Breaking News

मंदसौर में स्वाइन फ्लू ने दी फिर दस्तक : 3 नमूने पॉजीटिव

मंदसौर। जिले में स्वाइन फ्लू का खतरा अब और भी ब़ढ़ता जा रहा है। मंगलवार को भोपाल भेजी गई 13 स्वाइन फ्लू संदिग्धों के नमूनों की जांच रिपोर्ट गुरुवार को जिला अस्पताल आ गई। इसमें नृसिंहपुरा निवासी मां-बेटे व संजीत नाका क्षेत्र की एक महिला को स्वाइन फ्लू पॉजीटिव पाया गया है। रिपोर्ट मिलते ही स्वास्थ्य अमला नृसिंहपुरा से मां-बेटे को जिला अस्पताल ले आया। संजीत नाका की महिला का उपचार उदयपुर में चल रहा है। अस्पताल प्रबंधन ने तीनों ही मरीजों की हालत ठीक होने की बात कही है।

जिले के पांच लोगों की स्वाइन फ्लू से मौत के बाद वैसे ही लोगों में दशहत का माहौल है। अब गुरुवार को भोपाल से आई जांच रिपोर्ट में शहर में दो महिलाओं सहित एक बालक को स्वाइन फ्लू पॉजीटिव आने के बाद जिला अस्पताल का अमला हरकत में आ गया। मंगलवार को 13 स्वाइन फ्लू से मिलते-जुलते लक्षणों वाले मरीजों के नमूने भोपाल लैब में भेजे थे। 3 सितंबर को नृसिंहपुरा की एक महिला की स्वाइन फ्लू से मौत हुई थी उसके परिवार की 24 वर्षीय महिला व उसके 2 वर्षीय पुत्र को स्वाइन फ्लू पॉजीटिव मिला है। इसके अलावा संजीत नाका क्षेत्र में कोठारी कॉलोनी की एक महिला को भी स्वाइन फ्लू पॉजीटिव आया है। महिला पहले से ही उदयपुर में उपचाररत है। रिपोर्ट आने के बाद डॉ. डीके शर्मा, डॉ. केएल राठौर, डॉ. सुरेश सोलंकी, डॉ. पीपी सोनी, डॉ. एसएल बाफना व क्षेत्र की एएनएम गुरूवार दोपहर में नृसिंहपुरा पहुंचे। कोठारी कॉलोनी में भी स्वास्थ्य दल ने पहुंचकर महिला के परिजनों के स्वास्थ्य की जांच की। यहां कोई भी सर्दी-खांसी से पीड़ित नहीं मिला है। नई आबादी क्षेत्र में भी स्वास्थ्य परीक्षण किया गया।

 

28 दिन में हो गई पांच की मौत

जिले में मई में एक महिला की मौत के बाद दो माह तक स्वाइन फ्लू का एक भी मामला सामने नहीं आया। अगस्त के बाद के 28 दिनों में 11 मरीजों को स्वाइन फ्लू पॉजीटिव मिला है। इनमे 5 (दो पुरुष, तीन महिलाओं) की मौत हो गई। शेष 6 में बोलिया निवासी महिला, मंदसौर की युवती एवं नावली के एक व्यक्ति उपचार के बाद स्वस्थ हो चुके हैं। गुरुवार को मिले तीन मरीजों में से एक महिला का उदयपुर एवं मां-बेटे को जिला अस्पताल के स्वाइन फ्लू वार्ड में उपचार के लिए चल रहा है।

 

इस वर्ष स्वाइन फ्लू से कब-कब हुई मौतें

26 मई को धलपट में एक महिला की मौत।

15 अगस्त को बोलिया के एक व्यक्ति की कोटा में मौत।

26 अगस्त को मंदसौर के एक युवक की अहमदाबाद में मौत।

26 अगस्त को गांधीसागर की महिला की कोटा में मौत।

3 सितम्बर को नृसिंहपुरा की एक महिला की उदयपुर में मौत।

 

इन लक्षणों को पहचानें और सावधानी रखे

लक्षण

– सर्दी, जुकाम, खांसी, गले में खराश, सिर दर्द, बुखार के साथ सांस लेने में तकलीफ होना।

– लक्षण दिखते ही 24 घंटे के भीतर उपचार प्रारंभ करें। देरी घातक हो सकती है।

– स्वाइन फ्लू संक्रमण नाक, मुंह एवं गले से आरंभ होकर फेफड़ों तक पहुंचकर जानलेवा हो जाता है।

 

सावधानिया

– खांसते, छींकते समय मुंह पर रूमाल रखें।

– संक्रमण होने पर एवं संक्रमण से बचाव के लिए भीड़-भाड़ से दूर रहें।

– किसी वस्तु, व्यक्ति एवं स्वयं के चेहरे को छूने से पहले एवं बाद में साबुन से हाथ धोएं।

– संक्रमित व्यक्ति से लगभग 1 मीटर की दूरी बनाए रखें।

 

सावधानी रखें

13 नमूने भेजे गए थे जिनमें से दो महिलाओं व एक बच्चे की रिपोर्ट पॉजीटिव आई है। एक महिला व उसके बच्चे जिला अस्पताल में उपचार चल रहा है एक महिला उदयपुर में उपचाररत है सभी की स्थिति अच्छी है। स्वाइन फ्लू की रोकथाम के लिए जिला अस्पताल एवं सभी स्वास्थ्य केंद्रों पर पर्याप्त दवाई है। नृसिंहपुरा एवं कोठारी कॉलोनी में स्वास्थ्य सर्वे कराया गया है। जिले में सभी दूर सर्वे चल रहा है। लोगों को भी स्वास्थ्य के प्रति सावधानी बरतना चाहिए। – डॉ. महेश मालवीय, सीएमएचओ

स्वाइन फ्लू के लक्षण, बचाव के उपाय और इलाज (Please Share this post)

About The Author

I am Brajesh Arya

Related posts