Breaking News

मंदसौर छोटी बड़ी खबरे 15 Dec 2018

जलने से युवक की मौत

मंदसौर। पिपलियामंडी थाना क्षेत्र के ग्राम सेमलिया निवासी ओमप्रकाश रमेश मीणा 40 वर्ष अपने ही घर पर जल गया था। जिसका उपचार जिला अस्पताल में चल रहा था कि शनिवार को ईलाज के दौरान जिला अस्पताल में मृत्यु हो गई। पुलिस ने मृतक का पीएम करवाकर शव परिजनों को सौंप दिया।


बाल केबिनेट ने आयोजित किया प्रतिभा पर्व

मन्दसौर। दिनांक 15 दिसम्बर को प्रतिभा पर्व के तृतीय दिवस शा.प्रा.विद्यालय मिण्डलाखेड़ा में विशेष बाल-सभा का आयोजन किया गया। इस अवसर पर विभिन्न प्रतियोगिताएं दौड़, खो-खो, कबड्डी, चेयर रेस, कविता, नृत्य आदि भी आयोजित की गई जिसमें बड़ी संख्या में बच्चों ने भाग लिया। प्रतियोगिता एवं कार्यक्रमों में विजेता विद्यार्थियों को विद्यालय द्वारा पुरस्कृत किया।

पूरे कार्यक्रम का संचालन सहायक अध्यापक मो. उमर शेख के नेतृत्व में बाल केबिनेट ने किया। विद्यालय की बाल केबिनेट के खेल मंत्री, व्यवस्था मंत्री, पर्यावरण मंत्री, प्रधानमंत्री व पुरी बाल केबिनेट ने बहुत ही उत्साह के साथ कार्यक्रम का आयोजन किया।

इस अवसर पर पंच मुकेश पाटीदार, ताराचंद चौहान, बापूलाल चौहान व अभिभावक उपस्थित थे। प्रधान अध्यापक शंभूलाल सूर्यवंशी ने सभी खिलाडि़यों को खेल का महत्व बताया। अंत में सहायक अध्यापक उमर शेख ने आभार व्यक्त करते हुए विजेता बच्चों को बधाई दी।


शा. प्राथमिक एवं माध्यमिक विद्यालय रिण्डा में हुआ प्रतिभा पर्व का आयोजन

मन्दसौर। प्रतिवर्षानुसार इस वर्ष भी स्कूल शिक्षा विभाग म.प्र. शासन के आदेशानुसार शासकीय प्राथमिक एवं माध्यमिक विद्यालय रिण्डा में कक्षा 1 से 8 तक के छात्र-छात्राओं का प्रतिभा पर्व दिनांक 13 दिसम्बर से 15 दिसम्बर तक आयोजित किया गया।

तीन दिवसीय प्रतिभा पर्व के दौरान छात्र-छात्राओं का शैक्षिक मूल्यांकन, खेलकूद, सांस्कृतिक कार्यक्रम, बालसभा, विशेष भोज, परिणाम व अंत में पुरस्कार वितरण किया गया। इस कार्यक्रम में विद्यार्थियों के अभिभावकों व जनप्रतिनिधियों को आमंत्रित किया गया। यह कार्यक्रम बालक-बालिकाओं के भविष्य के लिये उनको आत्मविश्वास और संबल प्रदान करेगा।

इस अवसर पर विद्यालय के शिक्षकगण ममता राज, रजिया बी कुरेशी, सतीश शर्मा, गोपाल शर्मा, आरती लोहार तथा सत्यापन अधिकारी रविन्द्र धनगर, शाला प्रबंधन समिति अध्यक्ष मदनलाल टेलर, रामलाल परिहार तथा बड़ी संख्या में छात्र-छात्राएं तथा अभिभावक उपस्थित रहे।


