Breaking News

मंदसौर में हेलीकाप्‍टर से रोजड़ों को घेरा गया, 12 पकड़ाए

ग्राम ऐरा में रोजड़े (नीलगाय) पकड़ने के अभियान में तीसरे दिन शनिवार को हेलिकॉप्टर की भी सहायता ली गई। इससे 27 नीलगायें पकड़ीं। 12 ट्रक में आ गईं। बाकी भाग गईं। इस प्रकार दो दिन में वन विभाग ने 21 नीलगायें पकड़कर गांधीसागर अभयारण्य क्षेत्र में छोड़ी हैं। अब नीलगायों को बोमा की तरफ आकर्षित करने के लिए अभियान को रोक दिया गया है। यह फिर 24 दिसंबर को चलाया जाएगा।

शनिवार सुबह 9 बजे से ऐरा के पास जंगल में नीलगाय पकड़ने की शुरुआत की गई। सुबह 11.20 बजे ग्राम अरनिया मामादेव में बने हेलिपेड से पायलट कैप्टन अनूप दीक्षित ने उड़ान भरी। हेलिकॉप्टर ने बोमा के आसपास करीब 10 वर्ग किमी क्षेत्र में घूमते हुए 12-15 रोजड़ों के दो झुंड को बोमा की तरफ हांकना प्रारंभ किया। कम ऊंचाई पर उड़ रहे हेलिकॉप्टर की आवाज और तेज हवा से रोजड़ों के झुंड बोमा की तरफ भागे। दोपहर 12.28 बजे दोनों झुंड को बोमा के पास पहुंचाया गया। यहां से घुड़सवार दल ने कमान संभाली। 15 रोजड़ों का झुंड तो दूसरी तरफ भाग गया। वन विभाग के ट्रक में 12 रोजड़ों के झुंड पहुंच गया। इनको दो ट्रक में भरकर गांधीसागर अभयारण्य छोड़ा गया। जनसंपर्क अधिकारी एसएल यादव ने बताया कि क्षेत्र में निरंतर मनुष्यों की सक्रियता से रोजड़े परेशान होने लगे हैं। अब उन्हें बोमा तक लाना मुश्किल होगा। इसलिए 23 दिसंबर तक अभियान रोकने का निर्णय लिया है। अब 24 दिसंबर से अभियान की शुरुआत की जाएगी।

About The Author

I am Brajesh Arya

Related posts