Breaking News

मंदसौर रोटरी आहार केन्द्र के 25 वर्ष पूर्ण हुए

जब अपने घर में कोई सदस्य बीमारी के कारण जिला चिकित्सालय में भर्ती हो तो परिवार में काफी परेशानी आ जाती है। खासतौर से जब ग्रामीण अंचल से लोग अपने रिश्तेदार को चिकित्सालय में भर्ती करें तो उनकी परेशानी बहुत बढ़ जाती है। मरीज की देख-रेख व उपचार के साथ-साथ परिजनों को अपने भोजन की व्यवस्था भी करनी होती है। कई बार तो परिजन अस्पताल परिसर में ही भोजन बनाते है। इस परेशानी से परिजनों को राहत दिलाने के लिये मंदसौर की अग्रणी समाजसेवी संस्था रोटरी क्लब के पदाधिकारियों ने एक निर्णय लिया कि रोटरी क्लब मरीजों के परिजनों को कम दर पर शुद्ध सात्विक भोजन उपलब्ध करायेगा। रोटरी क्लब के इन निर्णय में सहभागी बने स्व. श्री किरणमल मित्तल जिन्होंने उनकी पत्नी स्व. श्रीमती लीलादेवी मित्तल की स्मृति में रोटरी आहार सेवा केन्द्र चलाने हेतु स्वेच्छा से आर्थिक सहयोग प्रदान किया। इस रोटरी आहार सेवा केन्द्र की स्थापना जिला चिकित्सालय परिसर में गनेड़ीवाल हॉस्पिटल के एक कक्ष में की गई तथा 30 अक्टोबर 1991 से रोटरी आहार सेवा केन्द्र से भोजन के पेकेट का वितरण आरंभ कर दिया गया। भोजन पेकेट की कीमत मात्र दो रूपये रखी गई। इस केन्द्र से 1991 से आज तक निरंतर मात्र दो रूपये की दर पर शुद्ध सात्विक भोजन पेकेट सुबह-शाम भर्ती मरीजों के परिजनों हेतु प्रदाय किये जा रहे हैं। सन् 1991 से इस केन्द्र का सफल संचालन किया जा रहा है। लगातार 25 वर्षां से संचालित इस केन्द्र के संचालन में रोटरी क्लब के पूर्व अध्यक्ष रोटे. महेन्द्र धाकड़ का सक्रिय योगदान रहा है। रोटे. धाकड़ प्रतिदिन आहार केन्द्र पर स्वयं जाकर वहां की व्यवस्था सुचारू रूप से संचालित करने में रूचि लेते हैं। रोटरी क्लब के पदाधिकारियों व सदस्यगण आहार केन्द्र के संचालन में तन-मन-धन से अपना योगदान देते हैं। रोटरी आहार सेवा केन्द्र के सफल संचालन, उद्देश्य व मरीजो के परिजनों को राहत दिलाने में क्षेत्र के दानदाता भी अपनी जिम्मेदारी निभा रहे हें। कई दानदाता आहार केन्द्र के संचालन हेतु सहयोग के रूप में गेहूँ, दाल, आटा, तेल व नगद धनराशि समय-समय पर देते रहते हैं।
रोटरी क्लब मंदसौर द्वारा संचालित आहार सेवा केन्द्र से प्रेरणा लेकर कई अन्य शहरों में रोटरी क्लबों जिनमें प्रमुख रूप से सागर, रतलाम, खरगोन, नीमच आदि स्थानों पर भी आहार सेवा केन्द्र चलाये जा रहे हैं। रोटरी क्लब मंदसौर के आहार सेवा प्रकल्प की राज्य प्रशासनिक स्तर पर भी सराहना हुई। लगातार 25 वर्षों में मात्र 2 रूपये में शुद्ध सात्विक ताजा भोजन के पेकेट परिजनों को उपलब्ध कराना एक अनुकरणीय कार्य है। 1 मार्च 2016 से भोजन पैकेट 5 रूपये में दिये जा रहे हैं। आहार सेवा केन्द्र से सन् 1992 में कर्फ्यू के दौरान पिछड़ी व गरीब बस्तियों में 6 दिन तक निःशुल्क भोजन पैकेट वितरित किये गये थे। गरीब मरीजों के परिजनों हेतु निःशुल्क भोजन पेकेट स्व. श्रीमती धापूबाई मांगीलाल लसोड़ के सौजन्य से उपलब्ध कराये जाते है। मरीजों के परिजनों को भोजन पेकेट प्राप्त करने हेतु 5रूपये में कूपन दिया जाता है। जिससे वे भोजन पेकेट ले सकते है। कूपन जिला चिकित्सालय परिसर स्थित मेडिकल स्टोर्स पर उपलब्ध रहते है। आहार केन्द्र पर सुबह-शाम ताजा, स्वच्छ भोजन बनता है।
रोटरी क्लब मंदसौर के स्थायी प्रकल्प आहार सेवा केन्द्र के अतिरिक्त अन्य स्थायी प्रकल्प भी संचालित हो रहे हैं। जिनमें प्रमुख है सेरेब्रल पाल्सी केन्द्र, देहदान जनजागरण, मुक्ति (शव) वाहन, पोलिया उन्मूलन, विभिन्न टीकाकरण, हार्ट चेरिटी फण्ड, रक्तदान, स्कूल फर्नीचर, शव रक्षक फ्रीज बाक्स, आक्सीजन सिलेण्डर तथा बस स्टेण्ड पर जल मन्दिर एवं अन्य स्वास्थ्य शिविरों का आयोजन आदि है। रोटरी आहार सेवा केन्द्र से अब तक विगत 25 वर्षों में 593017 भोजन पेकेट वितरित किये गये है जिसमें से 574632 पेकेट मात्र 2 रूपये में वितरित किये गये। जिनमें 10,990 पेकेट निःशुल्क वितरित किये गये हैं। आहार सेवा केन्द्र के 25 वर्ष पूर्ण होने पर रोटरी अध्यक्ष प्रकाश सिसौदिया, सचिव सुधीर लोढ़ा, चेअरमेन महेन्द्र धाकड ने क्षेत्र के सभी सहयोगियों, दानदाताओं का आभार माना है तथा अपील की है कि दानदाता अपने जन्मदिन, विवाह वर्षगांठ व परिजनों की स्मृति में आहार सेवा केन्द्र हेतु मुक्त हस्त से सहयोग प्रदान कर समाजसेवा के पुनीत कार्य में अपना योगदान देवें। रोटरी पदाधिकारियों ने 30 अक्टूबर 2016 रोटरी आहार सेवा केन्द्र के ‘‘रजत जयन्ती’’ वर्ष पर दानदाताओं और सहयोगियों के प्रति कृतज्ञता व्यक्त की है। मानव सेवा के इस पुनीत कार्य को निरंतर जारी रखने का संकल्प दोहराया है।

About The Author

I am Brajesh Arya

Related posts