Breaking News

भाषण, चंदा, अतिथि मुक्त आनंद युक्त दशहरे का आयोजन : रावण के पुतले का भी होगा दहन

मंदसौर। इस बार महाविद्यालय के सामने स्थित मैदान पर रावण दहन का आयोजन तो होगा ही परंतु दशहरा उत्सव मनाने के लिए न तो किसी से चंदा लिया जायेगा और न ही प्रतिवर्षानुसार होने वाली नेताओं की भाषणबाजी इस बार अतिथि के रूप में किसी को भी मंचासिन होने का अवसर नहीं मिलेगा। कारण हैं कि आयोजन करने वाली संस्था मंचहीन ही बनायेगी।

हालांकि प्रतिवर्ष दशहरा उत्सव मनाने के लिए आयोजन समिति बनी हुई है। जो वर्षो से यहां दशहर उत्सव का आयोजन करती है। लेकिन इस बार उक्त समिति ने अतिवृष्टि व बाढ़ को देखते हुए इस वर्ष रावण दहन का कार्यक्रम स्थगित कर दिया था। परंतु परम्परा को कायम रखने के लिए श्रीनाथ भक्त मंडल के संस्थापक मानसिंह माच्छोपुरिया ने इस बार भी दशहरा उत्सव पारम्परिक ढंग से मनाने का निर्णय लेकर परम्परा को खण्डित नहीं होने दिया है। वहीं संस्था ने निर्णय भी लिया हैं कि इस आयोजन के लिए किसी भी व्यक्ति से चंदा नहीं लिया जायेगा। न मंच बनेगा न ही कोई अतिथि होगे। रावण दहन के इस कार्यक्रम में आने वाले दर्शकों को रटे – रटाये भाषणों से मुक्ति तो मिलेगी ही साथ ही निर्धारित समय पर रावण का पुतले का दहन भी हो सकेगा।

श्री नाथ भक्त मंडल के इस आयोजन को लेकर तैयारियां अंतिम चरणों में चल रही है। हालांकि पहले दशहरा उत्सव के लिए नपा अनुदान देती थी तो दो – दो स्थानों पर रावण के पुतलों का दहन होता था। जबकि एक स्थान पर रावण के वध की परम्परा थी। लेकिन अज्ञात कारणों के चलते नपा ने अनुदान बंद कर दिया था। फिर भी एक स्थान पर तो दशहरा उत्सव मनाने की परम्परा कायम थी। जो इस वर्ष अतिवृष्टि के कारण स्थगित करना पडी। परंतु नई संस्था ने इस बार यह बीढ़ा उठाकर नया इतिहास रचने का प्रयास किया है।

About The Author

I am Brajesh Arya

Related posts