Breaking News

भाजपा नेताओं का शहर व शासकीय जमीनों पर अतिक्रमण के मामले में असली चेहरा जनता के सामने आया-विजय गुर्जर

अतिक्रमण हटाने गई महिला अधिकारी के साथ दुर्व्यवहार की नागरिकों ने करी निंदा

मन्दसौर। क्षेत्र के भाजपा सांसद सुधीर गुप्ता, विधायक यशपालसिंह सिसौदिया सहित जनता द्वारा शहर के हित के लिये चुने हुए जनप्रतिनिधियों ने पहले तो खुद ही तेलिया तालाब पर अतिक्रमण किया और अब इसके अस्तित्व को समाप्त करने की नई-नई योजना लगातार बना रहे है। अब अपनी पार्टी के कार्यकर्ताओं के साथ मिलकर शहर की सड़कांे, गलियों और बाजार में खुले रूप से अतिक्रमण की योजना इन भाजपा के जनप्रतिनिधियों ने शहर की जनता के लिये तैयार करी है। मुख्य नगरपालिका अधिकारी सविता प्रधान ने मंदसौर शहर की मुख्य समस्या बढ़ते हुए अतिक्रमण पर कार्यवाही करना चाही तो भाजपा के नेताओं ने यह कहकर कि हमें मंदसौर शहर में अतिक्रमण की राजनीति करना है और मौके पर महिला अधिकारी के साथ दुर्व्यवहार और दादागिरी कर उत्तरप्रदेश के गुण्डाराज को मंदसौर में लाने की पहल कर दी है। यह बात अतिक्रमण हटाने के दौरान हुई घटना पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए पार्षद विजय गुर्जर ने कही।  आगे विजय गुर्जर ने कहा कि मंदसौर शहर वासियों को इस घटना से बहुत दुःख हुआ और गहरा आघात पहुंचा, जब उन्होनंे सुना की जिन भाजपा नेताओं को उन्होनंे शहर विकास की जवाबदारी देते हुए शहर के विकास के साथ शहर को अतिक्रमण मुक्त करने के लिये जनप्रतिनिधि बनाकर भेजा ताकि सुव्यवस्थित यातायात मंदसौर शहर को उपलब्ध हो सके, शासकीय जमीनी को अतिक्रमण से बचाने के लिये जिससे शहर वासियों की आने वाली पीढि़यों को मंदसौर में देखने के लिये खुली भूमि नसीब हो सके। उन्हीं की पार्टी के कार्यकर्ता द्वारा खुले रूप से इलेक्ट्रानिक मीडिया के सामने कैमरे में कहने वाली बातों की मंशा यह है कि हमें मंदसौर शहर में यह सब नहीं चाहिये, हमें इन अतिक्रमणों व अवैध कामों को बढ़ावा देना है और अतिक्रमणों की राजनीति हमें मंदसौर शहर में करना है। मंदसौर शहर के विकास और व्यवस्था से हमें कोई मतलब नहीं है।  यह कहकर भाजपा की भावनाओं से शहरवासियों को अवगत कराया।

अन्त में विजय गुर्जर ने अतिक्रमणों को बढ़ावा देने वाले और संरक्षण देने वाले भाजपा नेताओं की वास्तविकता जनता के सामने आने पर इसका हवाला देते हुए कहा कि शहरवासियों को अतिक्रमण पर भारी पड़ी भाजपा की राजनीति का बहुत गहरा दुःख है और इन नेताओं और जनप्रतिनिधियों की कार्यप्रणाली से इनके प्रति निराशा का भाव है।

About The Author

I am Brajesh Arya

Related posts