Breaking News

मंदसौर: भगवान पशुपतिनाथ को लगा 56 भोग का प्रसाद, किया विशेष श्रृंगार

मंदसौर. सावन माह समाप्ति के बाद प्रतिवर्षानुसार अष्टमुखी भगवान पशुपतिनाथ को 56 भोग लगाया गया और भगवान का अद्भुत श्रृंगार भी किया गया।  भगवान पशुपतिनाथ मंदिर व्यंजनों की महक से सराबोर हुआ। भगवान को 56 क्विंटल को 56 भोग लगाया गया। तो ध्वजा चढ़ाने के साथ ही महारुद्राभिषेक से लेकर भांग से अभिषेक के साथ भोग महोत्सव मनाया गया। यहां दिनभर में विभिन्न धार्मिक आयोजन हुए। भगवान के इस अलोकिक श्रृंगार और छप्पन भोग को देखने के लिए बड़ी संख्या में शहरवासी यहां पहुंचे। प्रातकालीन आरती मंडल द्वारा 1001 थाल में सजाकर छप्पन पकवानों का भोग भगवान को लगाया गया। इसके साथ ही भगवान भूतभावन की महाआरती की गई।

देर शाम को हुआ भजन संध्या का आयोजन
रविवार को अष्ठमुखी भगवान पशुपतिनाथ महादेव के दरबार में परंपरानुसार इस वर्ष भी प्रातकाल आरती मंडल के तत्वाधान में महारूद्राभिषेक के साथ 56 क्विटंल के 56 भोग का नैवेघ 1001 थाल में सजाकर भगवान को लगाया गया। मंदिर शिखर पर घ्वजा चढाई गई। साथ ही मंदिर परिसर में स्थित अन्य मंदिरों में भी ध्वजा चढाई गई। सुबह से ही रिमझिम बारिश के बीच भक्तों का सैलाब दर्शन करने और आयोजन में भाग लेने के लिए उमडा पडा। देर शाम यहा भजन संध्या का भी आयोजन शुरू हुआ।

आरती मंडल के अध्यक्ष दिलीप शर्मा, प्रवक्ता उमेश परमार ने बताया कि रविवार को सुबह 9 बजे से बारिश के बीच पूजन.अर्चन पंडित राकेश भट्ट के आचार्यत्व में 51 पंडितों की मंडली द्वारा शुरू करवाया गया। इसके बाद महारूद्रीपाठ कर महाअभिषेक किया गया। इसमें यजमान बंसीलाल काबरा, अजय बसेर, सुशील अग्रवाल, प्रवीण शर्मा अभिषेक मे सम्मिलित हुए। इसके साथ अनेक धर्मालुजनों ने भी अभिषेक विधी में भाग लिया। भगवान का दुध, दही, घी, शक्कर, शहद से बने पंचामत एवं भाग से भगवान का अभिषेक किया। अभिषेक के दौरान मंदिर परिसर स्थित भी मंदिरो के शिखर पर ध्वजा भी चढाई गई।

इसके बाद पश्चात हवन शुरू हुआ। इसमें यजमान के रूप में योगेश, स्मिता पालीवाल, प्रवीण अग्रवाल, संजय पंवार, महेश परमार, बंशीलाल काबरा, ज्योतिजाजपुरिया, सचिन जोशी, चित्राश पालीवाल थे। उन्होंने बताया कि भगवान का श्रंगार कर भगवान को भव्य 56 क्विंटल का 56 भोग नैवेघ थाल में सजाकर गर्भगृह में लगाया गया। हवन की पुर्णाहुति के बाद हवन आरती हुई और फिर पशुपतिनाथ महादेव की आरती की गई। इसमें भक्त शामिल हुए। इसके बाद प्रसाद बांटा गया।

सुखे मेवे भांग फूलों से सजे पशुपतिनाथ
भगवान पशुपतिनाथ सुखे मेले और भांग के साथ फूलों से श्रृंगार किया गया। उमेश परमार ने बताया कि पशुपतिनाथ महादेव का छप्पन भोग महोत्सव में अभिषेक के बाद इत्र, चंदन, अबीर, गुलाब, कंकु, अक्षत के साथ ही भव्य सूखे मेवे से श्रृंगार किया गया। भगवान के ललाट पर भाग लगाई गई और सूखे मेवे जिनमें बादाम, काजू, इलायची, अंजीर, मखाने, अनार दाना का श्रंगार तो किया गया। साथी माला में भी सूखे मेवे का इस्तेमाल किया गया। खोपरे मखाना से निर्मित माला चढ़ाई गई। इसके बाद छप्पन भोग का नैवेद्य लगाया गया।

छप्पन में भोग में यह मिठाईयां रही शामिल
मंदिर गृभग्रह में नैवेघ र्में मक्खन बडा, केसर रोल, मोहनभोग, चंद्रकला, मोतीपाक, मेसुरपाक, ईमरती, खोपरापाक, काला जामुन, भांग पेडे, मटेडी, घेवर, मालपुए, रबडी, मिठी कचोरी, बेसन चक्की, उडद की फिनी, सालमी पेडे, बेसन पपडी, अजनवाईन पपडी, खट्टा मिट्टा मिक्कर, खीर, पुडी, दाल, बिडे सहित 15 तरह के छोटे बडे लड्डु एवं भांग के विशेष पेडे सजाए गए। भजन संध्या भी हुई। मंडल के अध्यक्ष दिलीप शर्मा, प्रवक्ता उमेश परमार ने बताया कि छप्पन भोग के नैवेघ का भोग लगाने के बाद आरती हुआ। और भजन संध्या का आयोजन मंदिर परिसर में शुरू हुआ।

About The Author

I am Brajesh Arya

Related posts