Breaking News

मंदसौर की एक साख सहकारी संस्था ने ग्राहको के 50 लाख रुपए लेकर लगाए ताले

मंदसौर। शहर में छह माह पहले बंद हुई मालवा साख सहकारी संस्था के कर्ताधर्ता गायब हो गए हैं और जमाकर्ता अपनी रकम के लिए दर-दर भटक रहे हैं। एक अनुमान के मुताबिक लगभग 50 लाख रुपए का घपला सोसायटी में हुआ है। संचालक ने एक विज्ञप्ति जारी कर 30 अप्रैल तक सभी का रुपया लौटाने का वादा किया था। तय तिथि निकलने के बाद संस्था से जुड़े एजेंटों व जमाकर्ताओं ने सोमवार को पहले तो उसके प्रबंधक के घर जाकर पत्नी से झूमाझटकी की। बाद में सहकारिता विभाग में जाकर भी शिकायत की। पर कुछ हल नहीं निकला।

लामबंद होकर पहुंचे एजेंटों ने बताया कि मंदसौर, दलौदा, सीतामऊ एवं सुवासरा में मालवा साख सहकारी संस्था के लिए डेली कलेक्शन करते थे। मंदसौर एवं विभिन्न गांवों में कई व्यक्तियों के खाते खोलकर डेली कलेक्शन कर सोसायटी में लगभग 40 लाख से अधिक रुपए जमा करवाए हैं। मुख्य प्रबंधक प्रफुल्ल पिता केशवनारायण सक्सेना निवासी मेघदूत नगर एवं संस्था अध्यक्ष अनूप त्रिवेदी निवासी बसेर कॉलोनी ने सारी राशि हड़पने की नीयत से नवंबर 16 में ही सभी शाखाओं में ताले लगा दिए थे। अब खातों की अवधि पूर्ण होने पर लोग हमसे रुपए मांग रहे हैं। प्रफुल्ल सक्सेना ने एक विज्ञप्ति जारी कर 30 अप्रैल तक सभी को भुगतान करने को कहा था, पर नहीं होने पर सोमवार को लोग भड़क गए और हम सभी को लेकर उनके घर ले गए। यहां प्रफुल्ल की पत्नी के साथ महिलाओं ने झूमाझटकी करने की कोशिश की। वायडी नगर से पहुंचे पुलिस अधिकारियों ने लोगों को समझाइश दी।

मालवा साख सहकारी संस्था के उपभोक्ता और एजेंटों ने संस्था प्रबंधक प्रफुल्ल सक्सेना के मेघदूत नगर स्थित घर पहुंच हंगामा किया। यहां पर आक्रोशित एजेंटों और उपभोक्ताओं ने प्रबंधक के खिलाफ नारेबाजी की और घर के अंदर घुस गए। यहां पर प्रबंधक की पत्नी के साथ धक्का-मुक्की भी की। सूचना पर पुलिस मौके पर पहुंची और सभी को समझाइश दी। यहां पर एजेंट और उपभोक्ताओं ने संस्था प्रबंधक पर धोखाधड़ी का आरोप लगाया।पुलिस अधिकारियों की समझाइश के बाद एजेंट और उपभोक्ता माने और बालागंज स्थित रजिस्टार कार्यालय पहुंचे।

यहां पर करीब आधे घंटे तक संस्था प्रबंधक के खिलाफ नारेबाजी की। इसके बाद कलेक्टर कार्यालय पहुंच प्रभारी कलेक्टर अर्जुन डाबर को ज्ञापन सौंपा।कृष्णदास बैरागी, विष्णु पाटीदार, किशोर कुमावत, अन्नपूर्णा शर्मा, लक्ष्मी बैरागी, माया बैरागी सहित अन्य ने बताया कि हम मालवा साख सहकारी संस्था के अधिकृत एजेंट और उपभोक्ता है। एजेंटों ने कहा कि हमने संस्था के लिए डेली कलेक्शन का कार्य करते है। हमने मंदसौर एवं विभिन्न गांवों में कई व्यक्तियों के खाते खोल उनसे डेली कलेक्शन करते है। मालवा साख संस्था की विभिन्न शाखाओं में रूपए जमा करवाएं। हमारे द्वारा करीब 40 लाख रूपए जमा है। जो मुख्य प्रबंधक प्रफुल्ल सक्सेना निवासी मेघदूत नगर एवं अनुप त्रिवेदी निवासी बसेर कॉलोनी ने उक्त रूपए की ठगी कर रूपए हड़पने की नियत से मंदसौर शाखा एवं अन्य शाखा पर पांच दिन से ताले लगा दिए गए है। जिन व्यक्तियों के हमने खाते खोले थे। उनकी अवधि पूर्ण होने पर उनके द्वारा जमा राशि की मांग की जा रही है। इस पर हमने प्रफुल्ल सक्सेना से बात की तो हमारे साथ अभ्रद व्यवहार किया और झूठे केस में फंसाने की धमकी दी।और कहा कि पुलिस थाने और सहकारी कार्यालयों में बंदी चलती है। मेरा कोई कुछनहीं बिगाड़ सकता है। वायडीनगर उपनिरीक्षक बीएल हाड़ा ने बताया कि एजेंट और उपभोक्ताओं ने राशि हड़पने का आरोप लगाया है। इसके लिए उन्होंने ज्ञापन भी दिया है।

About The Author

I am Brajesh Arya

Related posts