Breaking News

मंडी में नहीं होगा नगद भुगतान

– सभी तरह के भुगतान आरटीजीएस, नेफ्ट एवं ऑनलाइन होंगे

– एक करोड़ से अधिक नगद निकासी पर दो प्रतिशत टीसीएस लगाने से हो रहा है व्यवस्था में बदलाव

मंदसौर। एक सितंबर से एक करोड़ रुपए से अधिक की नगद निकासी पर दो प्रतिशत टीडीएस लगाया जाएगा। इस वजह से अब व्यापारी कि सानों, हम्मालों एवं तुलावटियों को नगद भुगतान नहीं करेंगे। अब उपज बेचने के लिए आने वाले कि सानों को बैंक पास बुक की छाया प्रति साथ में लाना पड़ेगी।

मंडी सचिव जेके चौधरी ने बताया कि एक सितंबर से एक करोड़ से अधिक नगद निकासी पर दो प्रतिशत टीडीएस लगाए जाने के कारण दशपुर मंडी व्यापारी संघ द्वारा किसानों, हम्मालों-तुलावटियों को नगद भुगतान करने में असमर्थता व्यक्त की गई है। इस कारण एक सितंबर को मंडी में सभी प्रकार का भुगतान आरटीजीएस, नेफ्ट, ऑनलाइन के माध्यम से कि या जाएगा। मंडी सचिव चौधरी ने कि सान, हम्माल-तुलावटी मंडी में कि सी भी प्रकार की परेशानी से बचने के लिए एवं समय पर भुगतान प्राप्त करने के लिए अपने बैंक पास बुक की छायाप्रति साथ में लाए। इसमें आईएफएससी कोड एवं खाता नंबर स्पष्ट एवं पढ़ने योग्य हो। साथ ही कि सी भी व्यापारी से चेक से भुगतान प्राप्त नहीं करे। अपने बिल पर मोबाइल नंबर जरूर अंकि त करें।

राजस्व विभाग ने शुक्रवार को कहा कि एक करोड़ रुपये से अधिक की नकद निकासी पर दो प्रतिशत की दर से स्रोत पर कर कटौती (टीडीएस) का फैसला एक सितंबर से लागू हो जाएगा। केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड (सीबीडीटी) ने कहा कि चालू वित्त वर्ष में 31 अगस्त, 2019 तक जो लोग पहले ही एक करोड़ रुपये की नकद निकासी कर चुके हैं, उनकी इसके बाद की सभी निकासी पर दो प्रतिशत का टीडीएस लिया जाएगा।

सरकार ने नकदी लेनदेन को हतोत्साहित करने और देश को कम नकदी वाली अर्थव्यवस्था बनाने के लिए केंद्रीय बजट में एक करोड़ रुपये से अधिक की नकद निकासी पर दो प्रतिशत की दर से टीडीएस लेने का प्रावधान किया है। टीडीएस के बारे में पूछे गए सवाल पर सीबीडीटी ने यह जानकारी देते हुए कहा कि यह प्रावधान एक सितंबर, 2019 से प्रभावी होगा।

इसलिए इससे पहले की गई नकद निकासी पर टीडीएस नहीं काटा जाएगा। हालांकि, वित्त विधेयक की धारा 194एन के तहत नकद निकासी की गणना एक अप्रैल 2019 से की जाएगी।

इस लिहाज से यदि कोई व्यक्ति 31 अगस्त 2019 से पहले ही अपने बैंक खातों, डाक घर खातों और सहकारी बैंक खातों से एक करोड़ अथवा इससे अधिक नकद निकासी कर चुका है तो इसके बाद होने वाली नकदी निकासी पर दो प्रति टीडीएस कटौती की जाएगी।

About The Author

I am Brajesh Arya

Related posts