Breaking News

मंदसौर छोटी बड़ी खबरे : 21 May 2019

कलेक्टर ने किया मतगणना कक्ष का निरीक्षण

सभी अधिकारी मतगणना दायित्वो अच्छे से निर्वहन करे

मन्दसौर। कलेक्टर एवं जिला निर्वाचन अधिकारी धनराजू एस द्वारा राजीव गांधी स्नातकोत्तर महाविद्यालय में स्थित मतगणना कक्ष का औचक निरीक्षण किया गया। निरीक्षण के दौरान जिनकी ड्यूटी मतगणना कक्ष में लगी है। उन सभी अधिकारियों को निर्देश देते हुए कहा कि समय से पूर्व सभी कार्य पूर्ण कर लेवे। कार्य करने में तत्परता बरते। निरीक्षण के दौरान चारों विधानसभा क्षेत्र के सहायक रिटर्निंग ऑफिसर, इनफार्मेशन टेक्नोलॉजी के अधिकारी, लोक निर्माण विभाग के अधिकारी, नगर पालिका अधिकारी उपस्थित थे। अधिकारियों को निर्देश देतें हुवे कहा कि 23 मई को मतगणना के कार्यों में लगे सभी जिला नोडल अधिकारी सौपे गए मतगणना दायित्वों को तत्परता पूर्वक पूर्ण करें। दायित्वो के निर्वहन में कोई लापरवाही या त्रुटि ना रहे।मतगणना स्थल पर थ्री लेयर सुरक्षा व्यवस्था, मतगणना अभिकर्ताओं की नियुक्ति, प्रकाश एवं निर्बाध विद्युत आपूर्ति, मतगणना कक्षो और परिसर में बेरीगेटिंग का कार्य, मीडिया सेंटर की स्थापना, कंट्रोल रूम की स्थापना, डाटा सेंटर की स्थापना, मतगणना परिसर में बैरी केटिंग्स की व्यवस्था, मतगणना कर्मियों का रेंडमाइजेशन, मतगणना के दिन मतगणना स्थल पर कर्मचारियों के लिए चाय, नाश्ते, भोजन, पेयजल की व्यवस्था, राउंड वार मतगणना, परिणाम की उद्घोषणा की व्यवस्था, मतगणना परिणामों की टेबुलेशन की व्यवस्था, कंप्यूटराइजेशन की व्यवस्था, फोटोकॉपी व्यवस्था आदि बिंदुओं पर दिशानिर्देश दिए। मतगणना स्थल पर बगैर परिचय पत्र के कोई भी प्रवेश नहीं कर सकेगा, इसलिए उन्होंने कहा कि मतगणना कार्य मैं लगे कर्मचारी व अन्य व्यवस्थाओं में लगे कर्मचारियों को जिला निर्वाचन कार्यालय से फोटोयुक्त परिचय पत्र प्रदान किए जायगे उसे साथ रखे।


मंडी में मजदूरी को लेकर महिलाओं ने किया हंगामा

मंदसौर। मंगलवार को कृषि उपज मंडी में एक बार फिर महिलाओें ने मजदूरी बढाने की मांग को लेकर हंगामा कर दिया। मजदूरी करने वाली महिलाओं ने मंडी के तीनों दरवाजे बंद कर धरना देकर नारेबाजी करने लगी। जिसके बाद मंडी सचिव मौके पर पहुंचे और महिलाओं को समझाइश देते हुए 1 जून से मजदूरी बढ़ाने का आश्वासन दिया। जिसके बाद मामला शांत हुआ और महिलाएं काम पर लौटी।

उल्लेखनीय है कि मंडी में इससे पहले भी कई बार महिलाआंें ने अपनी मजदूरी बढ़ाने के लिए आवाज उठाई थी। एक या दो बार व्यपारियों द्वारा मजदूरी बढ़ाई भी गई थी। लेकिन मंगलवार को महिलाओं ने फिर से अपनी मांग को लेकर नारेबाजी व धरना प्रदर्शन किया। स्थिति यह थी कि महिलाएं मानने को ही तैयार नहीं थी। सचिव द्वारा उनकी बात सुनने पर भी वे नहीं दरवाजों से नहीं हट रही थी। जिसके बाद सचिव द्वारा 1 जून से मजूदरी बढ़ाने के आवश्वासन के बाद वे मानी और धरना समाप्त किया। मंडी व्यपारियों के अनुसार अभी 180 रू प्रतिदिन के हिसाब से महिलाओं को दिए जा रहे है। वहीं व्यापारी संघ द्वारा इस मामले को लेकर आगामी दिनों में बैठक की जाने की जानकारी प्राप्त हुई है।


तेंदुए के हमले से घायलो कि कांग्रेस नेताओं ने कुशल क्षेम पूछी

मल्हारगढ। नारायणगढ़ थाना क्षेत्र के फतेहपुर में सोमवार को तेंदुए के हमले से घायल व्यक्तियों से मंगलवार को जिला चिकित्सालय मन्दसौर पहुचकर उनके स्वास्थ्य की जानकारी ली व स्वास्थ्य अधिकारी से चर्चा कर घायलों को पर्याप्त स्वास्थ्य सुविधाएं उपलब्ध कराने की बात कही। इस मौके पर ब्लॉक कांग्रेस अध्यक्ष अनिल शर्मा, संजीत ब्लाक कांग्रेस अध्यक्ष शितल सिंह बोराना, कांग्रेस नेता अनिल बोराना, जीवन सिंह आंजना, विशाल आंजना आदि मौजूद थे।


बारिश पूर्व नपा ने बडे नालों की सफाई का कार्य प्रारंभ किया

मंदसौर। नपा परिषद गीष्म ़ऋतु में प्रतिवर्ष बडे नालों की सफाई का कार्य कराती है ताकि वर्षा ऋतु में सडकों पर जलभराव व गंदगी की स्थिति न बने। इस वर्ष भी जल भराव की समस्या उत्पन्न न हो। इसके लिये नपा परिषद ने तैयारीया शुरू कर दी हैं नपा परिषद ने कल मंगलवार से खानपुरा क्षेत्र प्रतापगढ पुलिया के नीचे वाले बडे नालों की सफाई का कार्य प्रारंभ किया। नपा परिषद पुराने लक्कडपीठा क्षैत्र में पम्प हाउस के पास से लेकर मटन मार्केट के यहॉ तक इस बडे नालों की सफाई करायेगी। साथ ही नपापरिषद किला नाला एवं अन्य बडे नालों की सफाई का कार्य भी करायेगी। नपा परिषद के द्वारा नालों की सफाई का कार्य प्रोक्लेन की मशीन के द्वारा प्रारंभ किया गया है साथ ही नपा परिषद नालों की सफाई के लिये जेसीबी मशीन का भी उपयोग करेगी। आगामी समय में बडे नालों की सफाई का कार्य अनवर जारी रहेगा।फोटो कं्र 1


भीषण गर्मी में पानी के अभाव में दम तोड़ते पक्षी

पक्षी बचाओं आंदोलन के तहत जल पात्र लगाने के लिये जागरूक किया जा रहा है
मन्दसौर। भीषण गर्मी का दौर चल  रहा है। गहराता जल संकट हम सबके लिये खतरे की घण्टी बजा रहा है। इंसान अपनी व्यवस्था तो कर लेता है, लेकिन मासूम परिन्दे कहाँ जाये…? पक्षियों के पेयजल के प्राकृतिक स्त्रोत, जलाशय, तालाब, बावड़ी, सब सुख चुके है। पानी के अभाव में दर-दर भटकते हुए अन्ततः दम तोड़ देते है। ऐसे में ये प्यासे परिन्दे सिर्फ हमारे ही उपर निर्भर है। हमारा एक छोटा सा प्रयास इन बेजुबाँ  पक्षियों को बचा सकता है। हम अपने घर की छत पर, पेड़ के नीचे पक्षियों के लिये एक जल पात्र रखे, जिससे पक्षी अपनी प्यास बुझा सके। कहीं ऐसा न हो, कि हमारी आने वाली पीढ़ी इन मनमोहक परिन्दों को देखने के लिये तरस जाये ?
गायत्री परिवार के कार्यकर्ता जगदीश पोरवाल द्वारा शुरू किये गये पक्षी बचाओं आंदोलन में कई संगठन जुड़ चुके है। कई समाजसेवी प्यासे पक्षियों के लिये घर-घर जाकर जल पात्र बांट रहे है। जल पात्र लगाने के लिये लोगों को जागरूक किया जा रहा है। आप सबसे निवेदन करते है, कृपया पक्षियों के लिये अपने घर की छत पर एक जल पात्र अवश्य रखे। प्राणी मात्र की सेवा ही सबसे बड़ा धर्म है।

About The Author

I am Brajesh Arya

Related posts