अ.भा. डाक एवं आर.एम.एस. पेंशनर एसो. की बैठक 17 को

मन्दसौर। अखिल भारतीय डाक एवं आर.एम.एस. पेंशनर एसोसिऐशन के अध्यक्ष एन.के. शर्मा ने बताया कि पेंशनर संघ की एक साधारण बैठक 17 दिसम्बर, 2018, सोमवार को दशपुर कुंज में सायंकाल 4 बजे रखी गई है। इसमें संघ की नवीन कार्यकारिणी बनाई जाएगी।  एसोसिएशन के पी.सी. शर्मा, बी.एल. भट्ट, टी.एच. खिलजी, अभय भटेवरा, एम.एस. रामावत, डी.एस. मुजावदिया, आर.एस. नागर, शिवनारायण भावसार ने सभी पेंशनर साथियों से अनुरोध किया है कि इस बैठक में अवश्य भाग लेवे।


कल होगा पेंशनरों का सम्मान समारोह

मन्दसौर। भारत पेंशनर समाज जिला शाखा मंदसौर के अध्यक्ष सी.एम. योगी ने बताया कि दिनांक 17 दिसम्बर को अन्तर्राष्ट्रीय पेंशन दिवस के उपलक्ष्य में 75 वर्ष से अधिक उम्र के पेंशनरों का संगठन द्वारा सम्मान किया जा रहा है। इस कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में जिला एवं सत्र न्यायाधीश मंदसौर तारकेश्वरसिंह, से.नि. जिला एवं सत्र न्यायाधीशएम.आर. कसानिया, जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी आदित्यसिंह (आई.ए.एस.) उपस्थित रहेंगे।

भारत पेंशनर समाज के जी.के. शर्मा, ऋषभकुमार कोठारी, धर्मवीर गुप्ता, मनीषा कोपरगांवकर, बलवंतसिंह कोठारी, सतीश नागर, रमेश शर्मा, अशोक श्रीवास्तव, ओ.पी. गोड़, सत्येन्द्र कानुनगों, बी.एस. सिसौदिया एवं प्रांतीय सचिव डॉ. सी.के. विश्नोई आदि ने आमंत्रित सभी पेंशनर साथियों से सम्मान समारोह में उपस्थ्ज्ञित होने की अपील की है। उक्त जानकारी संरक्षक अर्जुनसिंह राठौर  द्वारा दी गई।


बालिकाएं सिख रही हैं विकट परिस्थितियों का सामना करना

उत्कृष्ट विद्यालय एवं महारानी लक्ष्मीबाई विद्यालय में दी जा रही है सेल्फडिफेंस की ट्रेनिंग

मंदसौर। शासकीय उत्कृष्ट उ.मा.विद्यालय मन्दसौर व महारानी लक्ष्मीबाई शा. कन्या उच्चतर माध्यमिक विद्यालय मंदसौर में राष्ट्रीय माध्यमिक शिक्षा अभियान योजना के अंतर्गत सेल्फ डिफेंस आत्मरक्षा का प्रशिक्षण शासन द्वारा निःशुल्क बालिकाओं को दिया जा रहा है। प्रशिक्षण में विकट व संकट की स्थिति में कैसे सामना करें, समय आने पर अपनी आत्मरक्षा किस तरह से करें, इस बात पर विशेष तकनीकी कोचिंग मंदसौर जिला सेल्फ डिफेंस एसोसिएशन की चीफ फीमेल कोच नेशनल सेल्फडिफेंस फेडरेशन इंडिया से ट्रेंड ब्लैक बेल्ट आकाँक्षा मिंडा द्वारा दिया जा रहा है।

प्रशिक्षण में अनेक छात्राएं बढ़-चढ़कर भाग ले रही है। इस अवसर पर छात्राओं को प्रशिक्षण लेने के लिए राष्ट्रीय राष्ट्रीय माध्यमिक विद्यालय अभियान के प्रभारी श्री लोकेंद्र डाबी व शासकीय उत्कृष्ट विद्यालय के प्राचार्य पृथ्वीराज परमार, महारानी लक्ष्मीबाई शासकीय कन्या उ.मा. विद्यालय के प्राचार्य सुमलसिंह निगवाल, उत्कृष्ट विद्यालय की पी.टी.आई. राठौर मेडम, महारानी लक्ष्मीबाई विद्यालय  विद्यालय की पी.टी.आई. शांता व्यास ने बालिकाओं को  प्रेरित किया। उक्त जानकारी सेल्फडिफेंस कोच आकाँक्षा मिण्डा ने दी।


