Breaking News

मंदसौर छोटी बड़ी ख़बरे : 12 Jun 2019

मंदसौर जिले में विधुत आपूर्ति मे आ रही बाधाओ को तत्काल दूर करे

जिला कांग्रेस का प्रतिनिधि मंडल अधीक्षक यंत्री से मिला

मंदसौर। मानसून पूर्व से मंदसौर नगर सहित ग्रामीण क्षेत्रो में घोषित एवं अघोषित विघुत कटौत्री को गंभीरता से लेते हुये जिला कांग्रेस का प्रतिनिधि मंडल विघुत विभाग के अधीक्षक यंत्री श्री मनोज शर्मा से मिल इस मामले में आमजन को आ रही कठिनाईया से अवगत कराते हुये विभागीय स्तर पर निराकरण हेतु किये जा रहे उपायो से अवगत हुये।

जिला कांग्रेस अध्यक्ष श्री प्रकाश रातडिया ने प्रतिनिधि मंडल की ओर से अधीक्षक यंत्री को बताया कि प्राकृतिक कारणो से विघुत आपूर्ति में बाधा आना स्वभाविक है लेकिन अनेक स्थानो पर बिना किसी कारण के विघुत काटे जाने की सूचनाये लगातार मिल रही है जो चिंताजनक है। श्री रातडिया ने मानव जनित कारणो एवं उपकरण खराबी सहित अनेक बिंदुओ के आधार पर विघुत आपूर्ति में आ रही बाधाओ पर चिंता के साथ ही आक्रोश प्रकट करते हुये तत्काल व्यवस्था मे सुधार करने का आग्रह किया।

प्रदेश कांग्रेस उपाध्यक्ष श्री राजेन्द्रसिंह गौतम ने अधीक्षक यंत्री से विघुत विभाग के कर्मचारियो की आ रही शिकातो को गंभीरता से लेने का आग्रह किया। युवा कांग्रेस समन्वयक श्री सोमिल नाहटा, शहर ब्लॉक कांग्रेस अध्यक्ष श्री मोहम्मद हनिफ शेख ने मंदसौर शहर सहित आसपास के क्षेत्रो में विघुत कटौत्री के मामलो में गंभीरता से  कार्यवाही करने को कहा।

इस दौरान अधीक्षक यंत्री श्री मनोज शर्मा ने विभाग की तरफ से विघुत आपूर्ति को हर संभव सूचारू बनाये रखने हेतु प्रतिनिधि मंडल को आश्वस्त किया।

इस अवसर पर प्रदेश कांग्रेस सचिव तरूण खिंची, कार्यवाहक जिला कांग्रेस अध्यक्ष श्री शाकेरा खेडीवाला, मल्हारगढ ब्लॉक कांग्रेस अध्यक्ष श्री अनिल शर्मा, जिला कांग्रेस प्रवक्ता सुरेश भाटी, श्री अनिल बौराना, श्री अनिल शमा पिपलिया, पूर्व पार्षदगण श्री शेलेन्द्र बघेरवाल, श्री संजय सोनी, यूसूफ खेडीवाला, जिला कांग्रेस कार्यालय प्रभारी श्री रमणीक पोखरना, जिला कांग्रेस संगठन मंत्री श्री मोहम्मद खलिल शेख, युवा नेता मुर्तजा घडियाली, एडव्होकेट श्री दिलीप देवडा सहित बडी अनेक कांग्रेसजन उपस्थित थे।


दो दिवसीय राष्ट्रीय कराते स्पर्धा 15 से मंदसौर में, विभिन्न प्रांतो की टीमे करेगी सहभागिता

मंदसौर। मिक्स मार्शल आर्ट संघ मंदसौर द्वारा दो दिवसीय राष्ट्रीय कराते स्पर्धा का आयोजन आगामी 15 जून से मंदसौर में चंद्रपुरा स्थित भगवातन श्री पशुपतिनाथ अतिथिगृह में किया जायेगा। इस स्पर्धा में भारत के विभिन्न प्रांतो की टीमे सहभागिता करते हुये खेल कौशल का प्रदर्शन करेगी।

यह जानकारी देते हुये राष्ट्रीय कराते फेडरेशन ऑफ इंडिया के मिडीया प्रभारी सुरेश भाटी ने बताया कि आयोजन की तैयारियां लगातार जारी है। इस आयोजन का वृहद रूप देेने हेतु मार्शल आर्ट ऐकेडमी के संचालक श्री गगन कुरील के नेतृत्व में विभिन्न प्रांतो के खिलाडियो एवं कोचो से संपर्क साधा जा चुका है जिसमें से महाराष्ट्र, यूपी, छत्तीसगढ आदी अनेक प्रांतो से खिलाडियो के सहभागिता करने की सहमति प्राप्त हो चुकी है। प्रतियोगिता में सहभागिता करने वाले खिलाडी बच्चो के लिये भोजन एवं आवास व्यवस्था हेतु संस्था पदाधिकारियो को दायित्व सौपा जा चुका है।

श्री भाटी ने बताया कि  स्पर्धा का शुभारंभ आगामी 15 जून को होगा जिसमें क्षेत्र के जनप्रतिनिधिगण सहभागिता करेगे, प्रतियोगिता का समापन द्वितीय दिवस 16 जून को सायं पुरस्कार वितरण के साथ होगा जिसमें मध्यप्रदेश शासन के अनेक जनप्रतिनिधिगण एवं क्षेत्रीय नेतागण सहभागिता करेगे।


गंगा कोई साधारण सरिता नहीं हमारी पूज्य माँ है और जल साधारण जल नहीं साक्षात अमृत है- पूज्य डॉ. नारायण चैतन्यजी महाराज

श्री रिषीयानन्द आश्रम में मनाया गया गंगा दशमी पर्व

मन्दसौर। गंगा अवतरण दिवस गंगा दशमी पर्व तेलिया टेंक स्थित श्री ऋषियानन्द आश्रम पर वृन्दावन श्री वामदेव पीठ वृन्दावन के पूज्य संत डॉ. नारायण चैतन्यजी महाराज के सानिध्य में मनाया गया। प्रारंभ में गंगा मंदिर में मॉ गंगा के श्रीविग्रह का पूजन, अभिषेक, आरती की गई।

डॉ. नारायण चैतन्यजी महाराज ने गंगा मंे जिस प्रकार भागीरथ की कठिन तपस्या से प्रसन्न होकर स्वर्ग से ब्रह्मा के कमण्डल में और वहां से शिवजी की जटा में प्रवेश किया और फिर वहां से धरती पर पर्दापण होने की कथा सुनाते हुए कहा कि गंगा अन्य नदियों की तरह साधारण सरिता न होकर हमारी पूज्य माँ है और गंगा जल साधारण जल न होकर साक्षात अमृत तुल्य है जो वर्षों तक  पात्र में भरा रहने पर भी कभी बिगड़ता नहीं, खराब नहीं होता, समाप्त नहीं होता। शुद्ध और पवित्र बना रहता है। गंगा जल खराब न होने का कारण की वैज्ञानिक हमेशा खोज करते रहे है परन्तु इसका पता अभी तक नहीं लगा पाये है।

यह पावन भारत भूमि है जहां गीता, गंगा और गायत्री को पुस्तक, नदी, मूर्ति न समझकर जन्मदात्री पूज्य मॉ के समान पालन पोषण करने वाली मॉ ही माना गया है।

आपने कहा कि अच्छे बुरे व्यक्ति की पहचान उसकी आँखों से हो जाती है। आंखे वह आयना है जो झूठ बोलने वाले की तथा सच बोलने वाले की पहचान करा देती है।

आपने कहा कि जीवन में चाहे कैसी भी भूल हो जाये पत्नी को पति से और पति को पत्नी से कभी नहीं छुपाना चाहिये। इससे दम्पत्ति में परस्पर प्रेम व स्नेह बना रहता है।

आपने कहा कि गीता के अनुसार अन्तकाल में जो जिस भाव को स्मरण करता हुआ शरीर त्यागता है, अगले जन्म में उसे वैसा ही शरीर प्राप्त होता है। इसलिये अभ्यास यह होना चाहिये कि हमेशा जीवन में अच्छे दृश्यों, अच्छे प्रसंगों का और सर्वोपरी भगवन नाम का स्मरण होते रहना चाहिए, जो अन्त समय में काम आये।

महेश गेहलोद ने मधुर स्वर से मॉ गंगा पर रचित रिषियानन्दजी का प्रसिद्ध स्तुति भजन- ‘‘मॉ गंगा लहर बही कैसे धीरे-धीरे’’ सुनाया।

संचालन सचिव ओमप्रकाश सोनी ने किया आभार अध्यक्ष ओमप्रकाश पोरवाल ने माना। अंत में प्रसादी भण्डारा हुआ जिसमें बड़ी संख्या में उपस्थित होकर श्रद्धालुओं ने प्रवचन और प्रसाद का लाभ लिया।

उल्लेखनीय है कि गंगा ब्रह्मनिष्ठ सिद्धसंत स्वामी रिषियानन्द सद्गुरू देव की ईष्ट रही है। वे गंगा के परम् उपासक थे। वरिष्ठजनों के अनुसार भगवान द्वारा पोस्टमेन बनकर डाक बांट ने के प्रसंग पर तत्काल मंदसौर से पोस्टमेन के पद को त्यागकर ग्रहस्थाश्रम को छोड़कर आपने चुपचाप कई वर्षों तक एकान्त में गंगा किनारे रहकर कठिन तपस्या की। गंगाजी एक प्रकार से उनके लिये जन्म देने वाली मॉ से बढ़कर थी। स्वामीजी ने स्वयं अपने जीवन की एक सच्ची घटना सुनाते हुए कहा था कि इस एक बार तीन संतों के साथ प्रातः जंगल में भ्रमण और सत्संग करते हुए गंगा से बहुत दूर निकल गये और रास्ता भटक गये। मध्यान्ह को सूर्य की तपन और दूसरी तरफ भूख प्यास से जब व्याकुल हो गये और जब कोई आसरा न दिखा, मीलो तक कहीं कोई बस्ती अथवा गांवों का नामोनिशान नहीं था, चलना भारी पड़ रहा था तब उस घोर जंगल में दूर से उनको पीछे से दोड़ती हुई एक माई आई की रूकने के लिये आवाज आई। वह हाफती हुई उनके पास आई उसके सिर पर टोपले में मोटी-मोटी बाजरे की रोटियां और कोंदों (एक प्रकार की सब्जी) तथा हंडिया में ताजा मट्ठा भरा हुआ था। वह सब संतों को परोसकर जिधर से आई उधर चल पड़ी और देखते ही देखते ही आंखों से औंझल हो गई। किसी को पता नहीं चला कि वह कहां से आई थी और कहां चली गई। तब स्वामीजी ने कहा कि वह मॉ और कोई नहीं थी, साक्षात गंगा मॉ थी जो हमारे कष्ट को देखकर प्रकट हो गई। वास्तव में इस घटना पर किसी को अविश्वास भी नहीं होना चाहिए क्योंकि महापुरूष कभी मिथ्या भाषण नहीं करते इसके पीछे जैसा कहा है ‘‘विश्वासम् फलदायकम्’’ जहां सच्ची श्रद्धा, भक्ति और विश्वास होता है वहां भक्त प्रहलाद को बचाने की तरह नरसिंह रूप में भगवान जड़ खम्बे में से भी प्रकट हो जाते है। शर्त यही है कि हमारी लगन और प्रेम श्रद्धा विश्वास अटूट होना चाहिए।

उपस्थित रहे- ट्रस्ट अध्यक्ष ओमप्रकाश पोरवाल, उपाध्यक्ष डॉ. रविन्द्र जोशी सचिव ओमप्रकाश सोनी, सहसचिव मास्टर भेरूलाल पाटीदार, कोषाध्यक्ष कन्हैयालाल सोनी, ट्रस्टीगण राजेश पोरवाल, भेरूलाल पाटीदार, जेठालाल चंदवानी, बंशीभाई चंदवानी, अशोक पाठक, काशीभाई चंदवानी, रामगोपाल शर्मा आदि।


उत्तराखंड में हुआ मंदसौर जिले की शिक्षिका ललिता सिसोदिया का सम्मान

श्रीमती सिसौदिया ने पीपीटी के माध्यम से उत्कृष्ट नवाचारों को सबके सम्मुख प्रस्तुत किया

मन्दसौर। उत्तराखंड के हरिद्वार में 17 राज्यो से आये शिक्षक और शिक्षिकाओं का सम्मान समारोह आयोजित हुआ जिसमे सभी राज्यो में म.प्र. में सबसे अव्वल रहा मप्र का मन्दसौर जिला। वहां पर उत्तराखंड प्रदेश सरकार के केबिनेट मंत्री मदन कौशिक द्वारा  शिक्षिका ललिता सिसोदिया को गोल्ड मेडल, स्मृति चिन्ह और प्रशस्ति पत्र देकर मंत्री कौशिक सहित दिग्गज हस्तियों द्वारा सम्मानित किया गया।

उल्लेखनीय है की मन्दसौर जिले के शिक्षिका श्रीमती सिसौदिया द्वारा अपने स्कूल में स्वयं के खर्चे से लगभग 2 लाख रूपये खर्च करके स्कूल में पेंटिंग सहित खुद के निजी पैसे से अतिथि शिक्षक को रखा। ऐसे तमाम नवाचार करे गए गरनई स्कूल की शिक्षक ललिता सिसोदिया द्वारा। शासकीय माध्यमिक विद्यालय गरनई मल्हारगढ़,मन्दसौर की आदर्श शिक्षिका श्रीमती ललिता सिसोदिया द्वारा बेसिक शिक्षा के उत्थान के लिए उत्कृष्ट कार्य किये जाने के कारण अभ्युदय वात्सल्यम समिति के संयोजन में नगर निगम हरिद्वार के टाउन हॉल में अखिल भारतीय शैक्षिक विमर्श एवं नवाचारी शिक्षक सम्मान समारोह में सम्मानित किया। जिसमें  देश के कोने कोने से आये हुए नवाचारी शिक्षकों का जमावड़ा रहा।

समारोह में  प्रथम दिवस मुख्य रूप से सुभाषी फाउंडर के अमित जी केंद्रीय हिंदी निदेशालय नई दिल्ली के निदेशक प्रोफेसर अवनीश कुमार डॉ पुष्पा रानी वर्मा, उप निदेशक एस सी ई आर टी डॉ वीरेन्द्र रावत,आदि विद्वान, जनप्रतिनिधि मौजूद रहे जिनके सम्मुख श्रीमती ललिता सिसोदिया ने विद्यालय में किये गए उत्कृष्ट नवाचारों का पी पी टी,वीडियो के माध्यम से प्रस्तुत किया। श्रीमती सिसोदिया के प्रस्तुतिकरण को लोगों ने खूब सराहा। समारोह के मुख्य अतिथि उत्तराखंड के कैबिनेट मंत्री मदन कौशिक ने सिसोदिया के किये गए कार्याे की जमकर सराहना की गयी। सम्मान अभ्युदय वात्सल्य परिवार उत्तराखंड के तत्वाधान में अखिल भारतीय शैक्षिक विमर्श एवं नवाचार शिक्षक सम्मान में राजकीय माध्यमिक शिक्षक शिक्षिका ललिता सिसोदिया ने पुरे  मप्र से प्रतिनिधित्व किया। उत्तराखंड शिक्षा विकास के उपनिदेशक पुष्पा रानी वर्मा ,जिला शिक्षा अधिकारी ललित नारायण मित्र विशिष्ट अतिथि के रूप में शामिल हुए इस सम्मान समारोह के दौरान अध्यक्ष डॉ गार्गी मिश्र कार्यक्रम संयोजक संजय व सह संयोजक ललित गुप्ता के अलावा विभिन्न राज्यों से पहुंचे अन्य शिक्षक भी उपस्थित थे। कार्यक्रम को संबोधित करते हुए मुख्य अतिथि शहरी विकास मंत्री मदन कौशिक ने कहा कि राजकीय शिक्षकों से सरकार को बहुत अपेक्षाएं हैं सरकार शिक्षकों की समस्याओं को दूर करने को गंभीर हैं और श्रीमती ललिता सिसोदिया शिक्षिका के द्वारा किए गए कार्य से अति प्रसन्न हुआ और हमेशा उनके सहायता के लिए तत्पर रहेंगे। शिक्षिका के द्वारा किए गए उल्लेखनीय कार्यों से प्रसन्न होकर सर विकास मंत्री मदन कौशिक द्वारा शिक्षिका की प्रशंसा की गई और कहा गया कि ऐसे अच्छे काम करने वाले शिक्षकों के प्रति हम हमेशा सहयोग करने के लिए तत्पर। नगर निगम के टाउन हाल में समिति की अध्यक्ष डॉ गार्गी मिश्रा, मदरहुड विश्वविद्यालय के कुलसचिव प्रोफेसर नरेंद्र शर्मा, उत्तरांचल पर्वतीय कर्मचारी शिक्षक संगठन के प्रांतीय अध्यक्ष मनोहर कुमार मिश्र, कार्यक्रम संरक्षक व जिला अध्यक्ष केसी शर्मा, ग्रीन स्कूल के निदेशक वीरेंद्र रावत, निदेशक केंद्रीय हिंदी भाषा के निदेशालय और चेयरमैन वैज्ञानिक शब्दावली आयोग नई दिल्ली के डॉ अवनीश कुमार ,शुभासी फाउंडर के अमित गुप्ता केंद्रीय हिंदी निदेशालय नई दिल्ली के निदेशक प्रोफेसर अवनीश कुमार डॉ पुष्पा रानी वर्मा उपनिदेशक डॉ वीरेंद्र रावत सहित संजय व्यास थे।


सक्रिय खाद्य एवं औषधि विभाग के अमले ने की कार्यवाही

चार संस्थानों से लिए सेम्पल

मंदसौर। जिले के सक्रिय खाद्य एवं औषधि विभाग ने लगातार कार्यवाही के अंतर्गत बुधवार को मंदसौर नगर में कार्यवाही की। जिसके अंतर्गत चार संस्थानों से विभाग द्वारा सेम्पल लिए गए है। जिन्हें आगे कार्यवाही हेतु भेजा जाएगा।

खाद्य एवं सुरक्षा अधिकारी कमलेश जमरा ने बताया कि विभाग का लक्ष्य हैं कि आमजन को अच्छी से अच्छी खाद्य सामग्री मिले और उनके स्वास्थ्य के साथ कोई खिलवाड़ न हो। इसको ध्यान में रखते हुए विभाग द्वारा लगातार कार्यवाही की जाती है। बुधवार को नगर के चार संस्थानों से सेम्पल लिए गए है। जिसमें औद्योगिक क्षेत्र जग्गाखेड़ी स्थित सुरज मिल्क एण्ड मिल्क प्राॅडक्ट्स से फूल क्रिम दूध, शारदा गृह उद्योग से मिर्च पाउडर, नाहटा चैराहा स्थित बाम्बे चैपाटी आईस्क्रीम से बादाम शेक और दशपुर कंुज उद्यान के बाहर से पालीवाल फाफड़ा एवं खिचड़ी सेन्टर से साबुदाने की खिचड़ी का सेेम्पल लिया गया। श्री जमरा ने बताया कि सभी संस्थानों के संचालकों को अपने यहां स्वच्छता बनाए रखने के स्पष्ट निर्देश दिए गए है।
श्री जमरा ने बताया कि खाद्य विभाग की कार्यवाही आगे भी इसी तरह जारी रहेगी।


म.प्र. कम्प्युटर ऑपरेटर महासंघ द्वारा कलेक्टर के समक्ष विभिन्न मांगों को लेकर ज्ञापन सौंपा गया

मंदसौर। दिनांक 08 अप्रेल 2019 को मुख्य सचिव, म.प्र. शासन भोपाल के साथ सम्पन्न हुई बैठक में गैर मान्यता प्राप्त महासंघ के बैनर तले म.प्र. कम्प्युटर ऑपरेटर महासंघ द्वारा भी ज्ञापन दिया गया था। मुख्यमंत्री श्री कमलनाथ द्वारा स्पष्ट आदेश दिये गये थे कि इनके ज्ञापनों पर कार्यवाही की जावे। ज्ञापन में मुख्य बिन्दु यह भी रखा गया था कि किसी भी कम्प्युटर ऑपरेटर को सेवा से पृथक ना किया जावे। किन्तु अत्यंत खेद का विषय हैं कि ऑपरेटरों को आज दिनांक तक विभागों द्वारा लगातार निकाला जा रहा हैं, जिसके कारण समस्त कम्प्युटर ऑपरेटरों में रोष बढता जा रहा है। ज्ञापन में उल्लेख किया गया कि सभी विभागों से निकाले गए कम्प्युटर ऑपरेटरों को 10 दिन के भीतर पुनः सेवा में लिया जावे एवं भविष्य में किसी भी ऑपरेटर को शासकीय/अर्द्धशासकीय विभागों, संस्थाओं, निगमों, मण्डलों, सहकारी संस्थाओं आदि से बिना ठोस कारण के कार्य से पृथक नहीं किया जावे। ज्ञापन में लिखा गया कि सेवा से पृथक कम्प्युटर ऑपरेटरों को 10 दिवस के अंदर पुनः सेवा में वापस नहीं लिया जाता हैं एवं दिए गए ज्ञापन के 38 बिन्दुओं पर कोई ठोस कार्यवाही नहीं की गई तो मध्यप्रदेश कम्पयुटर ऑपरेटर महासंघ द्वारा दिनांक 17.06.19 से सामुहिक अवकाश लेकर मध्यप्रदेश के समस्त कम्प्युटर ऑपरेटर कार्य रोकते हुए ‘‘टोटल शट डाउन’’ (हडताल) का प्रदेश व्यापी आयोजन किया जावेगा जिसकी समस्त जवाबदारी शासन की होगी एवं अपील करेंगे कि लोकल स्तर के चुनावों पर किसी भी प्रकार के अस्थाई कम्प्युटर ऑपरेटरों से कार्य नहीं कराया जावे। उक्त आशय की जानकारी सह मीडिया प्रभारी महेन्द्र सालवी म.प्र. कम्प्युटर ऑपरेटर महासंघ जिला ईकाई मंदसौर द्वारा दी गई।


गायत्री जयन्ती पर बांटे 101 जल पात्र : अभियान बना पक्षियों का सहारा

मन्दसौर। इस वर्ष गर्मी पुरे देश में भयानक कहर बरपा रहा है। मनुष्यए पशु.पक्षी सभी त्राहिमाम कर रहे है। तापमान कहीं.कहीं तो 50 डिग्री को पार चुका है। अन्धाधुंध जंगल काटे जा रहे है एवं सीमेंट क्रांकीट के जंगल खड़े किये जा रहे है। पर्यावरण को हो रहे बेतहाशा नुकसान के कारण आने वाले समय में इससे भी कही ज्यादा भीषण गर्मी का प्रकोप झेलना पड़ेगा। इस कारण से भयानक जल संकट पैदा होगा। इंसानों का जीना दुर्भर हो जायेगा एवं पशु.पक्षियों का अस्तित्व खतरे में पड़ जायेगा। पिछले दिनों बदनावर के पास जंगल में पानी के अभाव में प्यासे कई मोर तड़फ.तड़फ कर मर गये। बेजुबाँ  पक्षियों की इस पीड़ा को गायत्री परिवार ने समझा है एवं पक्षी बचाओं आंदोलन चलाया जा रहा है। अभियान के तहत गायत्री जयंती के पावन पर्व पर गायत्री शक्तिपीठ ;मंदसौरद्ध एवं गोवर्धननाथ मंदिर पर 101 जल पात्र निःशुल्क बांटे गये।

यह जानकारी देते हुए अभियान के संयोजक जगदीश पोरवाल ने बताया कि दस पूर्व छोटे से गाँव पिपलियामंडी से प्रारंभ हुआ पक्षी बचाओं आंदोलन आज समाचार पत्रों द्वारा दिये गये भरपुर सहयोग से एवं सोशल मीडिया के माध्यम से पुरे देश भर में फेल चुका है। सैकड़ों समाजसेवीए धार्मिक एवं सामाजिक संगठन घर.घर जाकर हजारों जल पात्र निःशुल्क बांट रहे है। सेवा के इस महा अभियान में उठे हजारों हाथए बेजुबाँ प्यासे पक्षियों के बचाने में मददगार साबित हो रहे है। सभी से निवेदन है कि अपने घर की छत पर पक्षियों के लिये एक जलपात्र अवश्य रखे।


कांग्रेस सेवादल भोपाल संभागीय प्रभारी श्री राठौर ने नवीन पदाधिकारियों की नियुक्ति के लिये अपना प्रतिवेदन प्रस्तुत किया

मन्दसौर। अखिल भारतीय कांग्रेस सेवादल के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री लालजी भाई देसाई एवं  मध्यप्रदेश कांग्रेस सेवादल के प्रदेश अध्यक्ष श्री सत्येन्द्र यादव ने मध्यप्रदेश कांग्रेस सेवादल के पुनर्गठन के लिये श्री कांतिलाल राठौर एडव्होकेट को भोपाल संभाग का प्रभारी नियुक्त किया गया था। जिस पर संभाग प्रभारी श्री कांतिलाल राठौर ने भोपाल संभाग के जिलों का दौरा कर वरिष्ठ कांग्रेस नेताओं, पूर्व सांसद, पूर्व मंत्री, वर्तमान मंत्री, विधायकों, स्वतंत्रता संग्राम सैनानियों एवं सामाजिक समाजसेवियों से सम्पर्क कर कांग्रेस सेवादल के नवनियुक्त जिलाध्यक्षों के संबंध में विस्तृत चर्चा की एवं जानकारियां प्राप्त की। तदुपरान्त भोपाल शहर, भोपाल ग्रामीण, रायसेन, विदिशा, राजगढ़, सिहोर जिले का भ्रमण कर कांग्रेस सेवादल के पदाधिकारियों से सम्पर्क किया। जिसकी विस्तृत रिपोर्ट प्रतिवेदन सहित मध्यप्रदेश कांग्रेस सेवादल के कार्यालय प्रभारी श्री सुभाष देशमुख को मध्यप्रदेश कांग्रेस कमेटी के कार्यालय में भोपाल संभाग का प्रतिवेदन नवीन पदाधिकारियों हेतु प्रस्तुत किया। इस दौरान कांग्रेस सेवादल के इंदौर के पूर्व जिलाध्यक्ष एवं पर्यवेक्षक श्री सच सलूजा भी उपस्थित थे।


 

About The Author

I am Brajesh Arya

Related posts