Breaking News

बीत रहा है सावन सूखा, होने लगी उज्जैयनी की तैयारियां

धूप निकलते ही बढ़ी उमस, अभी दो दिन और बारिश के आसार नहीं

नया मानसूनी सिस्टम बनने में अभी दो से तीन दिन लग सकते हैं

मंदसौर। मौसम विभाग और जानकारो के अनुसार इस बार भरपूर बारिश की उम्मीद थी लेकिन अब तक मंदसौर नगर में तो ऐसा नहीं दिखा। इस बार मानूसन में एक भी जोरदार झमाझम बारिश या दो तीन दिन लगातार बारिश नहीं हुई। सावन मास के पहले तो फिर भी हल्की बौछारें गिर रही थी लेकिन जैसे ही सावन प्रारंभ हुआ है अब तक सूखा ही रहा है। बारिश थमते ही फिर से उमस भरी गर्मी बेचैनी बढ़ाने लगी है। शुक्रवार को धूप से शहरवासी परेशान नजर आए। जानकारों के अनुसार अभी गर्मी से दो दिन तक राहत मिलने की उम्मीद नहीं है। क्योंकि बंगाल की खाड़ी में नया सिस्टम बनने में अभी दो से तीन दिन का समय और लग सकता हैं। उसके बाद ही मानसूनी बारिश फिर से प्रारंभ हो सकेगी।

स्थानीय कृषि महाविद्यालय के वैज्ञानिक के मुताबिक, बंगाल की खाड़ी में अभी तक 5 मानसून सिस्टम बन चुके हैं। अभी 5 से 7 मानसून सिस्टम बनने की संभावना और है। मानसून सीजन में करीब 12 सिस्टम बनते हैं।

आधा भी नहीं हुआ आंकड़ा, इंद्रदेव को मनाने के जतन शुरू
मंदसौर नगर के लिए औसत बारिश 35 इंच मानी जाती है। लेकिन अब तक बारिश का आंकाड़ा आधा भी नहीं हुआ है। जिससे आमजन व किसानों की चिंताएॅ बढ़ गई है। लोग अब इंद्रदेव को मनाने के लिए उज्जैयनी के आयोजनों में लग गए है वहीं नगर में भी बहुत जल्द एक वृहद् उज्जैयनी मनाने का आयोजन किया जा रहा है।

जिले में अबतक 367.6 मि.मी. औसत वर्षा
जिले में इस वर्ष अबतक औसतन 367.6 मि.मी. वर्षा दर्ज की गयी है। विगत 1 जून से अबतक वर्षामापक केन्द्र मंदसौर में 233 मि.मी., सीतामउ में 431.8 मि.मी., सुवासरा में 440.6 मि.मी., गरोठ में 347 मि.मी., भानपुरा में 468.8 मि.मी., मल्हारगढ मे 233 मि.मी., शामगढ में 478 मि.मी., वास्तविक वर्षा दर्ज की गई है। गांधीसागर बांध का जलस्तर 3 अगस्तव को 1274.44 फीट दर्ज किया गया।

About The Author

I am Brajesh Arya

Related posts