ययनरत है और इस विद्यालय के समीप ही शासकीय कन्या प्रावि और शासकीय कन्या मा वि भी संचालित हो रहे है। सुरक्षा की दृष्टि से ये विद्यालय बाउंड्री विहीन है 50 वर्षो से भी अधिक समय से संचालित हो रहे कन्या उमावि में छात्राओ की सुरक्षा के लिए बाउंड्रीवाल नही बन पाना एक गंभीर विषय है हाल ही में मन्दसौर में हुई घटना ने सबको झकझोर के रख दिया है व प्रशासन भी घटना होने के बाद आदेश के फरमान जारी करने में लग जाते है लेकिन शासकीय स्कूलो में न तो छात्राओ की सुरक्षा के लिए नही तो सीसीटीवी कैमरे लगे है और नही विद्यालय के चारो ओर बाउंड्रीवाल है उच्य अधिकारियों व जनप्रतिनिधियों को कई बार विद्यालय के प्राचार्य द्वारा पत्र लिखकर इस समस्या से अवगत कराया दिया है लेकिन अभी तक ये ये विद्यालय बाउंड्री विहीन होकर छात्राओ की सुरक्षा पर जनप्रतिनिधियों के दावो पर प्रश्रचिन्ह लगा दिया है।

प्राचार्य विहीन विद्यालय-शिक्षकों की कमी से जूझ रहे कन्या उमावि में सात शिक्षक पदस्थ है जिनमे एक शिक्षक के पास प्रभारी प्राचार्य का दायित्व है मात्र सात शिक्षकों के भरोसे ही विद्यालय की शिक्षण व सुरक्षा जवाबबदारी है। लेकिन विद्यालय में छात्राए साढ़े दस बजे आ जाती है जिस पर इनकी जवाबबदारी बनती उन शिक्षकों का विद्यालय में आने का कोई समय नही है शासन द्वारा विद्यालय पर समय पर नही वालो पर शिकंजा कसते हुए ई अटेंडेंस की प्रक्रिया चालू की थी।

कई बार शासन को अवगत करवा चुके है-इस सबंध में प्रभारी प्राचार्य किशोरदास बैरागी ने बताया कि बाउंड्रीवाल को लेकर शासन प्रशासन व जनप्रतिनिधियों को कई बार मांग पत्र द्वाराअवगत करवा चुके है। मेधावी छात्र सम्मान समारोह में मुख्यमंत्री जी को भी मांग पत्र सोप चुके है।

About The Author

I am Brajesh Arya

Related posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *