Breaking News
विपिन जैन

जन्म दिनांक: 7 मई 1976

शिक्षा: हायर सेकंडरी

व्यवसाय: स्कूल संचालक

उपलब्धि: ग्राम पंचायत दलौदा को बना दिया प्रदेश में मॉडल

शख्स जो सिखा रहा है गांव का विकास कैसे होता है

स्कूल संचालक विपिन जैन ने जब 26 माह पहले सरपंच का पद संभाला तो कई चुनौतियां सामने थी। उनकी नई सोच, बदलाव की ललक ने एक के बाद एक सफलता की राह खोली। उनकी पहचान अब श्रेष्ठ सरपंच के रूप में मप्र ही नहीं बल्की देश भर में है। दलौदा पंचायत एक मॉडल के रूप में पहचानी जा रही है। वे सिखा रहे हैं कि एक गावं को विकास की राह पर कैसे ले जाकर स्वावलंबी बनाया जा सकता है।

अपने कारोबार व राजनीति की शुरूआत को लेकर वे बताते है कि राजनीति के साथ समसजसेवा का संकल्प लिया और 2002 में मंउसौर जनपद में सदस्य बने। इसके बाद शिक्षा के क्षेत्र में ग्रामीण क्षेत्र में बदलाव का संकल्प लेकर अच्छे शिक्षण संस्थान को शुरू करने का विचार बना। 2003 में उन्होंने दलौदा पब्लिक स्कूल और श्री दलौदा पब्लिक स्कूल सीबीएसई की शूरूआत की। क्षेत्र में सीबीएसई का पहला स्कूल उन्होंने शूरू किया। शूरूआत छोटी थी और तीन, चार गांव के 150 के करीब बच्चे स्कूल में आते थे। लगातार मेहनत का नतीजा यह रहा कि वर्तमान में उनके संस्थान में 80 गांवों के करीब 2500 बच्चों का शिक्षण हो रहा है। सफलता का श्रेय वे पिता सुभाषचंद्र जैन और माता खुशलता जैन को देते हैं। जिनके संस्कार और सीख उनकी प्ररणा है।

गांव के लिए कुछ नया करने और बदलाव की चाह में 2015 में सरपंच का चुनाव लड़े। जीतने के बाद दलौदा के कायाकल्प में खुद को समर्पित कर दिया। 26 माह में दलौदा पंचायत को वे स्व काराधान में प्रदेश की नंबर वन पंचायत बना चुके हैं। सालिड वेस्ट प्रोजेक्ट में पंचायत प्रदेश की मॉडल बन गई। दलौदा में शुद्ध पेयजल के लिए आरओ वाटर एटीएम लगाए गए। ग्रामीण क्षेत्र में वेन के जरिए शुद्ध पानी का वितरण किया जा रहा है। 100 से ज्यादा सीसी रोड निर्माण के साथ स्वच्छता पर बेहतर काम हुआ।

पंचायतस्तर पर किए कामों को प्रदेश सरकार से सराहना मिली। सालिड वेस्ट के लिए प्रदेश सरकार की सरपंचों की 7 सदस्यीय टीम में जिले के वे एक मात्र सरपंच थे जिनका चयन तमिलनाडु दौरे के लिए हुआं वहां चेन्नई की पंचायतों में 18 फरवरी 2016 में जाकर सालिड वेस्ट प्रबंधन का अध्ययन किया। इसके चलते उन्हें भारत सरकार के ग्राम उदय प्रोजेक्ट में दिल्ली में 2016 प्रेजेटेशन के लिए बुलाया गया।

मप्र सरकार के प्राजेक्ट में चित्रकूट जाकर भी 28 फरवरी 2017 को प्रेजेटेशन दिया। बिहार के पटना कमें 18 मई 2017 को दलौदा पंचायत विकास, कर वसूली, स्वास्थ्य, जलप्रदाय, कचरा प्रबंधन पर पावर प्रेजेटेशन के माध्यम से नवाचार की जानकारी वहां के पंच सरपंचों को दी। उनके इन कार्यो के कारण मुख्यमंत्री स्वच्छता अवार्ड, जनवरी 2017 में कराधान नवाचार के लिए जिला प्रशासन ने सम्मानित किया। पहले मुख्यमंत्री भी श्रेष्ठ कार्य के लिए उन्हें सम्मानित कर चुके हैं।