काचरिया जाट में आज से निकलेगी पोथी एवं कलश यात्रा

मंदसौर। जिले के ग्राम काचरिया जाट तह. सीतामऊ के समस्त ग्रामवासियों के द्वारा भगवान बालाजी महाराज के असीम कृपा से भगवान श्रीकृष्ण ठाकुरजी के भव्य सान्निध्य में श्रीमद भागवत कथा का आयोजन किया जा रहा है। श्रीमद भागवत कथा का शुभारम्भ आज भव्य पोथी एवं कलश यात्रा के साथ होगा। श्रीमद भागवत कथा का आयोजन 16 दिसम्बर 2018 से 22 दिसम्बर 2018 तक होगा। श्रीमद भागवत कथा का आयोजन प्रतिदिन दोपहर 12 बजे से हरि इच्छा तक होगा। श्रीमद भागवत कथा का आयोजन बालाजी महाराज मंदिर प्रांगण गांव काचरिया में होगा। श्रीमद भागवत कथा का सात दिवसीय अमृतमयी वाचन श्री हनुमन्त भागवत कर्मकाण्ड परिषद के संस्थापक व प्रसिद्ध भागवताचार्य पं. मुकेश शर्मा नारायण मंदसौर वाले के मुखारविंद से होगा। आयोजन समिति के द्वारा समस्त भक्तजनों से विनम्र अपील की है कि इस धर्म मय आयोजन में श्रीमद भागवत कथा का सच्चा श्रवण प्राप्त कर अवश्य अपने जीवन को धन्य बनावें। बड़ी से बड़ी संख्या में पधारकर श्रीमद भागवत कथा के आयोजन का धर्मलाभ प्राप्त करें। समस्त जानकारी परिषद सदस्य मनीष शर्मा के द्वारा दी गई।


एग्री क्लीनिक एवं एग्री बिज़नेस प्रशिक्षण हेतु आवेदन  की अंतिम तिथि 20 दिसम्बर

          मंदसौर 15 दिसम्बर 18/  सेडमैप-मैनेज एन.टी.आई भोपाल के नोडल अधिकारी श्री शरद कुमार मिश्रा ने बताया कि केन्द्रीय कृषि एवं कृषक कल्याण मंत्रालय भारत सरकार अंतर्गत राष्ट्रीय कृषि विस्तार प्रबंधन संस्थान (मैनेज) द्वारा नाबार्ड की सहभागिता से एग्री क्लीनिक एण्ड एग्री-बिजनेस सेन्टर स्थापनार्थ प्रशिक्षण का आयोजन मैनेज नोडल संस्थान उद्यमिता विकास केन्द्र मध्यप्रदेष (सेडमैप) में किया जा रहा है। कृषि, खाद्य प्रसंस्करण एवं दुग्ध उत्पादन आधारित उद्योग व्यवसाय स्थापित करने में रूचि रखने वाले युवाओं का चयन साक्षात्कार के माध्यम से किया जायेगा, आवेदन हेतु न्यूनतम योग्यता कृषि विषय में हायर सेकन्डरी उत्तीर्ण है। कृषि विषय में उच्च शिक्षित स्नातक अथवा  स्नातकोत्तर युवाओं को प्राथमिकता दी जावेगी। दो माह के निःशुल्क रहवासीय प्रशिक्षण पश्‍चात एग्री क्लीनिक, एग्री बिजनेस सेन्टर, खाद्य प्रसंस्करण उद्योग या अन्य कृषि आधारित व्यवसाय हेतु नाबार्ड पुनर्वित्तपोशित योजनांतर्गत बैंकों के माध्यम से 20 लाख रूपये तक ऋण की सुविधा है। प्रशिक्षण हेतु आवेदकों का चयन साक्षात्कार के माध्यम से किया जायेगा जिस हेतु आवेदन की अंतिम तिथि 20 दिसम्बर 2018 है। आवेदन एवं अन्य जानकारी हेतु श्री शरद मिश्रा नोडल अधिकारी मैनेज से सेडमैप मुख्यालय 16-ए अरेरा हिल्स भोपाल में कार्यालयीन समय पर अथवा दूरभाष क्रं 0755-4000905 या मोबाईन नं 9340205525 पर संपर्क किया जा सकता है।


