मंदसौर की पावन धरा हुई कलंकित, आठ साल की छात्रा का अपहरण कर हैवानियत

Hello MDS Android App

 घटना को लेकर हर कोई है आक्रोशित

लापता हुई बालिका के साथ हुआ अमानवीय कृत्य

गंभीर अवस्था में मिली मासूम, उपचार के लिए इंदौर रैफर

मंदसौर। मंगलवार की शाम लगभग 5 बजे शहर की घनी बस्ती से गायब हुई 7 वर्षीय बच्ची बुधवार की दोपहर लगभग 12 बजे बस स्टेण्ड के पीछे स्थित लक्ष्मण दरवाजे के समीप नाले के यहॉ गंभीर अवस्था में बेहोशी की हालत में मिली। जिसे उपचार हेतु जिला चिकित्सालय लाया गया जहॉ पर बच्ची का मेडीकल व प्राथमिक उपचार कर उसे इंदौर रैफर कर दिया गया।

प्राप्त जानकारी के अनुसार मंगलवार को नगर की घनी आबादी वाले क्षेत्र हाफिज कॉलोनी स्थित एक शिक्षक संस्था से 7 वर्षीय मासूम बालिका को कोई अज्ञात व्यक्ति ले गया था। बाद में परिजन बालिका को लेने के लिए स्कूल पहुंचे तो वह नहीं मिली परिजनों द्वारा खूब ढॅूढने पर बालिका का कोई पता नहीं लगा बाद में पुलिस को सूचना दी गई थी। जिसके बाद नाकाबंदी कर लगातार बच्ची की तलाश की जा रही थी।

 

हुआ अमानवीय कृत्य
बच्ची की हालत गंभीर बताई जा रही है और शरीर पर कई चोटों के निशान भी पाए गए। बताया जाता है कि बच्ची के मुॅह, गले व कान पर कई चोटों के निशान भी है। पुलिस ने माना है कि बच्ची के साथ अमानवीय कृत्य हुआ है। बच्ची को लक्ष्मण दरवाजे के पास नगर की राजाराम फैक्ट्री में कार्य करने वाले श्री सोनी ने देखा और उसकी सूचना तुरंत पुलिस को दी। पुलिस को मौको से बालिका व उसका स्कूल बेग और पानी बॉटल भी मिली है।

 

फिर शर्मसार हुई मानवता
कुछ दिन पूर्व ही सीतामउ में एक बालिका के साथ गैगरैप की घटना घटित हुई थी। घटना में पीडि़ता आज भी पूर्ण रूप से स्वस्थ नहीं हो पाई है और लोग उस मामले को भूले भी नहीं थे कि बुधवार को मानवता को शर्मसार कर देने वाली एक ओर घटना घटित हो गई।

 

क्या होगा मिल भी जाएंगे तो जमानत हो जाएंगी
पीडि़त बच्ची के नाना को जब उसके लापता होने की सूचना मिली तो वे तुरंत ही मंगलवार की रात मंदसौर आ गए। और जब बच्ची को गंभीर अवस्था में जिला चिकित्सालय लाया गया। तब वह अत्यंत दुखी व परेशान थे रोते हुए वे कानून व्यवस्था को खूब कोस रहे थे। उनका कहना था कि मेरी बच्ची के साथ ऐसा कृत्य करने वाले यदि मिल भी जाएंगे तो जमानत पर छूट जाएंगे।

 

डीआईजी आए मंदसौर
घटना की जानकारी मिलते ही रतलाम रेंज के डीआईजी मंदसौर आए और यहां पर आकर उन्होने एसपी मनोजसिंह से पूरे मामले की जानकारी ली और दोषियों को पकड़ने के निर्देश दिए।

 

कोई परिचित ही था
बताया जाता है कि जो कोई भी बच्ची को स्कूल से ले गया था वह बच्ची व उसके परिवार से परिचित था और संभवतः बच्ची भी उससे परिचीत थी। उसने बच्ची को नाम से पुकारा और बच्ची उसके साथ चली गई।

 

बंद रहा स्कूल
मंगलवार को लापता बच्ची के नहीं मिलने के कारण बुधवार को उक्त शिक्षक संस्थान बंद रहा। पूरे दिन स्कूल नहीं खुला था।

पूछताछ जारी है
गंभीर अवस्था में बच्ची को अस्पताल लाया गया था। जहॉ से बच्ची को इंदौर रैफर किया गया है। बच्ची के साथ अमानवीय कृत्य हुआ है उसके शरीर पर कई चोटों के निशान भी है। स्कूल प्रबंधक, परिजनों से लगातार पूछताछ कि जा रही है। – मनोजसिंह, पुलिस अधीक्षक, मंदसौर

मंदसौर तो ऐसा नहीं था
मंदसौर नगर व जिले की पहचान अच्छे व सुरक्षित शहरों में हमेशा होती रही है। बलात्कार, गैंगरेप जैसे अमानवीय कृत्य मंदसौर में कभी नहीं सुने गए। लेकिन अब मंदसौर को शायद किसी की बुरी नजर लग गई है। पिछले साल हुए किसान आंदोलन के गोलीकांड से लगातार मंदसौर में घटनाएॅ घटित हो रही है। लेकिन बुधवार को बच्ची के साथ हुआ कृत्य तो अत्यंत घिनौना व मानवता को तार तार कर देना वाला है। हमारा मंदसौर शहर तो ऐसा कभी नहीं था, यहां के लोग कभी ऐसे नहीं थे। लेकिन अब ऐसा लगता है कि मंदसौर सुरक्षित नहीं रहा। यहॉ भी अब मनुष्य की शक्ल में जानवर घूमने लगे। बच्ची की हालत के बारे में जिसने भी सुना उसकी दिल पसीज गया आंखों से आंसू बह गए कि कोई इंसान इतना घिनौना कार्य भी कर सकता है।

 

सीसीटीवी कैमरे में दिखी बच्ची एक युवक के साथ जाते हुए
बच्ची को कौन ले गया था। इसकी जानकारी जुटाने के लिए पुलिस लगातार स्कूल के आस पास के सीसीटीवी कैमरों को खंगाल रही है। बुधवार को शाम को एक सीसीटीवी फूटेज में बालिका एक युवक के साथ जाते हुए नजर आ रही है।

 

आक्रोशित लोगों ने किया चक्काजाम
बालिका के साथ घटित शर्मसार कर देने वाली घटना को लेकर नगर के आक्रोशित लोगों ने गांधी चौराहे पर चक्काजाम कर घटना को अंजाम देने वाले अरोपियों को तत्काल गिरफ्तार करने की मांगी की है।

नगर पुलिस निरीक्षक जितेन्द्रसिंह यादव ने बताया कि मासूम बालिका को लेकर पुलिस ने मंगलवार की शाम धारा 363 में मामला दर्ज किया था। मेडिकल रिपोर्ट आने के पश्चात् प्रकरण में धाराओं का इजाफा किया जावेगा।

 

घिनौना कृत्य करने वाले को शिघ्र मिले फांसी
मासूम बालिका के साथ हुई हृदय विदारक व मानवता को शर्मसार करने वाली घटना को लेकन नपाध्यक्ष प्रहलाद बंधवार ने कहा कि शांति का टापू कहे जाने वाले नगर में इस तरह की घटना कि पुर्नावृत्ति न हो इसके लिए आरोपी को शिघ्र गिरफ्तार कर एक माह में ही न्यायलयीन प्रक्रिया पूर्ण कर फांसी की सजा से दण्डित किया जाना चाहिए।

About The Author

I am Brajesh Arya

Related posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *