Breaking News

मंदसौर छोटी बड़ी खबरे : 27 Sep 2019

फैक्ट्री श्रमिक की हार्ट अटैक से मौत

मंदसौर। स्थानीय बड़ी होली शहर निवासी ईश्वरलाल पिता हीरालाल जोशी 28 वर्ष जो कि आरआरबी में श्रमिक थे। जिन्हें फैक्ट्री में कार्य करते समय अटैक आने से उनकी मृत्यु हो गई। अस्पताल पुलिस चौकी ने पीएम करवाकर शव परिजनों को सौंप दिया।


बारिश के बाद फसलों को दो दिन से धूप निकलने पर मिली थी राहत

शुक्रवार को हुई तेज बारिश ने फिर सब चौपट कर दिया

मंदसौर। उफान पर आई नदियों और तेज बारिश ने जहां जिले की करीब पांच हजार बीघा की फसलों को बर्बाद कर दिया, वहीं नदियों से दूर स्थित खेतों में इल्ली व कीड़ों का प्रकोप बढ़ गया है। नतीजन सोयाबीन-उड़द की फसलें टूटकर खेतों में ही गिरने लगी है। फसलों को बचाने किसानों ने तरह-तरह के प्रयास किए, लेकिन सभी प्रयास बेअसर हैं। इससे किसान फसलों को टूटता देखकर चिंतित हैं और जिले में नुकसान का आंकड़ा बढ़ता जा रहा है।

कीटनाशक दवाओं का छिड़काव कर चुके
इल्ली और कीड़े सोयाबीन-उड़द के पौधों को काट रहे हैं, इससे बीच में से पौधे टूटकर गिर रहे हैं। किसानों का कहना है कि सुबह जब वह खेतों में जाकर देखते हैं तो पौधे बीच में से कटे हुए मिलते हैं और कटा हुआ हिस्सा नीचे ही पड़ा मिलता है। किसानों के मुताबिक फसलों को बचाने के लिए कई बार कीटनाशक दवाओं का छिड़काव कर चुके हैं लेकिन तेज बारिश हो जाने से दवाएं बह जाती है और उनका असर खत्म हो जाता है।

किसान शंकरलाल ने बताया कि दो बार कीटनाशक दवाओं का छिड़काव किया और दवाओं पर 50 हजार रुपए से अधिक खर्च हो गए, लेकिन फसलों का टूटना नहीं रुक रहा है। वहीं कृषि विभाग द्वारा रोज नई-नई दवाएं बता दी जाती हैं और फसलों में दवाओं का असर नहीं हो पा रहा है।

हर साल से अच्छी थी फसलें, नुकसान ने बढ़ाई चिंता- किसानों का कहना है कि इस बार पर्याप्त मात्रा में धूप और पानी मिलने से उड़द-सोयाबीन की फसलें पिछले वर्षों की तुलना में सबसे अच्छी थीं। लेकिन ज्यादा बारिश की वजह से फसलों में शुरु हुआ नुकसान अब किसानों की चिंताएं बढ़ाने लगा है।

पानी भरा रहने से यहां गलकर खराब हो रहीं फसलें- शहर के नजदीक के कई गांवों सहित जिले के ज्यादातर गांवों में खेतों में पानी भरा हुआ है। कई दिन से पानी में डूबे रहने से अब फसलें गलकर खराब होने लगी हैं। किसानों का कहना है कि कई बार खेतों से पानी निकाला गया, लेकिन बारिश होते ही फिर से पानी भर जाता है।

शुक्रवार को हुई फिर तेज वर्षा
दो दिन से हल्की बारिश तो हो रही थी। लेकिन पर्याप्त धूप ने फसलों को कुछ हद तक राहत जरूर दी थी। लेकिन शुक्रवार की दोपहर में एक बार फिर तेज बारिश मंदसौर नगर में हुई और फसलों को जो राहत मिली थी वह सब चौपट हो गई।


लगातार जारी है खाद्य एवं औषधि विभाग की कार्यवाही

दो दिनों में लिए विभिन्न खाद्य संस्थानोें से सेम्पलचार संस्थानों के नमूने अवमानक पाये गये

मंदसौर। खाद्य एवं औषधि विभाग की टीम द्वारा जिले भर में लगातार कार्यवाहियां की जा रही है। कलेक्टर मनोज पुष्प के मार्गदर्शन में विभाग द्वारा सभी खाद्य संस्थानों को स्वच्छता बनाए रखने के भी स्पष्ट निर्देश दिए जा रहे है।

खाद्य एवं सुरक्षा अधिकारी कमलेश जमरा ने बताया कि बुधवार 26 एवं 27 सितम्बर को मंदसौर नगर के खाद्य संस्थानों पर कार्यवाही की गई।
श्री जमरा ने बताया कि खाद्य सुरक्षा प्रशासन मंदसौर द्वारा खाद्य पदार्थो में हो रही मिलवाट खोरी को रोकने के लिए लगातार कार्यवाही जारी है। विभाग द्वारा विगत तीन दिनों से विभिन्न खाद्य संस्थानों व निर्माताओं के यहां पर औचक निरीक्षण कर खाद्य पदार्थो के नमूने जांच हेतु लिये गये।

जिसके अंतर्गत 26 सितम्बर को पिपलियामंडी में कार्यवाही करते हुए अनमोल प्रोडक्ट नया बस स्टेण्ड से गाय का घी, कैलाशचन्द्र बंशीलाल मनासा रोड़ से श्रीमंत घी, पटेल ब्रदर्स से मोरधन एवं हेमन्त ट्रेडर्स महावीर गंज से ईजन सरसों तेल के सेम्पल लिए गए है। वहीं 27 सितम्बर को कार्यवाही करते हुए विभाग ने मंदसौर नगर के पुराने बस स्टेण्ड पर स्थित दिल्ली दरबार नॉनवेज रेस्टोरेन्ट से आलारोट तथा मिर्च पाउडर एवं दावत नानवेज पाइंट से सोयाबीन तेल के सेम्पल जब्त किए गए है। वहीं नेहरू बस स्टेण्ड स्थित बालाजी नमकीन से सेंव का सेम्पल लिया गया है। सभी संस्थानों को अपने यहां स्वच्छता बनाए रखने के स्पष्ट निर्देश दिए गए है। उक्त सभी सेम्पल राज्य प्रयोगशाला भोपाल भेजे जायंेगे। जांच रिपोर्ट आने पर नियमानुसार कार्यवाही की जाएगी। श्री जमरा ने बताया कि निर्देशानुसार आगे भी लगातार कार्यवाही जा रहेगी।

जांच रिपोर्ट में चार नमूने अवमानक पाए गए
श्री जमरा ने बताया कि मप्र शासन के शुद्ध के लिए युद्ध अभियान के अंतर्गत खाद्य सुरक्षा प्रशासन द्वारा संपूर्ण जिले से विभिन्न खाद्य पदार्थो के कुल 48 नमूने लिये गये थे, जिन्हे जांच हेतु राज्य खाद्य परीक्षण प्रयोगशाला भोपाल भेजा गया था, जिनमें से अभी तक 14 नमनों की रिपोर्ट कार्यालय से प्राप्त हुई है, जिनमें में से 4 नमूने अवमानक पाये गये है जिनमें दूध फेरीवाला राजेश पाटीदार बालागुढा से गाय के दूध का सेम्पल, होटल रितुवन स्टॉफ केन्टीन नाहटा चौराहा से पनीर का सेम्पल, होटल स्काई हेवन नईआबादी मंदसौर से दही का सेम्पल तीनों में फेट कम पाये जाने पर अवमानक पाये गया। वहीं नेहा स्वीट्स सीतामउ से राधे बर्फी में ईडीबल आईल का मेंशन नहीं होने के कारण मिथ्याछाप पाया गया। श्री जमरा ने बताया कि उक्त सभी को खाद्य सुरक्षा एवं मानक अधिनियम 2006 की धारा 46(4) के अंतर्गत सूचना पत्र भेजा गया है, यदि वे उक्त जांच रिपोर्ट से सहमत नहीं है तो पत्र प्राप्ति के 30 दिवस के अंदर नमूना जांच हेतु केन्द्रीय प्रयोगशाला मैसूर या पूर्ण भेजने हेतु अपील कर सकते है। उक्त अवधि में अपील नहीं कियेे जाने की स्थिति में प्रकरण तैयार कर न्यायालय में अतीशीघ्र प्रस्तुत किये जायेंगे।