गांवो में भृमण कर जनता का आभार माना – में हमेशा आपकी सेवा के लिये तैयार रहूंगा-सिसोदिया

मल्हारगढ़। मल्हारगढ़ विधानसभा के कांग्रेस प्रत्याक्षी रहे परशुराम सिसोदिया ने मल्हारगढ़ विधानसभा के कई गांवों का दौरा किया व आमजनों से मुलाकात की व उन्हें धन्यवाद  व आआभार प्रकट कीया। श्री सिसोदिया ने धुँधड़का ब्लाक के कुचडोद, रातीखेड़ी, खजुरी आंजना, झावल  रातीखेड़ी, झिरकन, बड़वन, बाबरेचा सहित अनेक गांवो में पहुँचे व किसानों ,आमजनों व कांग्रेस कार्यकर्ताओं से मुलाकात कर चुनाव में जो आशीर्वाद दिया । उसके लिये क्षेत्रीय जनता का आभार व्यक्त किया।श्री सिसोदिया ने ने कहा की  की प्रदेश में कांग्रेस की सरकार बनी है ।अब किसानों का कर्जा माफ होगा व हर वर्ग के खुशहाली आएगी।में हमेशा क्षेत्र की जनता के साथ हमेशा आपके सुख दुख  खड़ा रहूंगा ।जप व जिला पंचायत निर्वाचन क्षेत्र में विकास में कोई कमी नही आने देंगे। इस दोरान सिसोदिया ने जनता का आभार व्यक्त किया।इस दौरान  मंडलम अध्यक्ष सुरेश धाकड़, सेक्टर अध्यक्ष  मनोहर कुमावत , सरपंच पुष्कर कुमावत, युवा नेता  लोकेश कुमावत, लक्ष्मीनारायन धाकड़,  घनश्याम सिह कुछड़ोद, रमेश गुर्जर, कारूलाल सोनी,  दिलीप गुर्जर, आदि नेतागण आदि मौजूद थे।
आज इन गाँवों में भ्रमण पर रहेंगे सिसोदिया 

मल्हारगढ़ विधानसभा के कांग्रेस प्रत्याक्षी रहे परशुराम सिसोदिया रविवार को संजीत ब्लाक के गांव   10, बजे ,बोतलगंज,  थडोड,  उजागरिया, बेलारा,  ढिकनिया, बाबुखेड़ा  आदि में पहुंचकर किसानो ,आमजनो ,कांग्रेस कार्यकर्ताओ का आभार व् धन्यवाद प्रकट करेंगे !


विजय दिवस 16 दिसम्बर को 1971 के युद्ध में पाकिस्तान पर भारतकी जीत के कारण मनाया जाता है। इस युद्ध के अंत के बाद 93,000 पाकिस्तानी सेना आत्मसमर्पण कर देती है।साल 1971 के युद्ध में भारत ने पाकिस्तान को करारी शिकस्त दी, जिसके बाद पूर्वी पाकिस्तान आजाद हो गया, जो आज बांग्लादेश के नाम से जाना जाता है. यह युद्ध भारत के लिए ऐतिहासिक और हर देशवासी के दिल में उमंग पैदा करने वाला साबित हुआ.
देश भर में 16 दिसम्बर को ’विजय दिवस’ के रूप में मनाया जाता है. वर्ष 1971 के युद्ध में करीब 3,900 भारतीय सैनिक शहीद हो गए थे, जबकि 9,851 घायल हो गए थे.
पूर्वी पाकिस्तान में पाकिस्तानी बलों के कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल एएके नियाजी ने भारत के पूर्वी सैन्य कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल जगजीत सिंह अरोड़ा के समक्ष आत्मसमर्पण कर दिया था, जिसके बाद 17 दिसम्बर को 93,000 पाकिस्तानी सैनिकों को युद्धबंदी बनाया गया.
युद्ध की पृष्ठभूमि साल 1971 की शुरुआत से ही बनने लगी थी. पाकिस्तान के सैनिक तानाशाह याहिया ख़ां ने 25 मार्च 1971 को पूर्वी पाकिस्तान की जन भावनाओं को सैनिक ताकत से कुचलने का आदेश दे दिया. इसके बाद शेख़ मुजीब को गिरफ़्तार कर लिया गया. तब वहां से कई शरणार्थी लगातार भारत आने लगे.
जब भारत में पाकिस्तानी सेना के दुर्व्यवहार की ख़बरें आईं, तब भारत पर यह दबाव पड़ने लगा कि वह वहां पर सेना के जरिए हस्तक्षेप करे. तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी चाहती थीं कि अप्रैल में आक्रमण किया जाए. इस बारे में इंदिरा गांधी ने थलसेनाध्यक्ष जनरल मानेकशॉ की राय ली.
तब भारत के पास सिर्फ़ एक पर्वतीय डिवीजन था. इस डिवीजन के पास पुल बनाने की क्षमता नहीं थी. तब मानसून भी दस्तक देने ही वाला था. ऐसे समय में पूर्वी पाकिस्तान में प्रवेश करना मुसीबत मोल लेने जैसा था. मानेकशॉ ने सियासी दबाव में झुके बिना प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी से स्पष्ट कह दिया कि वे पूरी तैयारी के साथ ही युद्ध के मैदान में उतरना चाहते हैं.
3 दिसंबर, 1971 को इंदिरा गांधी तत्कालीन कलकत्ता में एक जनसभा को संबोधित कर रही थीं. इसी दिन शाम के वक्त पाकिस्तानी वायुसेना के विमानों ने भारतीय वायुसीमा को पार करके पठानकोट, श्रीनगर, अमृतसर, जोधपुर, आगरा आदि सैनिक हवाई अड्डों पर बम गिराना शुरू कर दिया. इंदिरा गांधी ने उसी वक्त दिल्ली लौटकर मंत्रिमंडल की आपात बैठक की.
युद्घ् शुरू होने के बाद पूर्व में तेज़ी से आगे बढ़ते हुए भारतीय सेना ने जेसोर और खुलना पर कब्ज़ा कर लिया. भारतीय सेना की रणनीति थी कि अहम ठिकानों को छोड़ते हुए पहले आगे बढ़ा जाए. युद्ध में मानेकशॉ खुलना और चटगांव पर ही कब्ज़ा करने पर ज़ोर देते रहे. ढाका पर कब्ज़ा करने का लक्ष्य भारतीय सेना के सामने रखा ही नहीं गया.
इस युद्ध के दौरान एक बार फिर से इंदिरा गांधी का विराट व्यक्तित्व सामने आया. युद्ध के दौरान इंदिरा गांधी को कभी विचलित नहीं देखा गया.
14 दिसंबर को भारतीय सेना ने एक गुप्त संदेश को पकड़ा कि दोपहर ग्यारह बजे ढाका के गवर्नमेंट हाउस में एक महत्वपूर्ण बैठक होने वाली है, जिसमें पाकिस्तानी प्रशासन बड़े अधिकारी भाग लेने वाले हैं. भारतीय सेना ने तय किया कि इसी समय उस भवन पर बम गिराए जाएं. बैठक के दौरान ही मिग 21 विमानों ने भवन पर बम गिरा कर मुख्य हॉल की छत उड़ा दी. गवर्नर मलिक ने लगभग कांपते हाथों से अपना इस्तीफ़ा लिखा.
16 दिसंबर की सुबह जनरल जैकब को मानेकशॉ का संदेश मिला कि आत्मसमर्पण की तैयारी के लिए तुरंत ढाका पहुंचें. जैकब की हालत बिगड़ रही थी. नियाज़ी के पास ढाका में 26400 सैनिक थे, जबकि भारत के पास सिर्फ़ 3000 सैनिक और वे भी ढाका से 30 किलोमीटर दूर.
भारतीय सेना ने युद्घ पर पूरी तरह से अपनी पकड़ बना ली. अरोड़ा अपने दलबल समेत एक दो घंटे में ढाका लैंड करने वाले थे और युद्ध विराम भी जल्द ख़त्म होने वाला था. जैकब के हाथ में कुछ भी नहीं था. जैकब जब नियाज़ी के कमरे में घुसे तो वहां सन्नाटा छाया हुआ था. आत्म-समर्पण का दस्तावेज़ मेज़ पर रखा हुआ था.
शाम के साढ़े चार बजे जनरल अरोड़ा हेलिकॉप्टर से ढाका हवाई अड्डे पर उतरे. अरोडा़ और नियाज़ी एक मेज़ के सामने बैठे और दोनों ने आत्म-समर्पण के दस्तवेज़ पर हस्ताक्षर किए. नियाज़ी ने अपने बिल्ले उतारे और अपना रिवॉल्वर जनरल अरोड़ा के हवाले कर दिया. नियाज़ी की आंखों में एक बार फिर आंसू आ गए.
अंधेरा घिरने के बाद स्थानीय लोग नियाज़ी की हत्या पर उतारू नजर आ रहे थे. भारतीय सेना के वरिष्ठ अफ़सरों ने नियाज़ी के चारों तरफ़ एक सुरक्षित घेरा बना दिया. बाद में नियाजी को बाहर निकाला गया.
इंदिरा गांधी संसद भवन के अपने दफ़्तर में एक टीवी इंटरव्यू दे रही थीं. तभी जनरल मानेक शॉ ने उन्हें बांग्लादेश में मिली शानदार जीत की ख़बर दी.
इंदिरा गांधी ने लोकसभा में शोर-शराबे के बीच घोषणा की कि युद्ध में भारत को विजय मिली है. इंदिरा गांधी के बयान के बाद पूरा सदन जश्न में डूब गया. इस ऐतिहासिक जीत को खुशी आज भी हर देशवासी के मन को उमंग से भर देती है।

श्री पशुपतिनाथ मंदिर में स्वर्गीय श्रीमति कमलादेवी पति रामेश्वर जी दवे की स्मृति में 1,15,111/- रूपये संस्कृत पाठशाला हेतु भेट करने पर प्रबंध समिति द्वारा सम्मान किया।

मन्दसौर अष्टमुखी भगवान श्री पशुपतिनाथ मंदिर के स्वामित्व की संस्कृत पाठशाला में अध्ययनरत छात्रों में अध्ययन के प्रति प्रोत्साहन हेतु प्रति वर्ष परीक्षा में सर्वोच्च अंको से उत्तीर्ण प्रथम, द्वितीय एवं तृतीय छात्रों को पुरस्कृत करने हेतु प्रबंधन समिति को स्वर्गीय श्रीमति कमलादेवी पति रामेश्वर जी दवे ग्राम झावल, मन्दसौर की स्मृति में राशि रू. 1,15,111/- (एक लाख पन्द्रह हजार एक सौ ग्याराह) श्री पशुपतिनाथ मंदिर प्रबंध समिति के अध्यक्ष एवं कलेक्टर श्री ओ.पी. श्रीवास्तव को विगत दिनों भेट किये। आज दिनांक 15/12/2018 दोपहर 2ः00 बजे मंदिर प्रबंध समिति द्वारा श्री रामेश्वर जी दवे का शाल श्री फल के साथ सम्मान माननीय विधायक श्री यशपालसिंह सिसोदिया एवं मंदिर प्रबंध समिति सदस्य सर्व श्री राजेन्द्र अग्रवाल, सुशील गुप्ता, योगेश गुप्ता, ललित भारद्वाज कार्यपालन यंत्री लोक निर्माण विभाग, नायब तहसीलदार आदि अधिकारी कर्मचारीगण द्वारा किया गया। इस अवसर पर रामेश्वर दवे सेवानिवृत शिक्षक, सुरेशचन्द्र दवे, ओमप्रकाश दवे, डॉ. कैलाशचन्द्र दवे, डा. कपिलेश दवे, आशुतोष दवे, डा. हर्षित दवे, निमिष दवे, प्रबंधक राहुल रूनवाल, कृष्णवल्लभ शास्त्री, ओ.पी.शर्मा, घनश्याम भावसार, दिनेश परमार आदि उपस्थित थे।

 

About The Author

I am Brajesh Arya

Related posts