परिस्थितियों नही मन स्थिति बदले- साध्वी डॉ सुभाषाजी मसा

मंदसौर। जीवन में यदि हमारे अनुकुल कोई कार्य नही हो तो मन की प्रसन्नता समाप्त हो जाती है। जीवन में दुखो का मुल कारण है कि हम अपने को नही दूसरों को बदलना चाहते है। सर्वप्रथम जीवन में प्रसन्न रहने का मंत्र है परिस्थितियों नही मन स्थिति बदले।

उक्त उद्गार डॉ सुभाषाश्रजी मसा ने कहे। आपने शकु्रवार  को शास्त्री कॉलोन स्थित जैन दिवाकर भवन में आयोजित धर्मसभा में कहा कि जब परिस्थितियों को बदले और जीवन में प्रसन्नत रहने का प्रयास करे। आपने कहा कि जो परिस्थितियों एक दिन बाद बदलने वाली है उसके लिये कभी दुखी न रहे जैसे यदि मन मुताबिक खाना न मिला हो तो दुखी न हो जो मिले उसे प्रसन्नता से ग्रहण करो यह विचार करो कि यह मेरा अंतिम आहार नही है। 8-10 धंटे के बाद पुन अच्छा आहार मिल जायेगा। आपने कहा कि थोडा सी धन की हानि होने पर दुखी मत होने जैसे कुछ वस्तु नीचे गिरने से टुट गयी तो मन खराब न करे। जो  वस्तु आयी है वह कभी न  कभी नष्ट होनी ही थी  यह विचार करे। आपने यह भी  कहा कि अधिक गर्मी, वर्षा या ठण्ड के कारण खराब मन खराब मत कीजिये। क्योकि मौसम में बदलाव प्रकृति का नियम है। सदैव अनुकुल मौसम रहे यह जरूरी  नही हे इसलिये प्रतिकुल मौसम में भी प्रसन्नता रहना सीखे। आपने कहा कि यदि कही परिस्थिति नही बदल सकती तो आप अपनी मन स्थिति बदलो जैसे बार बार प्रयत्न करने पर भी कोई आपकी बात नही मान रहा है तो दुखी होने की बजाय उस परिस्थितियों को समझो और उसी परिस्थितियों के अनुसार प्रसन्न रहने की कोशिश करो।


घर में घुसकर मारपीट करने वाले समधी-समधन को 2-2 वर्ष का कठोर कारावास

नीमच। श्री महेश कुमार त्रिपाठी, न्यायिक दण्डाधिकारी प्रथम श्रेणी, नीमच द्वारा समधी-समधन द्वारा घर में घुसकर महिला व उसके बेटे के साथ मारपीट करने के आरोप का दोषी पाकर कुल 2-2 वर्ष के कठोर कारावास एवं 1,500-1,500रू. जुर्माने से दण्डित किया।

श्री आकाश यादव, एडीपीओ द्वारा घटना की जानकारी देते हुए बताया कि घटना लगभग 03 वर्ष पुरानी होकर दिनांक 06.07.2016 को शाम 7 बजे ग्राम-मालखेड़ा की हैं। फरियादीया मनोजबाई के लडके गणपत का विवाह 6 वर्ष पूर्व आरोपीगण दुलीसबाई व उसका पति भोनिया पारदी की लडकी से हुआ था, पत्नि से परेशान होकर गणपत ने घटना के 3 माह पूर्व समाज की बैठक में तलाक दे दिया था, तब से आरोपीगण, आहतगण से रंजीश रखते थे। जिस कारण घटना दिनांक को शाम के समय मनोसबाई व उसका लडका गणपत घर पर खाना बना रहे थे, तभी आरोपीगण शराब पीकर आये और मनोसबाई के घर में घुसकर लकडी से मारपीट की, जब बेटे गणपत ने बीच-बचाव करना चाहा तो आरोपीगण ने उसके साथ भी मारपीट की। चिल्लानें की आवाज सुनकर उसके पड़ोसी महेश ने आकर बीच-बचाव किया, फिर आरोपीगण वहॉ से चले गये। फरियादीया ने अगले दिन घटना की रिपोर्ट पुलिस थाना नीमच सिटी पर की, जिस पर से अपराध क्रमांक 348ध्16, धारा 452, 323ध्34 भादवि का पंजीबद्व हुआ। पुलिस नीमच सिटी द्वारा फरियादीया व उसके बेटे गणपत का मेडिकल कराकर, शेष विवेचना पूर्णकर चालान नीमच न्यायालय में पेश किया।

श्री आकाश यादव, एडीपीओ द्वारा न्यायालय में विचारण के दौरान फरियादीया, उसके बेटे गणपत व चश्मदीद सहित सभी आवश्यक गवाहों के बयान न्यायालय में कराकर अपराध को प्रमाणित कराकर दण्ड के प्रश्न पर तर्क दिया कि आरोपीगण द्वारा फरियादीया व उसके बेटे के साथ घर में घुसकर मारपीट कर गंभीर अपराध किया हैं, जिसकोे देखते हुए उन्हें कठोर दण्ड से दण्डित किये जाये। श्री महेश कुमार त्रिपाठी, न्यायिक दण्डाधिकारी प्रथम श्रेणी, नीमच द्वारा आरोपीगण (1) दुलीसबाई पति भोनिया पारदी, उम्र-40 वर्ष तथा (2) भोनिया पिता नर्भयसिंह पारदी, उम्र-43 वर्ष, दोनों निवासी ग्राम-मालखेड़ा, थाना नीमच सिटी, जिला नीमच को धारा 452 भादवि में 1-1 वर्ष के कठोर कारावास व 500-500रू. जुर्माने एवं 323ध्34 भादवि में दोनो आहतगण के साथ मारपीट किये जाने हेतु 6-6 माह के कठोर कारावास व 500-500रू. जुर्माना, इस प्रकार कुल 2-2 वर्ष के सश्रम कारावास व 1,500-1,500रू. जुर्माने से दण्डित किया, साथ ही आहतगण को 1,000-1,000रू. प्रतिकर प्रदान करने का आदेश भी पारित किया। न्यायालय में शासन की ओर से पैरवी श्री आकाश यादव, एडीपीओ द्वारा की गई।


राइफल शूटिंग में बालिका वर्ग में राज्य स्तरीय प्रतियोगिता के लिए चयन

मंदसौर। राज्य स्तरीय राइफल शूटिंग प्रतियोगिता भोपाल में आयोजित की जा रही जिसमें सभी संभाग प्रतिनिधित्व करेंगे जिसमें मंदसौर जिले से पहली बार 19 वर्षीय बालिका वर्ग में मंदसौर सेंट थॉमस विद्यालय कक्षा बारहवीं की छात्रा भूमिका वर्मा पिता देवेंद्र वर्मा (पीएचई विभाग अकाउंटेंट) का चयन राइफल शूटिंग प्रतियोगिता हेतु हुआ पूरे संभाग से सीनियर वर्ग में 5 बालिका का चयन हुआ  जिसमें मंदसौर जिले से भूमिका उज्जैन संभाग का प्रतिनिधित्व करेगी । यह जानकारी एनसीसी अधिकारी एवं राइफल शूटिंग कोच जितेंद्र कनौजिया ने दी।


नवरात्रि में रामचरित मानस का नवान्ह पारायण पाठ का आयोजन

मन्दसौर। श्री केशव सत्संग भवन खानपुरा ट्रस्ट अध्यक्ष जगदीशचन्द्र सेठिया ने प्रेस विज्ञप्ति में बताया कि केशव सत्संग भवन खानपुरा में कल 29 सितम्बर, रविवार से प्रतिदिन प्रातः 8 बजे से नवरात्र अनुष्ठान के अंतर्गत सामूहिक श्री राम चरित मानस (रामायण) का नवान्ह पारायण पाठ होगा।  ट्रस्ट अध्यक्ष जगदीशचन्द्र सेठिया, उपाध्यक्ष राधेश्याम गर्ग, जयप्रकाश गर्ग, सचिव कारूलाल सोनी, सहसचिव प्रवीण देवड़ा, कोषाध्यक्ष मदनलाल गेहलोद, न्यासीगण सत्यनारायण गर्ग, बंशीलाल टांक ने सभी धर्मालुजनों से लाभ लेने का अनुरोध किया है।


मुस्लिम राष्ट्रीय मंच में पदाधिकारियों की नियुक्तियां

मन्दसौर। मुस्लिम राष्ट्रीय मंच के मंदसौर जिला संयोजक श्री आदिल हसन अंसारी ने  सादिक हुसैन कुरेशी को मुस्लिम राष्ट्रीय मंच के तहसील संयोजक शामगढ़, मोहम्मद शाकिर खान को नगर संयोजक शामगढ़ एवं जनाब अजीज मंसूरी को जिला मंत्री मंदसौर के पद पर नियुक्त किया गया।

यह नियुक्ति मुस्लिम राष्ट्रीय मंच के मध्य प्रदेश के प्रभारी, राष्ट्रीय सहसंयोजक एवं राष्ट्रीय पर्यावरण सेल के केंद्रीय प्रमुख मोहम्मद फारुक खान के निर्देशानुसार और मुस्लिम राष्ट्रीय मंच के उज्जैन संभाग के प्रभारी सैयद एजाज अली उर्फ अज्जू भाई की सहमति से की गई।


शनि मंदिर पर आयुर्वेदिक कॉलेज ने उपचार शिविर लगाया

102 लोगों का परीक्षण, 320 लोगों ने पीया काढ़ा

मंदसौर। शहर में बाढ़ की आपदा के बाद बढ़ रही स्वास्थ्य समस्याओं को लेकर मंदसौर आयुर्वेदिक कॉलेज द्वारा शनि मंदिर पर एक निरूशुल्क उपचार एवं दवा वितरण शिविर का आयोजन किया गया इस शिविर का सैकड़ों लोगों ने लाभ उठाया। आयुर्वेदिक कॉलेज द्वारा जारी विज्ञप्ति में बताया गया कि डायरेक्टर सोमिल नाहटा के मार्गदर्शन में शनि मंदिर पर एक शिविर लगाकर मरीजों का निरूशुल्क उपचार किया गया और दवाएं वितरण की गई।

शिविर में 102 मरीजों ने अपना उपचार करवाया एवं करीब 320 मरीजों को विशेष जड़ी बूटियों से निर्मित काढ़ा वितरण किया गया, जो रोग प्रतीधात्मक क्षमता को बढ़ाता है। शिविर में डॉ एसएस शर्मा, डॉ. पीपी नायर, डॉ. शैलेश, डॉ. गुरमीत एवं डॉ. मनीषा ने सेवाएं दी। शनि मंदिर जाने वाले श्रद्धालुओं एवं आसपास के रहवासियों ने इस शिविर का लाभ उठाया।


वरिष्ठ मीसाबंदी दिवंगत श्री मरच्या की स्मृति में परिजनों ने बनाया 10 लाख की राशि से चेरिटेबल ट्रस्ट

परिवार नहीं करेगा मृत्यु भोज, विभिन्न संस्थाओं में भेंट की दानराशि

मन्दसौर। भाजपा के वरिष्ठ नेता, वरिष्ठ मीसाबंदी एवं वरिष्ठ अभिभाषक व समाजसेवी मोहनलाल मरच्या के स्वर्गवास पर मृत्युभोज का त्याग करते हुए मरच्या परिवार ने समाज के लिये मिसाल कायम की। इसके साथ ही मरच्या परिवार ने श्री मरच्या की स्मृति में 10 लाख का चेरिटेबल ट्रस्ट बनाये जाने की घोषणा भी की। इस राशि से प्राप्त होने वाले ब्याज से शिक्षा, स्वास्थ्य सहित अन्य सेवा प्रकल्पों को आयोजित किया जाएगा।
श्री मोहनलाल मरच्या के पुत्र शैलेन्द्र मरच्या एवं देवेन्द्र मरच्या एडवोकेट द्वारा 11 हजार रू. की राशि सेवा भारती के माध्यम से बाढ़ पीडि़तों के लिये भी प्रदान की। इसके साथ ही अपना घर, तोप वाले बालाजी कोर्ट परिसर, रामेटकरी स्थित श्री वटेश्वर महादेव मंदिर, गौपालकृष्ण गौशाला, श्री उद्योगपति बालाजी में भी 5-5 हजार रू. की राशि प्रदान की।

उल्लेखनीय है कि श्री मोहनलाल मरच्या ने अपनी धर्मपत्नी स्व. श्रीमती राधादेवी मरच्या की  स्मृति में भी 21 लाख रू. की राशि से चेरिटेबल ट्रस्ट निर्मित किया था। इस 21 लाख रू. की राशि के ब्याज से प्रतिवर्ष निर्धन, जरूरतमंद, छात्रों, रोगियों की मदद हेतु खर्च किया जाता है। श्री मोहनलाल मरच्या गरीबों की मसीहा थे। उनका उद्देश्य रहा है कि जीवन में इस समाज से हमने जो कुछ भी कमाया है उसका उपयोग सिर्फ अपने लिये व अपने परिवार के लिये ही सीमित नहीं हो बल्कि कमाएं हुए धन को खुले दिल से समाज के लिये खर्च करना उनका उद्देश्य था। ऐसे आदर्श पुरूष एवं कुशल व्यक्तित्व के धनी श्री मरच्या के जीवन शैली से सभी को प्रेरणा लेना चाहिए।


नाटय मंचन कर चेताया प्री वेडिंग के दुष्परिणामो से

अग्रसेन जयंती समारोह में रंगारंग सांस्कृतिक उत्सव के साथ द्वितीय दिवस का शुभारंभ

मंदसौर । महाराजा अग्रसेन जी की जन्म जयंती के अवसर पर अग्रवाल समाज देशी पंचायत के तत्वाधान में अग्रसेन मांगलिक भवन में आयोजित सांस्कृतिक संध्या के द्वितीय दिवस अग्र उत्सव महिला क्लब ने प्री वेडिंग के दुष्परिणामों पर आधारित नाटय प्रस्तुति करते हुए समाज को एक सन्देश दिया । शादी समारोह में बढ़ते व्यंजनों पर रोकथाम को लेकर भाषण प्रतियोगिता हुई,  जिसमे भी सभी प्रतिभागियों ने कम से कम  व्यंजन बनाने और इतना ही लो थाली में झूठा नही जाए नाली में यह स्लोगन काफी प्रभावी रहा साथ ही वाद विवाद प्रतियोगिता में आजकल बच्चो को बाहर भेजने की होड़ में परेशान होते माता- पिता पर पक्ष विपक्ष में  बच्चो ने खूब दाद बटोरी। समारोह का शुभारंभ समारोह पूर्वक हुआ जिसमें विभिन्न प्रतियोगिताओं का आयोजन हुआ।समारोह समाजसेवी श्रीमती किरण नंदकिशोर अग्रवाल, श्रीमती सरिता अग्रवाल, श्रीमती अर्चना गुप्ता, श्रीमती अहिल्या अग्रवाल, श्रीमती ममता विमल अग्रवाल, श्रीमती रेखा गर्ग, श्रीमती सुनीला कबाड़ी, श्रीमती मंजू गोपाल  गर्ग,श्रीमती कविता प्रवीण गुप्ता,  के मुख्य आतिथ्य में सम्पन्न हुआ। समारोह की अध्यक्षता  समाज अध्यक्ष नरेंद्र  अग्रवाल ने की।

इस अवसर पर महिला मंडल अध्यक्ष भारती अग्रवाल,नवयुवक मंडल अध्यक्ष मयंक मित्तल एवं गर्ल्स क्लब अध्यक्ष  निमिषा गर्ग भी मंचस्थ थी।समारोह को संबोधित करते हुए अतिथियों ने कहा कि प्रतिभाओं की कमी नहीं उन्हें केवल मंच की आवश्यकता होती है ऐसे में महाराज अग्रसेन जी जन्म जयंती के अवसर पर मंच प्रदान करने का काम अग्रवाल समाज करता है। जहां सभी प्रतिभाएं पारिवारिक वातावरण में अपनी कला को निखारता है।

About The Author

I am Brajesh Arya

Related posts